विधवा के पास मकान नहीं, शौचालय में बनाती है खाना 

Shubham MishraShubham Mishra   15 Nov 2017 6:43 PM GMT

विधवा के पास मकान नहीं, शौचालय में बनाती है खाना   फोटो: गाँव कनेक्शन 

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

गुगरापुर (कन्नौज)। प्रधानमंत्री आवास योजना पात्रों की पहुंच से कोसों दूर है। अफसर और जनप्रतिनिधि भले ही कितने कागजी शेर हो जाएं पर जमीनी हकीकत कुछ और ही है। कन्नौज जिले में एक ऐसा मामला प्रकाश में आया है जो हर किसी को सोचने पर मजबूर कर देगा।

जिला कन्नौज मुख्यालय से 28 किमी दूर गुगरापुर ब्लॉक की ग्राम पंचायत भंवरगाढ़ा के मजरा ढिल्लियाभूड़ में आवास न होने की वजह से विधवा सरबती कुछ महीनों पहले मिले शौचालय में अपनी गृहस्थी चला रही हैं। महिला की एक आंख भी खराब है। कच्चा घर था पहले लेकिन कई महीनों से गिरा पड़ा है। चूल्हा भी शौचालय के निकट ही जलता है।

गाँव निवासी सरबती (62 वर्ष) बताती हैं, ‘‘हम बहुत गरीब हैं। मेरे पास न तो जमीन है और न ही रहने को घर। हम अपना खाना शौचालय में रखते हैं और उसी में खाना बनाने का पूरा सामान रखना पड़ता है।’’

ये भी पढ़ें-खबर का असर-गाँव कनेक्शन की चौपाल में उठी आवाज, बनने लगा शौचालय

सरबती आगे बताती हैं, ‘‘रात को सोने के लिए पड़ोसी देशराज के यहां जाती हूं। मैं एक आंख से अंधी भी हूं। एक लड़का था वो भी मर गया और पति भी मर गए हैं। हम अकेले ही जीवन-यापन कर रहे हैं।’’ उन्होंने आगे कहा कि जैसे-तैसे हमारी जिंदगी की गाड़ी खिसक रही है। मेरा नाम बीपीएल सूची में भी है।

गाँव के रामकुमार (40 वर्ष) बताते हैं, ‘‘हमारे गाँव मे बहुत ही ज्यादा भ्रष्टाचार हो रहा है। गरीब को आवास का लाभ नहीं मिल रहा है। हम भी कल डीएम साहब को आवेदन दे आए हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती। अधिकारी जो जांच करने आता हैं वो प्रधान के घर से वापस हो जाते हैं।’’ इसी गाँव की धनदेवी बताती हैं, ‘‘हमारे दो छोटे-छोटे बच्चे हैं। उनको अपनी रिश्तेदारी में छोड़ दिया है, क्योंकि हमारे पास रहने के लिए घर नहीं है।’’ गुगरापुर के बीडीओ जेएन राव ने कहा, ‘‘प्रकरण देखने पर बताएंगे क्या है मामला अगर ऐसा कुछ है तो देखते हैं।”

ये भी पढ़ें-गाँव में खुले में शौच जाना, यानी बीमारी घर लाना

पूर्व में बीडीओ रहे पंकज यादव जांच कर गए थे, लेकिन महिला का नाम बीपीएल सूची में नाम फिर भी नहीं आया। मैंने ग्राम पंचायत के 30-40 लोगों के नाम दिए हैं। सभी को लाभ मिल जाएगा तो मेरे पास से क्या जाएगा।
बृजपाल, प्रधान

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top