Top

खनन के टेंडर को लेकर कन्नौज में लखनऊ के ठेकेदारों को दौड़ाया, यूपी पुलिस की गाड़ियां रोकीं  

खनन के टेंडर को लेकर कन्नौज में लखनऊ के ठेकेदारों को दौड़ाया, यूपी पुलिस की गाड़ियां रोकीं  पुलिस के साथ सुरक्षा में लखनऊ का ठेकेदार 

कन्नौज। बालू खनन के टेंडर को लेकर लड़ाई शुरू हो गई है। टेंडर में शामिल होने आए लखनऊ के ठेकेदारों को स्थानीय लोगों ने दौड़ा लिया। बचाने पहुंची यूपी पुलिस 100 की गाड़ियों को भी बीच रास्ते में रोक लिया गया। मामला प्रमुख सचिव गृह तक पहुंचा तो जिला एवं पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया। दूसरी ओर टेंडर खोलने में देरी को लेकर कलेक्ट्रेट में धरना, प्रदर्शन और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई।

लखनऊ से आए करीब 45 वर्षीय अशफाक हुसैन ने बताया, "मैं अपने चार साथियों समेत बालू खनन के टेंडर में शामिल होने के लिए सुबह 10 बजे आ गया था, लेकिन वहां मौजूद कुछ लोगों ने कागज नहीं जमा करने दिए। गाड़ी में बैठते ही उनके पीछे पांच गाड़ियां लग गईं।"

अशफाक ने आगे बताया, "जब मुझे लगा कि जान को खतरा है तो पुलिस को फोन किया। यूपी पुलिस डायल 100 की गाड़ी के बाद दूसरी पुलिस की गाड़ी भी आ रही थी, लेकिन उसे रोक लिया गया।"

बाद में मामला शासन तक पहुंचा। इसके बाद जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन सतर्क हो गया। सौरिख थाना समाधान दिवस में मौजूद डीएम जगदीश प्रसाद और एसपी हरीश चन्दर भी जिला मुख्यालय पहुंचे। अशफाक आगे कहते हैं, "पुलिस ने बहुत मदद की है। एसपी साहब ने खुद अपनी गाड़ी में बिठाया और सुरक्षित कलक्ट्रेट लाए।"

दूसरी ओर टेंडर खुलने में देरी का आरोप लगाते हुए टेंडर ठेकेदारों के समर्थकों और भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। धरना और प्रदर्षन करते हुए पुलिस और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। मामला बढ़ता देख एसपी ने निर्देश दिया, जो भी शरारती तत्व हैं, उनके खिलाफ सख्ती से निपटा जाए। बाद में कुछ उपद्रवियों के खिलाफ हल्का लाठीचार्ज भी हुआ। वहीं जब डीएम ने कार्रवाई की बात कही तो टेंडर डालने वाले अनुराग तिवारी की बहस भी डीएम से हो गई। कहा, जब सपा सरकार में मुकदमे दर्ज हुए तो भाजपा सरकार में भी हो जाएं वह भी झेल लेंगे। उन्होंने जिला प्रशासन पर भी आरोप लगाए।

जिलाधिकारी जगदीश प्रसाद ने कहा, "प्रमुख सचिव गृह को जानकारी हुई है, उन्होंने संज्ञान लिया है। कई बड़े-बड़े जनप्रतिनिधियों के भी फोन आए। पुलिस की गाड़ियां रोकना ठीक नहीं है। पूरे घटनाक्रम की वीडियो रिकार्डिंग कराई गई है। मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। एफआईआर भी होगी। कोई भी बाहर का व्यक्ति आया है तो उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी प्रशासन की है। टेंडर नियमानुसार होंगे। अगर लोग समय पर कलक्ट्रेट में दाखिल हुए हैं तो उनको प्रतिभाग करने दिया जाएगा।"

इस मसले पर हरीश चन्दर एसपी कन्नौज ने कहा कि "जानकारी मिली थी कि खनन टेंडर में दिक्कत आ रही है, इसलिए पुलिस फोर्स तैनात कर लिया गया है। एक व्यक्ति ने शिकायत की थी, मामले की जांच की जा रही है। लाठीचार्ज नहीं हुआ है। फायरिंग की बात भी गलत है।"

भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष भी पहुंचे

कलेक्ट्रेट में भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष सुब्रत पाठक भी पहुंचे। उन्होंने एडीएम डीपी सिंह से बालू खनन के टेंडर खोलने को कहा, इस पर एडीएम ने कहा कि डीएम साहब से बात करिए। इसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने देरी का आरोप लगाकर नारेबाजी शुरू कर दी। कई बार पुलिस से झड़पें भी हुईं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.