आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के लिए राहत की ख़बर, अब नहीं करना होगा दूसरे विभागों का काम

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के लिए राहत की ख़बर, अब नहीं करना होगा दूसरे विभागों का कामआंगनबाड़़ी कार्यकत्रियां। फाइल फोटो

लखनऊ। प्रदेश सरकार ने आंगनबाड़ी केन्द्रों पर कार्य करने वाली कार्यकत्रियों से विभागीय कार्यों के अलावा अन्य विभागों के कार्य न लिए जाने का निर्णय किया है। प्रदेश के मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने समस्त जिलाधिकारियों को इस सम्बन्ध में आवश्यक निर्देश जारी कर दिये हैं। इसके साथ ही महिला एवं बाल विकास विभाग को भी इस संबंध में समुचित निर्देश जारी कर दिये गये हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

निर्देशों में कहा गया है कि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से अन्य विभागों के कार्य किये जाने से विभागीय योजनाओं और कार्यक्रमों के क्रियान्वयन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। प्रदेश में शिशुओं, गर्भवती महिलाओं महिलाओं को कुपोषण से मुक्ति दिलाने के लिए प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र पर बच्चों, किशोरी बालिकाओं एवं महिलाओं को पोषाहार उपलब्ध कराने का कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसी के साथ ‘‘हौसला पोषण योजना’’ भी संचालित की जा रही है।

संबंधित खबर : आंगनबाड़ी में आने वाले बच्चों की माताएं परखेंगी पुष्टाहार की गुणवत्ता

इन केन्द्रों पर अति कुपोषित बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को गरम पका-पकाया भोजन फल आदि उपलब्ध कराने की विभाग द्वारा व्यवस्था की गयी है। आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को अन्य कार्यों में लगाये जाने से संचालित योजना को प्रभावी रूप से क्रियान्वित करने में दिक्कत होती है। इसीलिए आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को अन्यत्र लगाये जाने की व्यवस्था पर तत्काल प्रतिबन्ध लगाये जाने के निर्देश दिये गये हैं। जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिये गये हैं कि बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग के वाहनों को भी अन्य विभाग के कार्य में प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top