कृषि विशेषज्ञ बदल रहे किसानों की जिंदगी 

कृषि विशेषज्ञ बदल रहे किसानों की जिंदगी कृषि विशेषज्ञ किसानों को नई तकनीक बताते हुए। 

लखनऊ। फसल में कोई रोग लगे या कीट, वैज्ञानिक गाँव में जाकर किसानों को जानकारी देते हैं, यही नहीं भूमिहीन ग्रामीणों को भी रोजगार शुरु करने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

लखनऊ जिला मुख्यालय से लगभग 30 किमी. दूर माल ब्लॉक के नबी पनाह गाँव के किसान सुरेन्द्र कुमार (45 वर्ष) फलदार पौधों की नर्सरी का काम करते हैं। सुरेन्द्र कुमार बताते हैं, “अब समय-समय पर वैज्ञानिक हमें नयी-नयी जानकारियां देते रहते हैं, पहले कलम बांधने में हमेशा पौधा सही नहीं निकलता था लेकिन अब वो जानकारी देते रहते हैं, कि कैसे और किस समय पर कलम बांधनी चाहिए।”

केन्द्रीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक अब गाँव और किसानों की तस्वीर बदल रहे हैं। केन्द्र सरकार की ‘मेरा गाँव मेरा गौरव’ योजना के तहत केन्द्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान के वैज्ञानिकों ने मलिहाबाद व काकोरी के 45 गाँवों को गोद लिया है। इसके लिए वैज्ञानिक गाँव को गोद लेकर किसानों को खेती और पशुपालन के आधुनिक तरीके सिखा रहे हैं।

ये भी पढ़े- चूहों से फसल को बचाने के लिए किसानों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के निर्देश पर देश के सभी संस्थान गाँवों को गोद लेकर वहां पर काम कर रहे हैं। वैज्ञानिक किसानों को खेती के नए-नए तरीके बता रहे हैं। यह सब भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) की फार्मर फर्स्ट (फार्मर फील्ड इनोवेसंश रिसर्च साइंस एंड टेक्नोलॉजी) स्कीम के तहत हो रहा है। इसमें आईसीएआर के सभी संस्थान बेहतरीन तालमेल के साथ काम कर रहे हैं। इसमें केन्द्रीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, केन्द्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान सहित 103 संस्थान और कृषि विवि शामिल हैं। फार्मर फर्स्ट के लिए पूरे देश को कई रीजन में बांटा गया है। लखनऊ के केन्द्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान के 42 वैज्ञानिकों की टीम 45 गाँव में देख रही हैं।

बनायी गई 42 वैज्ञानिकों की टीम

योजना के नोडल अधिकारी डॉ. सुभाष चन्द्र बताते हैं, “42 वैज्ञानिकों की नौ टीम बनायी गई हैं, हर टीम में पांच-पांच वैज्ञानिक हैं, जो किसानों को कृषि के नए नए तरीके बताते रहते हैं। अभी किसानों को लौकी, तोरई, कद्दू, लोबिया, राजमा के पौधे दिए गए थे, जिससे किसानों में सब्जियों और दालों को खाने की आदत बढ़े।” वो आगे कहते हैं, “हम समय-समय पर किसानों से फीडबैक भी लेते रहते हैं, जिससे उनकी जरूरते पता चलती रहें। इसमें बागवानी, गन्ना, गेहूं, धान, दलहन, तिलहन की फसलों की खेती के साथ केंचुआ, मधुमक्खी, बकरी, बत्तख और मछलीपालन की नई तकनीकों की जानकारी दी जा रही है।”केन्द्रीय बागवानी एवं उपोष्ण संस्थान के वैज्ञानिकों के साथ ही भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने 65 गाँवों को गोद लिया है। ये संस्थान किसानों के साथ ही भूमिहीन किसानों व महिलाओं को भी रोजगारपरक प्रशिक्षण दे रहे हैं, जिससे ये लोग अपना खुद का रोजगार शुरु कर पाएं।

ये भी पढ़े- कर्जमाफी योजना का असल मुद्दा : जिन्होंने समय पर चुकाया कर्ज, उन्हीं ने उठाया नुकसान

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top