सो रहे लोगों पर किया जानलेवा हमला, पुलिस ने बताया मानसिक रोगी 

सो रहे लोगों पर किया जानलेवा हमला,  पुलिस ने बताया मानसिक रोगी घायल व्यक्ति 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पुलिस अब डॉक्टर भी हो गई, क्योंकि यह बात हम यूं ही नहीं कह रहे, इसके पीछे एक बड़ी वजह यह है कि, एक शख्स ने शुक्रवार तड़के सुबह दो लोगों पर फावड़े से जानलेवा हमला कर दिया। इस हमले में एक शख्स की मौत हो गई, जबकि दूसरे को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ये भी पढ़ें-कैब में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, कंपनी ने 5 साल की दी फ्री राइड गिफ्ट

हत्या जैसी घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी ने खुद को पागल साबित करने के लिए अजीबो-गरीब हरकत करने लगा, जिसे देख पुलिस ने बगैर किसी डॉक्टरी परिक्षण के उसे मानसिक रोगी बता दिया। वहीं विधि जानकारों की माने तो पुलिस के इस बयान से आरोपी को कोर्ट से सजा मिलने की पूरी संभावना है, जिसे नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है। हालांकि आरोपी शख्स को गिरफ्तार कर अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया है।

मामला गोमती नगर के विपुल खंड का है, जहां गुरुवार-शुक्रवार की रात पदम नाम के एक शख्स ने सो रहे दो लोगों पर फावड़े से जानलेवा हमला कर दिया। एक निर्माणाधीन मकान में दो मजदूर अजय और राजकुमार सो रहे थे। देर रात पदम इस मकान में घुसा और फावड़े से इन पर वार कर दिया।

ये भी पढ़ें-ये है ग्रामीणों का नि:शुल्क बिग बाजार

इस हमले में अजय की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि राजकुमार गंभीर रूप से घायल हो गया। इसी मकान में कुछ और मजदूर भी सो रहे थे। चीख-पुकार सुन उनकी नींद टूटी, तो उन्होंने आरोपी पदम को दौड़ा लिया। इसके बाद खुद को उनसे बचाने के लिए पदम पास के ही एक खाली पड़े मकान में दीवार फांद कर चला गया। यहां उसने छत पर अपना डेरा जमा लिया। हंगामा सुनकर आसपास के लोगों ने पुलिस को पूरे मामले की सूचना दी। जब पुलिस मौके पर पहुंची तो आरोपी उन पर गुम्मे (पत्थर-ईंट) से हमला करने लगा। साथ ही, वो पुलिस को चिढ़ाने के लिए सीटी बजाने के साथ ही हूटिंग भी कर रहा था। पुलिस ने उससे कहा कि तुम हमें अपनी परेशानी बताओ। हम उसे दूर करेंगे। इस पर आरोपी को पुलिस पर भरोसा हुआ और वो छत से नीचे उतर आया। पुलिस ने उसे तत्काल गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है और उसके इस वारदात को अंजाम देने की कारणों का पता लगा रही है।

उधर इस संबंध में एसपी नार्थ अनुराग वत्स ने कहा कि, ''मारने वाला व्यक्ति मानसिक रूप से ठीक नहीं लग रहा है। उसे काबू में करने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। जिसमें उसे भी कुछ चोटें आई हैं। पुलिस हिरासत में उसका इलाज चल रहा है। उसने बताया है कि वह नेपाल का रहने वाला है। मामला दर्ज किया जा रहा है। वहीं इस संबंध में मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. अभिनव पाण्डेय ने बताया कि, मानसिक रोगी का कंट्रोल अपने ऊपर से हट जाता है। उसके मन में जो बातें चलती रहती हैं वह उसे हिंसक रूप में अंजाम देने की कोशि‍श करता है। उसे यह नहीं पता कि वह क्या कर रहा है और इसका अंजाम क्या होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि, बगैर पूरी जांच के किसी को मानसिक रोगी घोषित करना भी ठीक नहीं। क्योंकि जो मानसिक रोगी होगा वह इतनी जल्दी काबू में नहीं आ पाता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top