उत्तर प्रदेश

जादू के जरिए गिनाए स्वच्छता के फायदे

इश्त्याक खान, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। समुदाय संचालित संपूर्ण स्वच्छता (सीएलटीएस) के प्रशिक्षण के आखिरी दिन जादू कार्यक्रम के माध्यम से स्वच्छता से होने वाले फायदे गिनाए गए। स्वच्छता से गाँव की जहां गंदगी दूर रहेगी, वहीं कचरे से कंपोस्ट बनेगा। स्वच्छ रहने से बीमारियां पैर नहीं फैला पाएंगी और कचरे से बनने वाले कंपोस्ट से फसल की पैदावार अधिक होगी।

सीएलटीएस के आखिरी दिन प्रशिक्षण में जादूगर सम्राट ने प्रशिक्षुओं को जादू दिखाकर स्वच्छता का संदेश दिया। संस्था द्वारा सभी प्रशिक्षुओं को स्वच्छता पर फिल्म दिखाई गई। जादूगर ने एक गिलास में दूध कम करके दिखाया कि गाँव में फैलने वाली गंदगी से मानव पर ही नहीं, बल्कि पशुओं पर भी इसका असर पड़ता है। जिस गाँव में गंदगी नहीं होती है उस गाँव के पशुओं को दूध उसी गिलास से अधिक दिखाया। गाँव में भरे पानी में गंदगी डाली जाती है उसी गंदगी का पानी पशु पीते हैं, जो बीमार होकर दूध देना कम कर देते हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गाँव में जागरूक करने के लिए टीम जाएगी। वहां सरकारी पैसे के अलावा स्वयं के पैसे से शौचालय बनवाने के लिए प्रेरित करेंगे। 
सत्येंद्र नाथ चौधरी, सीडीओ 

उसी गंदे पानी को पीने से पक्षी मर जाते हैं। उस पानी से निकलने वाले कीटाणु मानव के अंदर चले जाते हैं, जो बीमारी फैलाते हैं। शौचालय बनाने से गांव ओडीएफ मुक्त नहीं होगा, बल्कि घर, गली, चौबारा साफ रखना होगा। गांव के स्वच्छ रखने पर अधिक कचरा निकलेगा। गांव के लोगों को बताए कि गड्ढा खोदकर उसमें कचरा डालें और कंपोस्ट बनाएं। इससे गाँव के लोग स्वस्थ रहेंगे तो कंपोस्ट पड़ने से मिट्टी की उर्वरा शक्ति भी प्रबल रहेगी। गाँव को साफ रखने के कई लाभ हैं। गंदगी नहीं होगी, लोग स्वस्थ रहेंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।