Top

लखनऊ में भी ब्लू व्हेल की चपेट में आए 4 बच्चे, काउंसलिंग शुरू 

Astha SinghAstha Singh   16 Sep 2017 5:51 PM GMT

लखनऊ में भी ब्लू व्हेल की चपेट में आए 4 बच्चे, काउंसलिंग शुरू ब्लू व्हेल गेम 

गाँव कनेक्शन

लखनऊ। जानलेवा खेल ब्लू वेल लखनऊ में भी बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है। चाइल्ड वेलफेयर कमिटी (सीडब्ल्यूसी) की काउंसलिंग में 4 बच्चे सामने आए हैं जो ब्लू व्हेल गेम खेल रहे थे। अब इन बच्चों की काउंसलिंग की जा रही है। सम्पन्न परिवारों के इन बच्चों की उम्र 9 से 14 वर्ष की है। चारों बच्चों के व्यवहार में परिवर्तन देखा गया ,जिसके बाद मामला सामने आया। इनमें से दो बच्चे तो ऐसे हैं जिन्होंनें गेम खेलने के दौरान खुद की बाहों को घायल भी कर लिया है।

उन लोगों के पास पिछले एक हफ्ते में 4 मामले आ चुके हैं। एक 8वीं क्लास का बच्चा जो उसके हाथ में ब्लू व्हेल का चित्र बना रहा था उसके एक रिश्तेदार ने उसे पकड़ लिया। उन्होंने तत्काल चाइल्ड लाइन को संपर्क किया और चाइल्ड लाइन ने मामला सीडब्ल्यूसी को भेजा।
सीडब्ल्यूसी लखनऊ की सदस्या संगीता शर्मा

एक 10 वर्ष का बच्चा चौथी कक्षा में पढ़ता है। वह घर की खिड़की के पास अपने हाथों में वेल बना रहा था कि उसके पड़ोसी ने उसे देख लिया। पड़ोसी ने चाइल्ड लाइन को सूचना दी।
कानपुर रोड के रहने वाले एक व्यक्ति ने सीडब्ल्यूसी को बताया कि उसने उसके दोस्त के 12 साल के बेटे के व्यवहार में परिवर्तन देखा।पता किया तो पाया कि बच्चा बिना किसी वजह से बालकनी में टहल रहा है। जब उन्होंने बच्चे से थोड़ी पूछताछ की तो बच्चे ने बताया कि वह ब्लू वेल गेम खेल रहा है। उसने अब तक गेम की पांच स्टेज पार कर ली हैं।
चौथी शिकायत एक पुलिस अधिकारी सीडब्ल्यूसी के सामने लाया। जिसमें उसका 9 वर्ष का भतीजे ने स्कूल जाना बंद कर दिया। जब काउंसलिंग की गई तो पता चला कि बच्चा ब्लू वेल गेम खेलने का एडिक्ट हो गया है।

संगीता शर्मा ने बताया कि बच्चों को काउंसलिंग के लिए काउंसलर के पास भेजा गया है। तीन बच्चों में एक आम बात नजर आई कि उनके माता- पिता वर्किंग हैं और बच्चों के बहुत कम मित्र हैं।

स्कूल्स में जागरूकता अभियान

सीडब्ल्यूसी जिले के स्कूल्स में जागरूकता अभियान चला रहा है और बच्चों के साथ साथ शिक्षकों को भी बता रहा है की इस एडिक्शन से ग्रसित बच्चों को कैसे पहचाने.

क्या है ब्लू व्हेल गेम


यह एक जानलेवा खेल है। इस गेम में एडमिन गेम खेलने वालों को 50 टास्क देता है जो 50 दिनों में पूरा करना होता है। टास्क में संगीत सुनना, डरावनी फिल्में देखना, शरीर में घाव करना और इसका अंतिम टास्क होता है आत्महत्या करना।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.