पंडित दीनदयाल को डॉ अंबेडकर से जोड़ेगी भाजपा

पंडित दीनदयाल को डॉ अंबेडकर से जोड़ेगी भाजपाउत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

मुख्य संवाददाता

लखनऊ। भाजपा अब पंडित दीनदयाल उपाध्याय से बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर को जोड़ेगी। ये सोशल इंजीनियरिंग अब 2019 तक तेजी से जारी रहेगी।भारतीय जनता पार्टी ने तय किया कि छह अप्रैल को पार्टी के स्थापना दिवस से 14 अप्रैल तक डा0 भीमराव अम्बेडकर जंयती तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करेगी। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रम किये जाने का निर्णय लिया है। सभी जनपदों में जिलावार होंगे।

भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पदाधिकारी बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश अध्यक्ष सांसद केशव प्रसाद मौर्य ने नव वर्ष की मंगलकामनाओं के साथ कहा कि उ0प्र0 में भाजपा की ऐतिहासिक विजय नरेंद मोदी के कुशल नेतृत्व अमित शाह की कुशल रणनीति एवं सुनील बंसल के कुशल चुनाव प्रबंधन का प्रतिफल है। जितनी बड़ी विजय है उतनी बड़ी जिम्मेदारी भी है। भाजपा स्थापना दिवस को सेक्टर स्तर पर आयोजित करेंगी।

ये भी पढ़ें- सोशल इंजीनियरिंग के तीर से 2019 पर निशाना, मंत्रिमंडल गठन में सभी वर्गों का भाजपा ने रखा ख्याल

प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने कार्यक्रमों की रूपरेखा तय करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी स्थापना दिवस 06 अप्रैल से 13 अप्रैल तक सेक्टर स्तर पर आयोजित किया जायेगा जिसके लिए 03 अप्रैल को सभी जिलों की बैठके होंगी। जिन जिलों में बैठके पूर्व निर्धारित है वहां उसी तिथि में बैठक होंगी। 14 अप्रैल डा0 भीमराव अम्बेडकर जंयती को भाजपा सामाजिक समरसता दिवस के रूप में मनायेगी। स्थापना दिवस कार्यक्रम के अंतर्गत सेक्टरों पर प्रबोधन, स्वच्छता, जीएसटी के फैसलों की जिम्मेदारी, भीम एप की जानकारी के साथ पार्टी जनता के बीच पहुंचेगी। भाजपा का झंडा लेकर कार्यकर्ताओं की टोलियां भ्रमण को निकलेगी। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के विभिन्न कार्यक्रमों के द्वारा पार्टी संगठनात्मक एवं रचनात्मक कार्यो से कार्यकर्ताओं एवं जनता के बीच अपनी विचारधारा पहुंचायेगी।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

34 जिलों में केवल भाजपा के ही विधायक

संदीप बंसल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की ऐतिहासिक विजय में विजयी 325 विधायकों में 209 विधायक पहली बार र्निवाचित हुए। वहीं 103 ऐसे विधायक है जो 45 वर्ष से कम आयु के है। 34 जिलों में सिर्फ भाजपा के ही विधायक है। आज उप्र के हर जिले में भाजपा के विधायक है। 81 प्रतिशत सीटे हमारे पास है, भाजपा को विधानसभा चुनाव में 42 प्रतिशत मत मिला। भाजपा के हारे हुए 78 प्रत्याशियों में से 58 प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे है और 17 प्रत्याशी तीसरे स्थान पर रहे सिर्फ 03 प्रत्याशी ही चौथे स्थान पर रहे। 03 करोड़ 44 लाख मत भाजपा को प्राप्त हुए। इस ऐतिहासिक विजय का श्रेय भाजपा के लाखों कार्यकर्ताओं को जाता है। जिनके अथक परिश्रम से भाजपा ने नया इतिहास रचा है।

अब हम सब की जिम्मेदारी है कि मंत्री, विधायक, पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अपने आचरण से जनता की अपेक्षाओं के अनुरूप स्वयं को साबित करें। बैठक में प्रमुख रूप से प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर, प्रकाश शर्मा, राकेश त्रिवेदी, प्रदेश महामंत्री स्वतंत्र देव सिंह, विजय बहादुर पाठक, अशोक कटारिया, विद्यासागर सोनकर, अनुपमा जायसवाल, सलिल विश्नोई, प्रदेश मंत्री अनूप गुप्ता, अमर पाल मौर्य, गोविन्द नारायण शुक्ला, सुरेश त्रिपाठी, रंजना उपाध्याय, सुभाष यदुवंश, शंकर गिरि, क्षेत्रीय अध्यक्ष मुकुट बिहारी वर्मा, लक्ष्मण आचार्य, मानवेन्द्र सिंह, भूपेन्द्र सिंह, बीएल वर्मा, उपेन्द्र शुक्ला, क्षेत्रीय संगठन मंत्री भवानी सिंह, ब्रज बहादुर, चन्द्रशेखर, रत्नाकर जी, ओमप्रकाश जी, शिवकुमार पाठक उपस्थित रहे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top