15 अगस्त तक मेरठ के 690 आंगनबाड़ी केन्द्र बनेंगे मार्डन स्कूल

15 अगस्त तक मेरठ  के 690 आंगनबाड़ी केन्द्र बनेंगे मार्डन स्कूलप्रतीकात्मक तस्वीर 

साक्षी

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

मवाना, मेरठ। बच्चों को आकर्षित करने के लिए आंगनबाड़ी केन्द्रों को मार्डन स्कूलों की तर्ज पर तैयार किया जाएगा, जिससे नन्हें-मुन्हे बच्चे ककहरा सीखेंगे। जिले में संचालित 690 आंगनबाडी केन्द्रों को मार्डन बनाने की पहल 22 जुलाई से शुरू हो जाएगी। इन केन्द्रों पर बच्चों के लिए प्ले स्कूल की तर्ज पर फर्निचर रंगाई-पुताई व स्लोगन तैयार किए जा रहे है। अधिकारियों के अनुसार 15 अगस्त तक जनपद में संचालित सभी केन्द्रों को मार्डन स्कूल बना दिया जाएगा।

आंगनबाडी केन्द्रों को संवारने के लिए सरकार ने निर्देश दिए थे। जिला पंचायत राज अधिकारी और जिला कार्यक्रम अधिकारी की पहल से इसकी तैयारी पूर्ण कर ली गई है। इन स्कूलों को नया लुक देने से शिक्षकों के साथ-साथ बच्चों को भी पढाई में रूची बढ़ेगी। प्ले स्कूलों की तरह बच्चों को खेल-खेल में पढ़ाया जाएगा।

दीवारों पर स्लोगन

आंगनबाडी केन्द्रों पर पंचायत राज विभाग की ओर से स्वच्छता का संदेश देने के लिए स्लोगन लिखे जाएंगे। वहीं केन्द्र सरकार की ड्रीम योजना ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का संदेश भी लिखा जाएगा। इसके अलावा आंगनबाड़ी केन्द्रों पर मिलने वाले बच्चों के पोशाहार की पूरी डाइट का चार्ट भी लिखा गया है, जिससे बच्चों के अभिभावकों को दिन के हिसाब से उनकी डाइट का भी पता चल सके।

प्ले स्कूल की तर्ज पर शिक्षा

संबंधित विभाग के अधिकारियों की माने तो बच्चों की शिक्षा के लिए केन्द्रों पर मार्डन व्यवस्था की जाएगी। कक्षा में बच्चों को फोटों के अनुसार फलों, सब्जियों व अन्य वस्तुओं के नाम को बनाया गया है। जिससे बच्चे आसानी से देखकर उन्हे पढ़ सकें। इससे बच्चों में भी फोटों को देखकर जल्दी याद करने की आदत भी पड़ती है।

कार्टून भी करेंगे आकर्षित

मार्डन बनाने के साथ ही केन्द्र की दीवारों पर कार्टून बनाकर बेहतर लुक दिया जाएगा। जिससे बच्चों को कार्टून अपनी ओर आकर्षित कर सकें। दीवारों पर कार्टून में भी हरियाली और ‘बेटी बचाओं’ का संदेश दिया जाएगा।

जिला पंचायत राजधिकारी आलोक शर्मा बताते हैं, “ विभाग की तरफ से शासनादेश अनुसार पहल की जा रही है। जल्द ही सभी केन्द्रों को मार्डन बना दिया जाएगा।”

वहीं जिला कार्यक्रम अधिकारी ज्ञानप्रकाश तिवारी बताते हैं, “ पंचायत राज विभाग को केन्द्रों को मार्डन बनाने में पूरा सहयोग दिया जाएगा। ”

Share it
Top