अखिलेश यादव ने कहा- पेट्रोल पंप में डिवाइस के जरिये घटतौली संभव तो ईवीएम में टेंपरिंग क्यों नहीं

अखिलेश यादव ने कहा- पेट्रोल पंप में डिवाइस के जरिये घटतौली संभव तो ईवीएम में टेंपरिंग क्यों नहींउत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

मुख्य संवाददाता

लखनऊ। फेसबुक के माध्यम से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बार फिर से इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने लिखा है कि अगर बिना इंटरनेट के जरिये एक इलेक्ट्रानिक डिवाइस की मदद से पेट्रोल पंप में टेंपरिंग हो सकती है। तो ईवीएम से छेड़छाड़ क्यों नहीं संभव है। अखिलेश यादव के इस बयान पर सोशल मीडिया से लेकर राजनैतिक हलको में एक बार फिर से बहस छिड़ गई है। एक ओर तो लोग इसको अखिलेश की नकारात्मक राजनीति कह रहे हैं और दूसरी ओर अखिलेश समर्थक उनके दावे को सही ठहरा रहे हैं।

राजधानी में सात पेट्रोल पंप पर इलेक्ट्रानिक डिवाइस के जरिये घटतौली का मामला खुला है। एसटीएफ ने इस मसले पर पेट्रोल पंप सीज कर दिये हैं। जिसके बाद में शनिवार को अखिलेश यादव ने फेसबुक पर पोस्ट की। जिसमें उन्होंने कहा कि बिना इंटरनेट के इलेक्ट्रानिक डिवाइस के पेट्रोल फिलिंग मशीन में छेड़छाड़ की गई है। तो ऐसा ईवीएम में क्यों नहीं संभव हो सकता है। फेसबुक पर अखिलेश की पोस्ट आते ही उनकी इसी पोस्ट पर हजारों की संख्या में पक्ष और विपक्ष में टिप्पणियां शुरू हो गईं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

भाजपा प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने इस मसले पर कहा कि, अपनी गलतियों को देखने की जगह ईवीएम पर दोष मढ़ने से कुछ नहीं होगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इसी तरह की गलती की थी। मगर आज उन्होंने आत्मचिंतन की बात कही है।

बहुत जल्द ही अखिलेश यादव को अपनी गलती का अहसास होगा। शलभमणि ने कहा कि सबसे पहले तो अखिलेश जी को ये देखना होगा कि उनके समय में पेट्रोलपंपों पर घटतौली की जाती रही मगर कोई एक्शन नहीं हुआ। मगर योगी सरकार आने के बाद बेइमानी और भ्रष्टाचार के खिलाफ एक अभियान चलाया गया है। जैसा अखिलेश यादव के समय नहीं होता था।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top