अखिलेश ने गिनाईं सपा सरकार की उपलब्धियां, योगी सरकार के श्वेत पत्र के बाद दिया जवाब

Manish MishraManish Mishra   20 Sep 2017 7:13 PM GMT

अखिलेश ने गिनाईं सपा सरकार की उपलब्धियां, योगी सरकार के श्वेत पत्र के बाद दिया जवाबपत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

लखनऊ। योगी सरकार के छह माह पूरे होने पर पिछली सरकारों की नाकामियों पर जारी श्वेत पत्र के जवाब में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए जमकर हमला बोला।

सरकार द्वारा जारी श्वेत पत्र में दी गई जानकारियों को पढ़ते हुए बुधवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, "ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जहां हमने काम नहीं किया, सरकार ने हमारे काम के लिए धन्यवाद तक नहीं दिया," आगे चुटकी लेते हुए कहा, "सरकार दूसरों का सपना अपनी आंखों से देखने लगती है।"

ये भी पढ़ें- बीजेपी के श्वेत पत्र पर अखिलेश यादव का पलटवार, कहा- “नवरात्र आए हैं भजन करिए”

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछली सरकारों के 12 साल की कामकाज का लेखाजोखा देते हुए श्वेत पत्र प्रस्तुत कर नाकामियां गिनाईं थीं। अखिलेश यादव ने कहा कि हम जानते हैं कि उनके मुद्दे क्या हैं, मोबाइल और व्हाट्सऐप अफीम है, चुनाव के दौरान कुछ बहकाने के लिए कुछ थमा देंगे।

हमने कई जिलों में मेडिकल कॉलेज बनवाए

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने कई जिलों में मेडिकल कॉलेज बनावाए, गोरखपुर को 500 बेड का अस्पताल दिया। मुख्यमंत्री योगी अपने ही जिले का काम शुरू कर दें।

हमने बिजली कोटा बढ़ाने की बात कही तो मदद नहीं की

अखिलेश ने कहा कि सरकार ने बिजली के वितरण में भेदभाव का आरोप लगाया है, हमने यूपी का कोटा बढ़ाने की बात की तो ध्यान ही नहीं दिया। अब तो दो इंजन की सरकार है, सभी हकीकत जानते हैं कि कितनी बिजली गाँवों में पहुंच रही है।

ये भी पढ़ें- शिक्षामित्रों के समर्थन में पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने किया ट्वीट

धार्मिक शहरों में हमने कराए बहुत कार्य

मथुरा, गोवर्धन और बरसाना और काशी में जितने हमने विकास कार्य कराए हैं, वो देखा जा सकता है। हमने बजट दिया और सीएम ने धर्म का ठेका और ठप्पा लिया है। पर्यटन के लिए हमने काफी कार्य किया लेकिन गरीब लोग झांसे में आ गए।

रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड हमने शुरू किया

समाजवादियों की सरकार ने महिलाओं और लड़कियों को सम्मान देने के लिए रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड की घोषणा की। रानी लक्ष्मी बाई कोष बनाया। इसमें डिंपल यादव और प्रमुख सचिव ने बहुत मदद की। उन्हें बधाई।

जेवर और आगरा एयरपोर्ट की एनओसी नहीं दी

हम आगरा और जेवर में एयरपोर्ट के लिए एनओसी मांग रहे थे, लेकिन केन्द्र ने नहीं दी। जेवर के लिए दोबारा प्रस्ताव भी भेजा। हमने दो अमूल के प्लांट लगवाए मुख्यमंत्री गए और छाछ पीकर आ गए। लेकिन उसे शुरू करें, कन्नौज में ही नहीं, गोरखपुर में ही बनवा दें।

पिछले छह माह में पुलिस का मनोबल गिरा है, हमने यूपी-100 योजना शुरू की, लेकिन उसका क्रियान्वयन सही से नहीं हो रहा। जब सीएम छह माह पर प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे, तब उसी समय अजगैन में सर्राफा व्यवसायी की हत्या हो रही थी। पिछले छह माह में कानून व्यवस्था बिगड़ी है।

ये भी पढ़ें- जनता को समझ में आने लगी भाजपा सरकार की सच्चाई : अखिलेश यादव

पीएचसी-सीएससी से कैंसर इंस्टीट्यूट बनवाए

इंन्फ्रास्ट्रक्चर ही विकास को आगे ले जाएगा। हमने हेल्थ इन्फार्मेशन सिस्टम शुरु किया था। इससे पता चलता कि अस्पतालों में कैसे-कैसे मरीज आ रहे हैं। मेडिकल कॉलेजों के डाक्टरों को पीजीआई जैसी सुविधाएं देने की बात कही थी। कैंसर इंस्टीट्यूट बना रहे थे। पूर्वांचल में सबसे ज्यादा कैंसर से पीड़ित हैं।

लखनऊ मेट्रो और आगरा एक्सप्रेस-वे तय समय में पूरा हुआ प्रोजेक्ट

लखनऊ मेट्रो का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा, यह प्रोजेक्ट तय समय में पूरा हुआ था। देश भर में सबसे तेजी से मेट्रो बनी, इसके लिए मेट्रोमैन श्रीधरन और एमडी बधाई के पात्र हैं।" आगे कहा, "जरूरी नहीं कि जो पेड़ लगाओं उसके फल आप को खाने को मिलें।" सरकार अब दूसरे शहरों में मेट्रो चलवाए, कानपुर का तो प्रस्ताव ही वापस ले लिया।

हमने मेट्रो और एक्सप्रेस-वे से कितना नुकसान उठाया, लेकिन मैंने सोचा था कि सत्ता में आएं न आएं, सड़क को कोई रोक नहीं सकता। "आज मंत्री भी एक्सप्रेस-वे से आते हैं, और खुश होते हैं," अखिलेश यादव ने कहा। हम अपनी रणनीति 23 और 5 अक्टूबर के सम्मेलनों के बाद तय करेंगे।

ये भी पढ़ें-अखिलेश यादव ने कहा- लगता है कि मुझे उत्तर प्रदेश छोड़कर आंध्र प्रदेश में बसना होगा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top