अखिलेश यादव : लालच और दबाव डालकर विधायकों को तोड़ रही बीजेपी

अखिलेश यादव : लालच और दबाव डालकर विधायकों को तोड़ रही बीजेपीअखिलेश यादव 

लखनऊ। भाजपा राजनीति की नैतिकता को ताक पर रख कर अलोकतांत्रिक आचरण कर रही है। भाजपा बिहार, गुजरात, गोवा, मणिपुर, और उत्तर प्रदेश में जनप्रतिनिधियों पर दबाव बनाकर दलबदल करा रही है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को बीजेपी पर जमकर हमला बोला।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री सहित कई मंत्री अभी तक विधायक नही बन सके। उन्हें चुनाव लड़कर विधायक निर्वाचित होना चाहिए न कि विधान परिषद के सदस्यों का इस्तीफा कराकर उनके स्थान पर सदस्य बनने की कोशिश। यह राजनीतिक भ्रष्टाचार है।

ये भी पढ़ें-भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा बीफ निर्यातक : रिपोर्ट

अखिलेश यादव ने कहा कि डा. लोहिया कहते थे कि वादाखिलाफी और झूठ बोलना भ्रष्टाचार है। भाजपा इनके साथ राजनीतिक भ्रष्टाचार को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दे रही है। भाजपा लालच और दबाव डालकर विधायकों को तोड़ने की राजनीति कर रही है। यह जनादेश का अपमान है। भाजपा समाजवाद और धर्म निरपेक्षता की भी विरोधी है। जातिवादी और संप्रदायवादी भाजपा की राजनीति से हमें सावधान रहना होगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने खरगापुर, गोमतीनगर विस्तार, लखनऊ स्थित विजडम इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर विधानसभा में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी, नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन और पूर्वमंत्री एवं मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी भी मौजूद थे।

इस अवसर पर भाजपा की राज्य सरकार की जन विरोधी नीतियों के बारे में अखिलेश यादव ने कहा कि शिक्षामित्रों को अपमानित किया गया। उन पर अन्याय हुआ है। कई जानें गई हैं। जिन शिक्षा मित्रों की जान गई है उनके आश्रितों को 50 लाख रूपये देना चाहिए। नोटबंदी के बहाने भाजपा सरकार ने बैंकों में जनता की गाढ़ी कमाई जमा करा दी लेकिन खाता धारकों को कुछ नहीं मिला है। भाजपा अपनी सरकार में विकास का कोई कार्य नही करना चाहती है। जनता भाजपा के विकास विरोधी आचरण से परिचित हो गई है।

अखिलेश यादव ने इस बात पर बल दिया कि समाजवादी विकास में आगे है। हमारा सामाजिक सौहार्द और जातीय सद्भाव में विश्वास है। उन्होंने कहा कि हमारी ईश्वर में आस्था है लेकिन प्रचार में नहीं। तरक्की में भारत दुनिया से पिछड़ गया है। शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो तरक्की होनी थी नहीं हुई। उन्होंने कहा भाजपा से हमारी लड़ाई इस बात की है कि कौन कितनी तेजी से विकास करता है। विकास कार्य हर हाल में जारी रहने चाहिए। भाजपा सरकार को विकास की तरफ एक कदम तो बढ़ाना चाहिए। जबकि समाजवादी सरकार ने विकास का बुनियादी ढ़ांचा तैयार किया था।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा हमें बैकवर्ड कहती है लेकिन हम काम में फारवर्ड है। भाजपा सरकार को आगरा एक्सप्रेस-वे और मेट्रो रेल जैसी समाजवादी सरकार की विकास परियोजनाएं उससे कम अवधि में बनाकर दिखानी चाहिए।

ये भी पढ़ें-यूपी : खैरपुर की घटना में चौकी प्रभारी की तहरीर पर 200 कांवड़ियों पर दर्ज हुआ मुकदमा

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय ने कहा कि हमारी विचारधारा समाज को जोड़ने की है जबकि भाजपा की नीति समाज को तोड़ने की रही है। भाजपा की राजनीति स्वस्थ लोकतंत्र के लिए खतरा है, सत्ता के लिए भाजपा कुछ भी कर सकती है। इस तरह की राजनीति से भाजपा जन विश्वास को आहत कर रही है। समाजवादी विकास की राजनीति करते है। सामाजिक सद्भाव और विकास साथ साथ हो। उन्होंने अंत में समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश दिया कि वे अपनी दोस्ती का दायरा बढ़ाकर सभी दूसरी जाति के सदस्य से मित्रता करे।

अखिलेश यादव ने प्रारम्भ में कहा कि प्राथमिक शिक्षा बच्चों के आगे बढ़ने की बुनियाद होती है। इसलिए पढ़ाई की अच्छी और सस्ती व्यवस्था हो। बच्चों को सच्चाई के रास्ते पर चलने की शिक्षा मिले। उन्होंने श्री नेल्सन मंडेला का यह कथन उद्धृत किया कि शिक्षा से ज्यादा ताकतवर कोई हथियार नहीं होता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top