यूपी : गोंडा में BSNL ने दो लाख उपभोक्ताओ का सिम वेरिफिकेशन का लक्ष्य रखा 

यूपी : गोंडा में BSNL ने दो लाख उपभोक्ताओ का सिम वेरिफिकेशन का लक्ष्य रखा अंगूठे से थंब मशीन पर सिम वेरिफिकेशन का सत्यापन करते उपभोक्ता 

गोंडा। फर्जी सिम का उपयोग न हो इसके लिए बीएसएनएल दो लाख उपभोक्ताओं के सिम का वेरीफिकेशन करने जा रहा है। इसके लिए प्रसाशन ने थंब मशीन भी मंगायी है, जिस पर उपभोक्ता की अंगुली लगवाकर उसकी भौतिक पहचान सुनिश्चित की जा रही है। नये सिम के लिए आधार के साथ उपभोक्ता का थंब मशीन पर अंगूठे का लगना जरूरी है।

ये भी पढ़ें-यूपी : एटा में गाँव वालों ने लौटाई सहायता राशि, डीएम ने किया ग्रामीणों का सम्मान

भारत संचार निगम लिमिटेड के सिम कई गलत हाथों में चले गये। पिछले वर्षों में फोटो व आई.डी. के लगाकर सिम बेचने के फर्जी दर्जनों मामले प्रकाश में आये। कहीं कहीं पर आतंकी संगठनों ने सिम का दुरूपयोग किया। इसे देखते हुए भारत संचार निगम लिमिटेड ने उपभोक्ताओं का सत्यापन शुरू कर दिया है। साथ ही विभाग ने एक थंब मशीन मंगवाया हैं और तीन मशीन का आदेश दिया गया है।

गोंडा जिले में दो लाख उपभोक्ता हैं जिनका सत्यापन कराने के लिए कई फ्रेंचाइचीज को इस काम में लगाया जा रहा है जिसके लिए ये मशीन उन्हें खरीदनी पड़ेगी।

ये भी पढ़ें-पेशी से फरार हुए इनामी बदमाश का यूपी पुलिस ने लखनऊ में किया एनकाउंटर

एसडीओ गोंडा वीरेंद्र विक्रम सिंह का कहना है "ऐसा होने से हजारों फर्जी सिम के कनेक्शन बंद हो जाएंगे। नये कनेक्शन के लिए मशीन पर थंब लिया जा रहा है। उपभोक्ता का थंब मशीन पर अंगूठा रखने पर उसका फोन नंबर लिखा जाएगा, उसके बाद मोबाइल में मैसेज आएगा। इसके बाद वेरीफिकेशन का नंबर मिल जाएगा।”

ए.जी.एम लखनऊ ए.के.शुक्ला के अनुसार 6 फरवरी 2018 तक हमें सिम वेरिफिकेशन के इस काम को पूरा करना है जिसके लिए हम कटिबद्ध है। सरकार की तरफ से मिशन पर सभी की विशेष महत्ता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहांक्लिक करें।

Share it
Top