निकाय चुनाव दूसरा चरण : पहली बार 30 ड्रोन कैमरों से रखी जाएगी पैनी नजर 

Abhishek PandeyAbhishek Pandey   24 Nov 2017 8:01 PM GMT

निकाय चुनाव दूसरा चरण : पहली बार 30 ड्रोन कैमरों से रखी जाएगी पैनी नजर प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। यूपी में चल रहे निकाय चुनाव के मद्देनजर दूसरे चरण का चुनाव 26 नवम्बर को है। इस चुनाव के लिए लखनऊ पुलिस ने पहली बार एक साथ 30 ड्रोन कैमरों से हवाई सुरक्षा का दावा किया है। पुलिस ने बूथ से लेकर शहर की सीमा तक चौकसी बढ़ा दी है। एसएसपी दीपक कुमार का कहना है कि अराजकतत्वों की हर गतिविधि पर पुलिस की पैनी नज़र होगी। किसी भी घटना की सूचना मिलते ही 5 मिनट के भीतर संबंधित थाने की फोर्स व अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच जायेगे।

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया, निकाय चुनाव के मद्देनज़र 1058 दारोगा, 158 हेड कांस्टेबल, 4254 सिपाही, 5551 होमगार्ड, 13 कम्पनी पीएसी, 1 कम्पनी आरएएफ, 4 कम्पनी सीपीएमएफ तैनात की गयी है। इसके अलावा डीएम और एसएसपी के साथ एक प्लाटून पीएसी तैनात रहेगी। वहीं एडीएम और एडिशनल एसपी के साथ पुलिस की 8 मोबाइल गाड़ी तैनात रहेगी। इसके अलावा एसएसपी ने बताया कि 33 जोनल मोबाइल, 16 सीओ मोबाइल, 119 सेक्टर मोबाइल, 43 थाना मोबाइल, 84 क्यूआरटी, 46 चेक पोस्ट, 84 पिकेट मोबाइल और शहर की सीमा पर 28 सिक्योरिटी चेक पोस्ट लगाये गये हैं।

ये भी पढ़ें:- लखनऊ में यूपी के पहले पुलिस विश्‍वविद्यालय बनाने की चल रही है योजना

एसएसपी दीपक की माने तो पहली बार राजधानी में 30 ड्रोन कैमरे का प्रयोग सुरक्षा के लिए किया जा रहा है। यह सभी ड्रोन कैमरे मतदान केन्द्र से लेकर मतदान केन्द्र के बाहर तक की हर छोटी बड़ी गतिविधियों पर पैनी नज़र रखेगी। किसी भी आप्रिया घटना के तहत ड्रोन कैमरों से मिली फुटेज व फोटो के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। एसएसपी का दावा है कि किसी भी घटना की सूचना मिलते ही 5 मिनट के अंदर संबंधित थाने की पुलिस मौके पर पहुंच जायेगी। उन्होंने लोगों से भी इस बात की अपील की है कि लोग शातिंपूर्ण ढंग से अपने मत का प्रयोग करें। किसी भी स्थिति में बूथ या मतदान केन्द्र पर हंगामा बर्दाशत नहीं किया जायेगा। हंगामा करने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई भी की जायेगी। उन्होंने बताया कि मतदान केन्द्र के अलावा सड़क पर भी पुलिस की टीम गश्त पर रहेगी। ऐसे में वोटरों के साथ होने वाली किसी भी घटना से गश्त कर रही पुलिस टीम निपटेगी।

ये भी पढ़ें-यूपी में 1 दिसंबर से नए अंदाज में दिखेगी ट्रैफिक पुलिस, डीजीपी ने जारी किया निर्देश

आईजी रेंज लखनऊ जय नारायण सिंह ने बताया कि चुनाव आचार संहिता के लागू होने के बाद से लेकर 23 नवम्बर तक पुलिस ने कई तरह के अभियान चलाये, ताकि किसी भी हाल में चुनाव पर कोई असर न पड़े। उन्होंने बताया कि पुलिस ने 4 असलहा फैक्ट्री पकड़ी, 57 तमंचे बरामद किये गये, 4372 लीटर शराब बरामद की गयी, 164 लोगों को अवैध शराब के साथ गिरफ्तार किया गया। 7 शराब की भठ्ठी पकड़ी गयी और मौके से 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया। 1600 लोगों के खिलाफ शांतिभंग की कार्रवाई की गयी। 30 हजार रुपये लोगों को पाबंद किया गया। 14 गैंगस्टर के मामले दर्ज किये गये और इसमें 74 लोगों की गिरफ्तारी की गयी। एनबीडब्लू के तहत 391 लोगों को गिरफ्तार किया गया। एनएसए का एक मुकदमा दर्ज किया गया। 253 लोगों के खिलाफ गुण्डा एक्ट की कार्रवाई की गयी,जिसमें 140 लोगों को जिला प्रशासन ने जिला बदर किया। वहीं 5 जिलाबदर किये गये आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया। 7 इनामी बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। अलग-अलग मामलों में वांछित चल रहे 457 आरोपियों को पकड़ा गया। गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए 27 लोगों की जमानत रद्द करायी गयी। वहीं पूर्व में चुनाव के दौरान हंगामे को लेकर 83 लोगों पर कड़ाई से नज़र रखी गयी।

ये भी पढ़ें:- चित्रकूट रेल हादसा : डॉयल 100 की तत्परता ने बचाई ट्रेन हादसे में हुए घायलों की जान

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि नगर निगम और नगर पंचायत में होने वाले चुनाव को लेकर पुलिस ने सभी जगहों पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है। बावजूद इसके नगर निगम में 80 मतदान केन्द्र संवेदनशील, 93 अतिसंवदेनशील और 52 अतिसंवेदनशील प्लास की श्रेणी में आते हैं। इस पर खास कर पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों की पैनी निगाह होगी। दूसरी ओर नगर पंचायत के तहत 12 मतदान केन्द्र संवेदनशील, 20 अतिसंवेदनशील और 6 अतिसंवेदनशील प्लास हैं।

ये भी पढ़ें-दो रुपए के सिक्के से ट्रेन को रोक कर करते थे लूट-पाट, पुलिस ने किया गिरफ्तार

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top