85 हजार मीट्रिक टन लक्ष्य को देख अधिकारियों को छूट रहे पसीने

85 हजार मीट्रिक टन लक्ष्य को देख अधिकारियों को छूट रहे पसीनेप्रतीकात्मक फ़ोटो

दीप कृष्ण शुक्ल, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। गेहूं खरीद के लिए जिले को मिले लक्ष्य ने खरीद से जुड़े अधिकारियों के पसीने छुड़ा दिया है। एक सप्ताह होने को है और केन्द्रों की अभी तक बोहनी भी नहीं हुई है। यह बात अलग है कि शासन की घुडक़ी को देखते हुए प्रशासनिक अमला बेहद संजीदा नजर आ रहा है लेकिन बीते वर्षो के आंकड़ो पर नजर डाले तो एक आेर जहां लक्ष्य साल दर साल बढ़ता रहा वहीं इसके ठीक विपरीत खरीद का ग्राफ गिरता रहा।

इस बार जिले को 85 हजार मीट्रिक टन गेहूं खरीद का लक्ष्य मिला है। जिसके लिए 7 एजेंसियो के कु ल 46 केन्द्र खोले गए है। यह लक्ष्य बीते वर्ष के लक्ष्य को देखते हुए 3 हजार मीट्रिक टन अधिक है।बतादे कि बीते वर्ष सरकारी गेहूं खरीद निर्धारित लक्ष्य का 4 फीसदी ही रही थी। सभी क्रय केन्द्रों में मात्र 4450 मीट्रिक टन गेहूं ही खरीदा जा सका था। वर्ष 2015 में 35 हजार एमटी लक्ष्य के सापेक्ष 8261 एमटी ही खरीद हुई थी। वर्ष 2014 में तो सरकारी गेहूं खरीद की बहुत ही दयनीय स्थित रही थी। 5170 मीट्रिक टन के लक्ष्य को लेकर शुरु हुई खरीद 3 जून तक 1308.42 एमटीआर पर ही सिमट गयी थी।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मात्र् 2.53 फ़ीसदी के चलते यह वर्ष सबसे कम खरीद के नाम रहा। वर्ष 2013 में भी सरकारी गेहूं खरीद का प्रदर्शन फीका ही रहा था। इस वर्ष जिले में 69 हजार मीट्रिक टन लक्ष्य लेकर शुरु हुई। खरीद 2404.26 मीट्रिक टन पर ही सिमट गयी जो कुल लक्ष्य का 3.48 फीसदी ही रहा। साल दर साल बढ़ते लक्ष्य और घटते खरीद के ग्राफ में इस बार यह कहां तक पहुंचती है यह तो आने वाला वक्त ही तय करेगा। लेकिन एक अप्रैल से शुरु हुई खरीद के लिए जिले में खोले गए 46 केन्द्रों में तभी तक किसी की बोहनी भी नहीं हुई है।

किसान अभी थ्रेसिंग और फसल की कटाई में ही व्यस्त है। 15 जून तक कितने किसान सरकारी केन्द्रों में अपनी फसल लेकर पहुंचते है यह तो तय नहीं है लेकिन बिचौलियो और व्यापारियो ने किसानों से अधिक कीमत और नगद भुगतान सरीखे प्रलोभन देने जरुर शुरु कर दिए है। हालात चाहे जो भी हो लेकिन सूबे के मुख्य मंत्री आदित्यनाथ योगी के निर्देश पर प्रशासनिक अमला संजीदा नजर आ रहा है। सभी केन्द्रों पर खरीद के लेकर माकूल इंतजाम कर लिए गए है।

सात एजेन्सी को दिया लक्ष्य

गेहूं खरीद के प्रभारी व खाद्य एवं विपणन अधिकारी घनश्याम ने बताया कि इस बार गेहूं खरीद के लिए जिले को 85 हजार मीट्रिक टन का लक्ष्य मिला है। खरीद में कुल 7 एजेंसियां लगाई गई है। विपणन शाखा को 15 हजार एमटी, एसएफसी को 2 हजार एमटी का लक्ष्य दिया गया है। इसी तरह पीसीएफ को सबसे अधिक 27 हजार एमटी, कर्मचारी कल्याण निगम को 5 हजार एमटी, यूपी स्टेट एग्रो को 4 हजार एमटी, नैफेड को 4 हजार एमटी तो भारतीय खाद्य निगम को 8 हजार एमटी गेहूं खरीद का लक्ष्य दिया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top