पोस्टमॉर्टम कर रहे डाक्टरों ने जब लड़की का पैर देखा तो हैरान रह गए, वहां सुसाइड नोट लिखा था

पोस्टमॉर्टम कर रहे डाक्टरों ने जब लड़की का पैर देखा तो हैरान रह गए, वहां सुसाइड नोट लिखा थापैर पर लिखा सुसाइड नोट।

इलाहाबाद (आईएएनएस/आईपीएन)। उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जनपद में खीरी थाना क्षेत्र की रहने वाली कल्पना नाम की छात्रा ने बीते रविवार को फांसी के फंदे पर लटकर आत्महत्या कर ली थी। पोस्टमॉर्टम के लिए आए छात्रा के शव पर कुछ ऐसा लिखा मिला कि डॉक्टर भी हैरान रह गए। पैर पर लिखी बातों ने इस सुसाइड केस को एक नया मोड़ दे दिया।

खीरी थाना क्षेत्र के पाल पट्टी गांव में रहने वाले पांच बच्चों का पिता राम सुचित किसानी करता है। भाइयों और बहनों मे सबसे बड़े नीरज ने बताया, "सबसे छोटी बहन कल्पना पास के ही विद्यालय में इंटर की छात्रा थी। रविवार को हम लोग खाना खाने के बाद सो गए। सुबह 10 बजे जब हम उसके कमरे में गए तो वह फंदे पर लटकी हुई दिखी, जिसके बाद सभी ने उसे नीचे उतारा और अस्पताल लेकर भागे, लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी।"

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

लोकलाज के भय से परिजन पुलिस को सूचित किए बगैर ही अंतिम संस्कार करने चले गए। यह देख कल्पना की एक सहेली ने तुरंत डायल 100 पर फोन कर पुलिस को सूचित कर दिया। सूचना मिलते ही एसओ खीरी तारकेश्वर राय फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और घरवालों को रास्ते में ही रोक लिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा भरा और रविवार को देर शाम पोस्टमॉर्टम हाउस भेज दिया।

पोस्टमॉर्टम के दौरान डॉक्टर ने उसके उसके दहिने पैर पर लिखा नोट देखा। पैर पर लिखा था, "मेरी मौत का जिम्मेदार रंगूलाल व उसकी पत्नी हैं।"

सुसाइड नोट देखकर पुलिस भी हरकत में आ गई। खोजबीन पर पता चला कि रंगूलाल उसका चाचा है। पुलिस ने पोस्टमार्टम रुकवाकर फोटोग्राफर बुलाया और सुसाइड नोट की फोटोग्राफी करवाई। इसके बाद पोस्टमार्टम हुआ। पुलिस रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार किया।

Share it
Top