बीजेपी के श्वेत पत्र पर अखिलेश यादव का पलटवार, कहा- “नवरात्र आए हैं भजन करिए” 

Ashutosh OjhaAshutosh Ojha   20 Sep 2017 4:14 PM GMT

बीजेपी के श्वेत पत्र पर अखिलेश यादव का पलटवार, कहा- “नवरात्र आए हैं भजन करिए” ग्राफ़िक्स: कार्तिकेय उपाध्याय 

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के छह महीने पूरे होने पर बीजेपी द्वारा जारी किये श्वेत पत्र पर लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय पर मीडिया से बात कर रहे थे। इस दौरान अखिलेश यादव ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा कि इस सरकार से आप विकास की उम्मीद मत करिए।

ये भी पढ़ें-लोगों की मदद करने की भावना और गलत व्यवस्था का विरोध करने की आदत राजनीति में ले आयी : ब्रजेश पाठक

अखिलेश यादव ने कहा कि कर्ज तो किसानों का पूरा माफ़ होना चाहिए था, लेकिन उनका पूरा कर्ज माफ़ नहीं किया गया। इन्होंने अपने अधिकारियों से रात रात भर खूब प्रेजन्टेशन बनवाया फिर दिन में अधिकारी सोया करते है। इसलिए इन्होंने आठ रुपये का सर्टिफिकेट किसानों को दिया है। कम से कम सर्टिफिकेट तो चेक कर लिए होते, जब आप आँख बंद करके सर्टिफिकेट दोगे तो आपका मजाक ही उड़ेगा। इन्होने कहा कि किसानो का गन्ना का बकाया माफ़ कर देंगें, लेकिन खुद गन्ना मंत्री के क्षेत्र का किसानों का गन्ने का पैसा बाकी है।

akhilesh yadav

अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी ने दिन में सपना देखा। मेट्रो बनाने का सपना आपने और कहीं नहीं देखा सिर्फ लखनऊ में ही क्यों देखा। जब से समाजवादी पार्टी की सरकार गयी तब से बीजेपी ने सारे काम रोक दिए। जिस एक्सप्रेसवे को मैंने बनाया उस पर आज दस हजार लोग चल रहे है, लेकिन आप अपनी गाय माता वहां से हटा लो।

अखिलेश यादव ने बीजेपी के श्वेत पत्र पर कहा कि उप मुख्यमंत्री जी शास्त्री भवन में यूपी मुख्यमंत्री की कुर्सी बैठ गए थे, ये भी श्वेत पत्र में आता तो प्रदेश का भला हो जाता। श्वेत पत्र में बीजेपी वाले नेता जी जिनकी रिवाल्वर एम.आर.आई. मशीन में फंस गयी थी, उनकी भी फोटो श्वेत पत्र में लिखी होती तो अच्छा था।

योगी सरकार ने जारी किया था श्वेत पत्र।

अखिलेश यादव ने यूपी की शिक्षा व्यवस्था पर कहा कि, बेसिक शिक्षा में मै जानना चाहता हूँ कि आप कितना खाना बच्चों को दे रहे है। शिक्षा मित्र का आपने अपमान किया है। हमने 18 लाख लैपटॉप दिए थे जिन पर छात्र आज भी पढ़ायी कर रहे है। बीजेपी का आरोप था कि मैंने जाति के आधार पर योजना में लाभ लाभ दिया था। लेकिन मेरी सभी योजना का हर वर्ग आज लाभ ले रहा है। उच्च शिक्षा में बीजेपी ने बजट ही रोक दिया, गोरखपुर में आपने छात्रावास का पैसा रोक दिया दरअसल बीजेपी वालों ने समाजवादी पार्टी की योजनाओं को अपना सपना बना लिया। बीजेपी अब गोमती रिवर फ्रंट की जांच करवा रही है, आप हमारे पीछे इस लिए पड़े है क्यों कि हमने साबरमती से अच्छा काम किया था।

ये भी पढ़ें-वीडियो : राजनीति में कीचड़ उछालना बंद हो: बृजेश पाठक

यूपी के उप मुख्यमंत्री पर चुटकी लेते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि आपकी तो नई शादी हुयी थी, आपको वहाँ जाना चाहिए था और सेल्फी खिंचवानी थी। तब आपको पता चलता कि काम क्या होता है। बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि विकास की उम्मीद बीजेपी से मत करिए, इनके पास मुद्दे है ही नहीं। चुनाव के समय ऐसा मुद्दा आयेगा कि हम और आप बदल जायेंगें।

राम रहीम के साथ बीजेपी के सभी नेताओं की तस्वीरें है इसलिए ये मुद्दे भटकाते है। किसान को कोई सुविधा नहीं है, बुदेलखंड का किसान परेशान है लेकिन इनको कोई फिक्र ही नहीं है। इस सरकार से विकास की उम्मीद मत करिए। कानून व्यवस्था में बीजेपी की जब से सरकार आई है तब से सराफा व्यापारियों की हत्या हो रही है इन व्यापारियों को मारने वालों का एनकाउंटर करना चाहिए था। आज यूपी में पुलिस पिट रही है कानून व्यवस्था को बीजेपी ने बर्बाद कर दिया।

मुजफ्फरनगर के एक गांव नसीरपुर में एक छोटे विवाद ने सांप्रदायिक घटना का रूप ले लिया है पर पुलिस पूरी तरह चौकन्ना है।

ये भी पढ़ें-दूसरों को बुरा बताकर खुद को अच्छा साबित करने की कोशिश है योगी का श्वेतपत्र : मायावती

मैंने तो डीजीपी से बात करना ही छोड़ दिया है। वो न्याय नहीं दिला सकता। मैंने अपने समय में एक आईपीएस अधिकारी को छोड़ा था क्यों कि मुझे उसके खिलाफ एक महिला पुलिस ऑफिसर ने शिकायत की थी, लेकिन हमने उस अधिकारी को माफ़ किया था। लेकिन चुनाव के समय उसी अधिकारी ने सुपारी ली थी हमारे नेताओं को सबक सिखाने की।

आखिर में अखिलेश यादव से जब पेट्रोल की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी का सवाल पूछा गया तो वो हंस कर बोले कि "नवरात्र आयें है भजन करिए" |

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top