बुंदेलखंड के बांदा में 193 किसानों को मिला ओलावृष्टि का मुआवजा  

बुंदेलखंड के बांदा में 193 किसानों को मिला ओलावृष्टि का मुआवजा  बांदा जिले में ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा 

बांदा। उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड के बांदा जिले में पिछले दिनों ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा बांटने का काम शुरू हो गया है। जिलाधिकारी ने शुक्रवार को सदर तहसील के चमरहा गांव में पहले दिन 193 किसानों के बीच 15, लाख 22 हजार रुपए ई-पेमेंट के जरिए बंटे गए।

जिलाधिकारी दिव्य प्रकाश गिरि ने शनिवार को बताया, "ओलावृष्टि से जिन गांवों में 35 फीसद से ज्यादा फसलों का नुकसान हुआ है, वहां ई-पेमेंट के जरिए राहत राशि भेजने के बाद प्रमाण-पत्र बांटे जा रहे हैं। चमरहा गांव में 193 किसानों को 15. 22 लाख रुपए की राहत राशि के प्रमाण-पत्र बांटे गए हैं।"

ये भी पढ़ें- खुशखबरी : रेलवे ने 90 हजार पदों के लिए मांगे आवेदन, अंतिम तिथि 12 मार्च  

उन्होंने कहा, "बुंदेलखंड के सात जिलों में सबसे पहले बांदा में मुआवजा बांटने की शुरुआत की गई है, शीघ्र ही सभी प्रभावित किसानों को राहत राशि दी जाएगी।"

हलांकि, चमरहा गांव के किसान प्रशासन के इस मुआवजे से संतुष्ट नहीं दिखे। उनका आरोप था कि कर्मचारियों ने नुकसान का आंकलन घर बैठे किया है, जिससे वाजिब राशि नहीं मिल पाई।

ये भी पढ़ें- जानें उत्तर प्रदेश बजट 2018-19 की मुख्य बातें 

उल्लेखनीय है कि 12 फरवरी की देर शाम बारिश के साथ गिरे ओले से बांदा, चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर, जालौन, झांसी और ललितपुर में फसलों को भारी नुकसान हुआ था। 10 मिनट तक गिरे ओलों से करीब 10 अरब रुपए की फसल नष्ट हो गई है। इसी नुकसान की भरपाई की मांग को लेकर महोबा के किसानों ने आंदोलन किया था, जिन पर पुलिस ने लाठीचार्ज और हवाई फायरिंग की थी।

ये भी पढ़ें- फेफड़े व स्तन कैंसर के खात्मे में मददगार छत्तीसगढ़ का ये तीन धान

उत्तर प्रदेश जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इधर, बुंदेलखंड किसान युनियन के अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा ने कहा कि यदि किसानों को नुकसान के बराबर मुआवजा न दिया गया तो सभी सात जिलों में किसान बड़ा आंदोलन करेंगे।

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top