मुख्यमंत्री ने किसान ‘ऋण मोचन पोर्टल’ का किया शुभारम्भ, अगस्त से माफ होगा किसानों का कर्ज़

मुख्यमंत्री ने किसान ‘ऋण मोचन पोर्टल’ का किया शुभारम्भ, अगस्त से माफ होगा किसानों का कर्ज़वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के जिलाधिकारियों व मण्डलायुक्तों को निर्देशित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सभी जिलाधिकारियों और मण्डलायुक्तों को निर्देश दिए हैं कि वे पूरी संवेदनशीलता के साथ फसल 'ऋण मोचन योजना' का क्रियान्वयन व इससे जुड़ी किसानों की समस्याओं का निराकरण सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा है कि शिकायत निस्तारण में लापरवाही को बेहद गम्भीरता से लिया जाएगा।

वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लघु एवं सीमान्त किसानों के उन्नयन व सतत विकास के लिए फसल ऋण मोचन योजना के क्रियान्वयन के सम्बन्ध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारियों व मण्डलायुक्तों को निर्देशित किया। इस अवसर पर उन्होंने किसान ऋण मोचन पोर्टल का शुभारम्भ भी किया। उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारी 10 दिन के अन्दर बैंकों के माध्यम से भूमि या आधार सम्बन्धी आंकड़ों की प्रविष्टि पोर्टल पर करा लें। उन्होंने निर्देश दिए कि जहां पर आधार कार्ड नहीं बने हुए हैं, जिलाधिकारी वहां कैम्प लगाकर आधार कार्ड बनवाएं। उन्होंने कहा कि 10 दिन के बाद पुनः वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से योजना की प्रगति की समीक्षा की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने किसान ऋण मोचन पोर्टल का किया शुभारम्भ

किसान हित राज्य सरकार की प्राथमिकता

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से फसल ऋण मोचन योजना के सम्बन्ध में जनपदवार प्रगति की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि किसान हित राज्य सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश सरकार किसानों के उन्नयन और विकास के लिए कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेगी।

तीन दिन के अंदर चालू करें किसान हेल्पलाइन

योगी ने निर्देश देते हुए कहा है कि जिलाधिकारी योजना के अनुसार जिला एवं तहसील स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित कर, उसके प्रभारी का नाम व उनकी दूरभाष संख्या संस्थागत वित्त महानिदेशालय को अवश्य सूचित कर दें। उन्होंने कृषि विभाग को निर्देश दिए कि इस योजना के लिए अगले 03 दिन के अन्दर किसानों की जिज्ञासा के समाधान के लिए हेल्पलाइन चालू करें और सभी जिला नियंत्रण कक्षों को अपना नम्बर सूचित कर दें।

एक सप्ताह में सॉफ्टेवेयर की दी जाए ट्रेनिंग

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि विभाग अगले एक सप्ताह में सभी मुख्य विकास अधिकारी, कृषि अधिकारी, जिला लीड बैंक मैनेजर व एनआईसी के जिला सूचना अधिकारी को योजना के सॉफ्टवेयर की ट्रेनिंग करवाना सुनिश्चित करें।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारियों व मण्डलायुक्तों की मीटिंग होती हुई

अगस्त से शुरू हो जाए ऋण वितरण कैम्प

योगी ने कहा कि ऋण वितरण का कार्य कैम्प लगाकर सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने जिलाधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि उनके जिलों में अगस्त, 2017 में पहला कैम्प अवश्य प्रारम्भ हो जाए। उन्होंने जिलाधिकारियों को फसल ऋण मोचन योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार कराए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि सभी जिला मुख्यालयों, तहसील और ब्लाक स्तर पर होर्डिंग लगवाई जाए। सभी बैंकों पर पोस्टर व बैनर भी लगवाए जाएं।

ये रहे उपस्थित

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वित्त अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव कृषि रजनीश गुप्ता सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

संबंधित खबर:-

गन्ना किसानों की बढ़ेगी आमदनी, गुड़ के साथ बना सकेंगे सीएनजी

‘प्रिय मीडिया, किसान को ऐसे चुटकुला मत बनाइए’

चौंकाने वाली रिपोर्ट : किसानों के कर्ज में डूबने की वजह सिर्फ खेती नहीं

कर्ज माफी के नियमों के सताए किसान का दर्द, ‘सरकार 40 एकड़ जमीन के बदले एक शीशी जहर ही दे दो’

70 प्रतिशत किसान परिवारों का खर्च आय से ज्यादा, कर्ज की एक बड़ी वजह यह भी, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top