बाबरी विध्वंस की बरसी पर अयोध्या सहित प्रदेश भर में शांति रही स्थापित

बाबरी विध्वंस की बरसी पर अयोध्या सहित प्रदेश भर में शांति रही स्थापितबाबरी मस्जिद। फाइल फोटो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे को गिराने की बुधवार को 25वीं बरसी के मद्देनजर पूरे सूबे में हाई अलर्ट जारी होने के चलते शांतिपूर्ण माहौल रहा। जांच एजेंसियों की खास चौकसी सोशल मीडिया पर भी थी। सोशल मीडिया पर एसटीएफ ने 150 ऐसे लोगों को चिन्हित किया है, जो सांम्प्रदायिक माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे थे। इन सोशल मीडिया यूजर्स को एसटीएफ की साबइर सेल ट्रेस करने का प्रयास कर रही है।

साथ-साथ पुलिस महानिदेशक कार्यालय ने सभी जिला कप्तानों को कड़ी सतर्कता बरतने का निर्देश जारी किया था, जिसके तहत जिलों के बार्डर पर पुलिस ने खास चौकसी बरत रखी थी।

ये भी पढ़ें - बाबरी मस्जिद विवाद : सिब्बल बोले- दस्तावेज अधूरे, SC में 8 फरवरी तक टल गई सुनवाई

डीजीपी सुलखान सिंह ने ने जारी अपने निर्देश में कहा था कि, जरूरत पड़ने पर जिलों में धारा 144 लगाई जाए। कानून व्यवस्था बनाए रखने में कोई कमी नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें - बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद अयोध्या बना भाजपा का गढ़

उप्र प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक कानून व्यवस्था हरिराम शर्मा ने कहा कि, बुधवार को प्रदेश भर की पटाखा दुकानों को बंद रखने का निर्देश जारी कर रखा था, जिसके तहत जिलों की पुलिस ने पटाखों की दुकान पर खास नजर रख रखी थी।

उन्होंने बताया कि शराब व असलहा दुकानों पर भी नजर बनाए रखने को भी कहा गया था। इसके साथ ही सुरक्षा व्यवस्था के लिए फैजाबाद को सर्वाधिक 6 कंपनी पीएसी अतिरिक्त दी गई थी। अयोध्या के अलावा प्रदेश भर के जिलों की सुरक्षा के लिए 27 कंपनी पीएसी तैनात की गई थी। डीजीपी मुख्यालय से जारी निर्देश में कहा गया है कि किसी भी तरह के समारोह, जश्न या काला दिवस जैसे कार्यक्रम पर जिला पुलिस स्थानीय अधिसूचना इकाई (एलआईयू) के जरिए नजरे रखी हुई थी।

ये भी पढ़ें - बाबरी विध्वंस की 25वीं बरसी पर अयोध्या में हाई अलर्ट

Share it
Top