यूपी : किसान दिवस पर 19 जिलों के 33 किसानों को किया जाएगा सम्मानित

यूपी : किसान दिवस पर 19 जिलों के 33 किसानों को किया जाएगा सम्मानित

कन्नौज/लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चौधरी चरण सिंह की जयंती पर 23 दिसम्बर को उत्तर प्रदेश के 33 किसान मुख्यमंत्री के हाथों सम्मानित होंगे। सूची में कन्नौज और फर्रूखाबाद जिले का दबदबा है।

आत्मा योजना के कन्नौज जिले से परियोजना निदेशक एसए पांडेय बताते हैं, ''जनपद से चार किसानों का चुना गया है। कुल 206 किसानों ने पंजीकरण कराया था। सभी के नाम प्रदेश मुख्यालय में भेजे गए थे। वहीं से ही सूची जारी की गई है।''

उप कृषि निदेशक कन्नौज आरएन सिंह बताते हैं, ''जिन किसानों का नाम प्रदेश स्तरीय सूची में शामिल है उनमें जिले के ब्लॉक छिबरामऊ के विशुनगढ़ की अनीता देवी पत्नी उपदेश कुमार भी हैं। अनीता लघु सीमान्त किसान हैं। हाईस्कूल पास महिला किसान के पास 1.5 हेक्टेयर जमीन है। यह वेस्ट डीकम्पोजर एवं जैव उवर्रक प्रयोग की तकनीकि अपनाती हैं। फसल चक्र में मक्का-ग्लोडियोलस-उर्द, सेम-लहसुन-मूंग और एप्पल बेर करती हैं।

वो आगे बताते हैं, ''दूसरे किसान सौरिख ब्लॉक क्षेत्र के गोरखपुर हरिभानपुर निवासी राजेंद्र सिंह पुत्र मंशुख इंटरमीडिएट पास हैं। इनके पास भी डेढ़ हेक्टेयर जमीन है। इन्होंने वर्मी कंपोस्ट खाद की तकनीक अपनाई। फसल चक्र में सरसों-मूंग-मक्का, गेहूं-परती-मूंगफली और लहसुन-मूंग अपनाते हैं।

ये भी पढ़ें : हर्बल खेती से कमाए लाखों रुपए, सीखिए इस किसान से

उप निदेशक कृषि ने आगे बताया कि तीसरे किसान कौशलेंद्र त्रिपाठी पुत्र रामगोपाल त्रिपाठी निवासी कीरतपुर लाख हसेरन स्नातक पास हैं। इनके पास 0.6680 हेक्टयर जमीन है। इन्होंने भी जैविक उर्वरक का प्रयोग, वर्मी कंपोस्ट एवं वेस्ट डीकंपोजर तकनीक अपनाई है। फसल चक्र में राई-मक्का और उर्द-मूंग शामिल हैं।

चौथे किसान महेंद्र सिंह कटियार निवासी सरायप्रयाग ब्लॉक तालग्राम के हैं, जो एमए उत्तीर्ण हैं। इन्होंने धान-गेहूं का फसल चक्र अपनाया है। 1.25 हेक्टेयर जमीन में महेंद्र ने जैविक उर्वरक का प्रयोग, वर्मी कंपोस्ट एवं वेस्ट डी कंपोजर की तकनीक अपनाई है।


ऐसे होता है चयन

परियोजना निदेशक बताते हैं कि सीडीओ की अध्यक्षता में कमेटी बनी थी। ब्लॉक स्तर के एडीओ कृषि यानि सहायक विकास अधिकारी कृषि को भी रखा गया। पंजीकरण कराने वाले किसानों की फसलों की क्राप कटिंग हुई। जिनका अधिक उत्पादन हुआ उनका नाम सूची में शामिल किया गया। तीन महिलाओं के नाम भी मांगे गए थे। एक महिला का नाम प्रदेश स्तर पर शामिल हुआ है।

यूपी से इन जिलों के ये हैं किसान

बहराइच से अकबाल बहादुर व लालता प्रसाद, बरेली से गुड्डी देवी, बाराबंकी से रामकिशोर पटेल, बुलंदशहर से सुरेंद्र सिंह, हाथरस से प्रेमपाल सिंह, प्रयागराज से विमलेश कुमारी और हीरामणी, रायबरेली से बलभद्र सिंह, श्रावस्ती से संचित राम वर्मा, सहारनपुर से अनुरवि (महिला), सुल्तानपुर से लालबहादुर और इंद्रसेन दुबे, उन्नाव से गीता और एतिराम उल्ला खां, फर्रूखाबाद से रामेंद्र सिंह, अंचित कुमार, वीरेश सिंह और सियाराम, जालौन से कैलाश वर्मा और पारीक्षत, अंबेडकरनगर से चंद्रशेखर वर्मा, विवेक द्विवेदी और रामचेत वर्मा, आगरा से प्रेमनारायन तिवारी, अलीगढ़ से अजय जादौन, लखनऊ से उमाशंकर, ललितपुर से अच्छेलाल और जुझार सिंह, कन्नौज से महेंद्र सिंह कटियार, कौशलेंद्र त्रिपाठी, राजेंद्र सिंह और अनीता देवी शामिल हैं।

ये भी पढ़ें : राजस्थान के किसान खेमाराम ने अपने गांव को बना दिया मिनी इजरायल, सालाना 1 करोड़ का टर्नओवर

पहला पुरस्कार 20 हजार का

पीडी आत्मा बताते हैं कि प्रदेश स्तर पर पहली श्रेणी में शामिल 10 किसानों को 20-20 हजार रूपए, दूसरी श्रेणी में शामिल किसानों को 15-15 हजार और तीसरे स्थान पाने वाले किसानों को 10-10 हजार रूपए का पुरस्कार मिलेगा। साथ में प्रशस्ति पत्र आदि भी दिया जाएगा।

कन्नौज में 72 किसान होंगे सम्मानित

डीडी कृषि ने बताया कि जनपद कन्नौज में कुल 72 किसान सम्मानित किए जाएंगे। कृषि विभाग, मत्स्य विभाग, उद्यान विभाग और पशु पालन विभाग क्षेत्र के उन किसानों का चयन किया गया है जिन्होंने बेहतर काम किया है। पहला स्थान पाने वाले किसानों को आठ-आठ हजार, दूसरा स्थान पाने वालों को पांच-पांच हजार रूपए दिए जाएंगे। साथ ही ब्लॉक स्तर और क्षेत्र में अच्छा काम करने वाले किसानों को दो-दो हजार रूपए का पुरस्कार, शॉल और प्रतीक चिन्ह दिया जाएगा। हालांकि डीडी कृषि का यह भी कहना है कि जिन चार किसानों को प्रदेश स्तर पर मुख्यमंत्री सम्मानित करेंगे उनको मिलने वाली धनराशि या अन्य गोपनीय रखी गई है।

Share it
Top