प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर जालसाजी करते पकड़े गए आरोपी

प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर जालसाजी करते पकड़े गए आरोपीएसएसपी दीपक कुमार।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर कैनोपी लगा आम लोगों को कैशलेश ट्रांजेक्शन के बहाने स्वैप कराकर एटीएम कार्ड का क्लोन बना उनकी गाढ़ी कमाई का करोड़ों रुपये उनके बैंक खाते से उड़ाने वाले अंतर्राज्यीय गैंग को दबोच साइबर सेल हजरतगंज ने 7 सदस्यों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पकड़े गए आरोपी क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड की क्लोनिंग करके रकम उड़ाते थे। इन आरोपियों के पास से कार्ड क्लोनिंग के लिए प्रयोग की जाने वाली भारी मात्रा में सामग्री बरामद की है।

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि मुकदमा अपराध संख्या 172/2017 धारा 420/406 थाना अलीगंज, मुकदमा अपराध संख्या 240/2017 धारा 420/406 व 65 आईटीएक्ट थाना इंदिरानगर में दर्ज केस में विवेचकों ने अभियुक्तों की गिरफ़्तारी के लिए तकनीकी मदद मांगी थी। इसके बाद साइबर क्राइम सेल हजरतगंज की टीम को गिरफ़्तारी के लिए लगाया गया था। पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक साइबर क्राइम सेल अरूण कुमार सिंह, उप निरीक्षक विजयवीर सिंह सिरोही, प्रमोद कुमार यादव थाना अलीगंज, कांटेबल फिरोज बदर, साइबर काइम सेल, मो. शरीफ खान, संतोष गौतम, प्रणीश पाण्डेय ने 7 अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

टीम ने अभियुक्तों के कब्जे से एक एसीआर चिप कार्ड डाटा रीडर, 5 एम रवैप मशीन, 2 पीओएस मशीन, 2 ई-पेमेंट मशीन, 2 एमएस आर (मैगनेटिग स्ट्रीप रीडर एण्ड राइटर) 605 कार्ड क्लोन मशीन, 2 लैपटाप, एक कैनोपी (गन्दवा), एक फ्लैक्स और जालसाजी में प्रयुक्त एक जायलो कार (पीबी 29आर 3352) बरामद की है। विवेचना के दौरान पुलिस टीम ने अलीगंज इलाके के लोगों से जानकरी प्राप्त की तो पता चला कि सबसे पहले कुछ अज्ञात लोगों ने प्राधानमंत्री आवास योजना के नाम पर केनोपी लगाकर आम जनता के लोगों से फार्म भरवाकर आनलाईन उनके एटीएम/ डेडिट कार्ड स्वैप करके 25 रुपये का भुगतान ले रहे थे।

पीड़ितों ने पुलिस को बताया कि उन लोगों के फोटो और आईडी उनके पास हैं, जिसकी गहनता से तकनीकी जांच की गयी तो पता चला कि अभियुक्त घटना से पूर्व एवं ठीक बाद चारबाग स्थि बालाजी होटल में थे। जिसके बाद साइबर सेल, हजरतगंज द्वारा बालाजी होटल पर जाकर रूके थे। कर्मचारियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने वहां मुखबिर को निगरानी पर लगा दिया। मंगलवार को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने जाइलो कार से फिर से रुकने के लिए आये सातों अभियुक्तों को दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की पूछताछ में अभियुक्तगणों ने बताया कि वह भीड़-भाड़ वाले इलाको में प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम की फर्जी कैनोपी व अन्य सरकारी योजनाओं के नाम की कैनोपी लगाकर आम जनता के लोगो से प्रधानमंत्री की जनकल्याण योजनाओं के बारे में बताकर उनसे सम्बन्धित योजनाओं के सम्बन्ध फार्म भराकर 25 रुपये का भुगतान ऑन लाइन एटीएम कार्ड/क्रेडिट कार्ड स्वैप करके प्राप्त करते थे। बाद में उन्हीं एटीएम कार्ड/कैडिट कार्ड की क्लोन कापी तैयार कर लोगों के खातो से लाखों रुपयों की आन-लाईन चोरी कर लेते थे।

पूछताछ में अभियुक्तगणों द्वारा बताया गया है कि उनके विभिन्न खातों में लाखो रुपये मौजूद हैं। यह खाता संचालन अभियुक्तगणों के अन्य साथियों फैजल व बब्लू द्वारा किया जाता है जिनकी तलाश अभी जारी है। गिरोह का संबंध मुम्बई, गुजरात एवं कर्नाटक के अन्य गिरोह से भी है। इनका अपराध करने का एरिया देश भर में था।

पकड़े गये अभियुक्त

बारहवीं पास रुपेश शाह उर्फ मोहित गुप्ता उर्फ गोपाल शर्मा पुत्र स्व. नलिन शाह निवासी 1998 शीश महल कटरा कुशालराय कैनारी बाजार चांदनी चौक दिल्ली। बारहवीं पास यश गुप्ता पुत्र अखिलेश गुप्ता निवासी 17 आनन्द नगर भदोही, थाना कोतवाली भदोहीं। बारहवीं पास जसमिन्दर सिंह पुत्र रसपाल सिंह निवासी ग्राम व पोस्ट चंदेआडा जिला मोगा पंजाब। बारहवीं पास संदीप सिंह पुत्र ब्रजेंद्र सिंह निवासी ग्राम व पोरट अबुआर लुधियाना पंजाब।

पीजी इन मार्केटिंग एंड इंडस्ट्रियल रिलेशन डिप्लोमा होल्डर गुरुप्रीत सिंह पुत्र शरणपाल सिंह निवासी मोतासीन नगर नवा शहर पंजाब। बारहवीं पास हरवेन्द्र सिंह पुत्र रशपाल सिंह निवासी ग्राम व पोस्ट बीपी ओसावली गोगा पंजाब। 10वीं पास गुरुमुख सिंह पुत्र अभिजेन्द्र सिंह निवासी ग्राम व पोस्ट बीपी ओसावली लुधियाना पंजाब को गिरफ्तार किया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top