वीडियो वैन के जरिए लखनऊ के कई गाँव में चलाया जा रहा जागरूकता कार्यक्रम 

वीडियो वैन के जरिए लखनऊ के कई गाँव में चलाया जा रहा जागरूकता कार्यक्रम नुक्कड़‍ नाटक के जरिए करते जागरूक

गाँवों में युवाओं को नुक्कड़ नाटक, लघु फिल्मों व खेल के माध्यम से शिक्षा व स्वास्थ्य की सही जानकारी देने के लिए मोहनलालगंज ब्लॉक में वीडियो वैन की शुरुआत की गई है।

मानवाधिकार और महिला मुद्दों पर काम करने वाली संस्था ब्रेकथ्रू ने वीडियो वैन की शुरूआत मोहनलालगंज ब्लॉक से की। यह वीडियो वैन 4 से 13 फरवरी तक मोहनलाल गंज ब्लॉक के 23 ग्राम पंचायतों तक पहुंचेगी। इस दौरान यह नुक्कड़ नाटक, लघु फिल्मों, खेल के माध्यम से किशोर-किशोरियों की शिक्षा और स्वास्थ्य के साथ ही उनकी मोबिलिटी (बाहर आने-जाने) के मुद्दे पर समुदाय के साथ संवाद करके उन्हें इन मुद्दों पर जागरुक करेगी।

ये भी पढ़ें- इस पैडवुमेन की कहानी पढ़िए, अमेरिका से लौटकर गाँव की महिलाओं को कर रहीं जागरूक

वीडियो वैन के उद्घाटन के अवसर पर ब्रेकथ्रू की सहायक प्रबंधक अर्चना सिंह ने कहा कि खास तौर से अगर किशोरियों की बात की जाए तो सुरक्षा किशोरियों के स्कूल छोड़ने का एक प्रमुख कारण है, क्योंकि स्कूल जाने-आने के रास्ते सुरक्षित नहीं और कई बार इसी वजह से वो स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं का उपयोग भी नही कर पाती हैं। शादी के बाद ससुराल में खाना, चूल्हा-बर्तन ही उनकी जिदंगी है, इस सोच की वजह से भी किशोरियों की शिक्षा और स्वास्थ्य पर धन खर्च नही किया जाता है, जिससे उन्हें शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नही मिल पाता है। इसे बदलने के लिए समुदाय को भी आगे बढ़कर हमारे साथ कदम मिलाकर चलना होगा जिससे हमारे किशोर-किशोरी शिक्षित और स्वस्थ्य हो सकें।

ये भी पढ़ें- न हो किसी की एक्सीडेंट में मौत, इसलिए साइकिल पर हेलमेट लगाकर करते हैं जागरूक 

मुख्य अतिथि ग्राम प्रधान, परहेटा, मोहनलालगंज छंगालाल ने कहा कि हमें लड़को के साथ ही लड़कियों को भी आगे बढ़ाने के बारे में सोचने की जरूरत है। लड़का और लड़की दोनों को शिक्षा और स्वास्थ्य सहित सभी क्षेत्रों में समान अवसर देकर ही हम एक समानता आधारित समाज बना सकते हैं। उन्होंने कहा देश को आगे ले जाने के लिए स्वस्थ्य और शिक्षित किशोर-किशोरियों की जरूरत है इससे ही एक स्वस्थ्य और शिक्षित समाज का निर्माण होता है। इस दिशा में सभी हितधारकों के साथ ही समुदाय को भी आगे आना होगा, तभी हम इस लक्ष्य को प्राप्त कर पाएंगें।

ये भी पढ़ें- माहवारी स्वच्छता प्रबंधन है ज़रूरी, झारखंड के इस ज़िले में लड़कियों को किया जा रहा जागरूक

मोहनलालगंज की ब्रेकथ्रू की ट्रेनर श्वेता ने कहा कि हमें बदलाव लाने की शुरूआत अपने घरो से ही करनी होगी और यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी किशोर-किशोरी शिक्षा और स्वास्थ्य के मामले में पीछे न छूट जाए। हमें उनको शिक्षा और स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने का माहौल बनाना होगा जिसे हम साथ मिलकर बना सकते हैं।

ये भी देखिए:

Share it
Top