पढ़िए, योगी सरकार द्वारा पेश किये गए पहले बजट पर क्या कहते हैं ग्रामीण

पढ़िए, योगी सरकार द्वारा पेश किये गए पहले बजट पर क्या कहते हैं ग्रामीणबजट में करीब एक लाख करोड़ रुपए की योजनाएं गाँवों के लिए 

स्वयं प्रोजेक्ट टीम

लखनऊ। योगी सरकार के पहले बजट में किसानों की कर्जमाफी के साथ-साथ विभिन्न योजनाओं के साथ गाँवों के विकास का पिटारा खोलने पर ग्रामीणों में खुशी की लहर है।

गोरखपुर के गगहा ब्लॉक के बेदुली गाँव निवासी उदयप्रताप सिंह (40 वर्ष) कहते हैं, “प्रदेश की योगी सरकार सही दिशा में काम कर रही है। सरकार अपना वादा निभाने में अभी तक सक्षम है। बस जरूरत है नौकशाहों को आगे आकर सभी योजनाओं को धरातल पर उतारने की।”

योगी सरकार ने अपना वादा निभाया है, अब अफसरों को चाहिए कि वे आगे आकर सरकार की योजनाओं से लोगों को लाभांवित करें। इसके लिए अफसरों को क्षेत्र का दौरा करना होगा।
उपेंद्र राय, चांडी गाँव, गोरखपुर

ये भी पढ़ें : योगी सरकार का पहला बजट, जानिए किसानों और युवाओं को क्या मिला

जौनपुर के बरखेड़ा ब्लॉक के गाँव खमरिया के मुहीत अहमद (45 वर्ष) कहते हैं, “योगी सरकार का यह पहला बजट काफी अच्छा रहा। सबसे बड़ी बात कि किसानों की कर्ज़माफ़ी के लिए जो बजट दिया गया है वह गरीब किसानों के लिए संजीवनी की तरह है।”

सरकार ने किसानों के लिए बहुत बड़ा कर्ज माफ तो कर दिया। हम इसका स्वागत करते हैं, लेकिन जब तक सरकारी विभागों की मनमानी नही रुकेगी कोई फायदा नहीं होने वाला।
समर बहादुर, किसान, गाँव कोतवालपुर, गाजियाबाद

ये भी पढ़ें : योगी सरकार के पहले बजट से खुश पूर्वांचल के किसान, कहा- ठीक से हो क्रियान्वयन

वहीं, वाराणसी के पिंडरा ब्लॉक के छताव ग्राम सभा निवासी मोखनलाल वर्मा (54 वर्ष) को अभी इंतजार है। वह कहते हैं,“ कर्जमाफी की बात दो महीने से सुन रहे हैं। अभी तो सरकार बोल रही है, जब बैंक वाले एनओसी देंगे तभी पक्का होगा।” पीलीभीत के पूरनपुर ब्लॉक के शाहगढ़ निवासी (55 वर्ष) देविंदर सिंह रंधावा का कहना है, “रोज़गार प्रोत्साहन के लिए जो बजट सरकार ने रखा है वह तो केवल दही जमाने के लिए दूध में लगाए जाने वाले जामन की तरह है। 2100 करोड़ के बजट में कितने लोगों को सरकार रोज़गार उपलब्ध करा सकती है।

वहीं, जौनपुर के गौर गाँव निवासी लल्लन सिंह (50 वर्ष) ने बताया, “ग्रामीण रोजगार को बढ़ावा देने के लिए 2100 करोड़ का बजट दिया गया है। इसे और ज्यादा करने की जरूरत थी। हालांकि इसकी व्यवस्था की गई है। इसलिए अच्छा है।”

योगी सरकार के इस बजट से गरीब किसानों को बड़ा फायदा हो सकता है। बजट में कर्जमाफी के साथ-साथ बीमा के लिए अच्छी व्यवस्था की गई है। इससे किसानों की जमीन गिरवी रखने और बेचने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
लाल बहादुर, ग्राम पिलकिछा टोकना, जौनपुर

लखनऊ के निकट प्राथमिक विद्यालय लाजपतनगर में कक्षा 5 में पढ़ने वाले 10 वर्षीय नीरज कहते हैं, “किताबें तो कुछ मिल चुकी हैं। मैम ने कहा है कि कुछ दिन में पूरी मिल जाएंगी। इस बार हम सभी को स्वेटर, जूते-मोजे मिलेंगे, यह जानकर बहुत अच्छा लग रहा है।”

ये भी पढ़ें : योगी सरकार किसानों से खरीदेगी 50 लाख टन धान

वहीं, एटा जिले में ब्याही पूनम सिंह (34 वर्ष) बताती हैं, “अगर भाग्यलक्ष्मी योजना का लाभ हमको मिलेगा तो हम सब महिलाओं के लिए बहुत अच्छी बात होगी। मेरी दो बेटियां पहले से थी, पुत्र मोह के कारण अभी मेरे एक और बेटी हो गई है। अगर बजट में बेटियों के लाभ की बात कही जा रही है तो मुझे अपनी बेटियों की चिंता नहीं है।” हरदोई के अहिरोरी ब्लॉक धीरज दीक्षित कहते हैं, “बजट में ग्रामीण के विकास के लिए बहुत है जिससे मेरे प्रदेश के ग्रामीण खेत्रों का भी विकास शायद हो जाये, ऐसी उम्मीद करते हैं योगी सरकार से।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top