प्रथम रोजगार समिट : यूपी में बोरोजगारी होगी दूर, 70 लाख युवाओं को रोजगार का लक्ष्य

Karan Pal SinghKaran Pal Singh   29 Aug 2017 3:56 PM GMT

प्रथम रोजगार समिट : यूपी में बोरोजगारी होगी दूर, 70 लाख युवाओं को रोजगार का लक्ष्यप्रथम रोजगार समिट में उपस्थित मुख्यमंत्री व अतिथि।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मानते है कि प्रदेश के युवा काफी मेधावी व होनहार हैं। मुख्यमंत्री ने लखनऊ के साइंटिफिक कंवेंशन सेंटर में आज प्रथम रोजगार समिट का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के साथ श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, राज्यमंत्री श्रम एवं सेवायोजना मनोहर लाल मौजूद थे। कार्यक्रम का आयोजन श्रम और सेवायोजन विभाग ने किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा ये मानना है क‌ि अगले पांच साल में 1 करोड़ नौजवान बेरोजगार होगा उसमें से 70 लाख नौजवानों के लिए रोजगार की व्यवस्था की जाएगी। एग्रीकल्चर बहुत बड़ा क्षेत्र है। इसमें ढेर सारी चीजें हो सकती हैं।

हमारे पास देश की सबसे बड़ी जॉब फैक्ट्री

सीएम योगी ने कहा कि हमारे पास देश की सबसे बड़ी जॉब फैक्ट्री है। देश में सबसे ज्यादा यूथ यूपी में है। कोई भी अयोग्य नहीं है। 'अभी पिछले दिनों हम लोगों ने युवा कौशल दिवस मनाया था। कौशल विकास योजना कारगर योजना है। मुझे बहुत अच्छा लगा कि लोगों को स्क‍िल डेवलेपमेंट के जरिए रोजगार मिला। इससे पहले वे घर में बैठे थे, रोजगार नहीं था। वो लोग निराश थे। लोग उनपर टिप्पणियां करते थे। हम अपने यूथ को स्वावलम्बी बना दें, उन्हें आत्मनिर्भर बना दें इससे बड़ी बात नहीं हो सकती। पीएम मोदी ने सरकार में आने के बाद से ही इसपर ध्यान दिया है। सीएम ने सेवायोजन मार्गदर्शिका का विमोचन भी किया।

ये भी पढ़ें:- डिजिटल इंडिया के बाद अब डिजिटल ग्रामीण इंडिया की तैयारी

युवाओं के लिए नई दिशा है रोजगार समिट

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रदेश में बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार समिट एक नई दिशा निर्धारित करेगी। युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए सरकार प्रदेश में रोजगार मेलों का आयोजन कर रही है। सीएम योगी ने कहा मुझे बहुत अच्छा लग रहा है कि उत्तर प्रदेश में इस तरह का कार्यक्रम पहली बार हो रहा है। मुझे एक कहानी याद है, एक जूता बनाने वाली कंपनी विदेश में अपनी मार्केट तलाशने गई। पहला बैच गया तो उसने कहा वहां कोई जूता नहीं पहनता इसलिए वह जगह बेकार है। वहां बिजनेस नहीं हो पायेगा। उसके बाद दूसरे दल को भेजा गया उसने अपनी रिपोर्ट में कहा गया कि वहां कोई जूता नहीं पहनता इसलिए वो हमारे लिए बहुत बड़ा मार्केट है, हम उन्हें जूता पहना सकते है, उन्हें सीखा सकते हैं।

ये भी पढ़ें:- जेल में ऐसे गुजरी कैदी नं. 8647 की पहली रात, आधी रोटी खाई, मिला माली का काम

देश का सबसे ज्यादा युवा उत्तर प्रदेश में

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश के बारे में जब सोचता हूं तो बहुत सारे लोग कहते है कैसे काम होगा। लोगों को प्रेरित करना पड़ेगा देश का सबसे ज्यादा युवा हमारे यूपी में है। हम तो सिर्फ उत्तम प्रदेश बनाने का नारा नहीं लगा रहे, बल्कि बनाकर दिखाएंगे। एन्टी भूमाफिया ने बहुत तेजी से काम किया है। हजारों एकड़ जमीन को खाली कराया गया है।

सेवायोजन मोबाइल एप का किया गया उद्घाटन

इस कार्यक्रम में सीएम योगी, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने सेवायोजन के मोबाइल एप का उद्घाटन किया। डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि हम यूनिवर्सिटी और कॉलेजों को रोजगार परक शिक्षा से जोड़ने की पहल करने जा रहे हैं, हम घोषणा नहीं बल्कि काम करने की शुरुआत करना चाहते हैं। हम तो स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी बनाने पर भी विचार कर रहे हैं। सभी कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में कैंपस प्लेसमेंट खोलने पर काम कर रहे हैं, जिससे बच्चे को पढ़ाई के बाद नौकरी कैसे मिलेगी कहाँ मिलेगी, जानकारी के साथ, नौकरी भी मिलेगी।

ये भी पढ़ें:- जब बाढ़ आने वाली होती है तो लोग क्या करते हैं, पढ़िए बाढ़ से पहले का एक दृश्य

जब सीएम ने इंजीनियरिंग कॉलेजों के मालिकों से कहा- जमीन जब्त कर लूंगा

सीएम ने इंजीनियरिंग कॉलेज की बात करते हुए कहा कि कुछ दिनों पहले कई इंजीनियरिंग कॉलेज ने खुद को बंद करने की परमिशन मांगी थी। मैंने उस विभाग से संबंधित मंत्री को बुलाया और उनसे कहा किसी को परमिशन मत दीजिए। इसके बाद उनको मीटिंग में बुलाया। मीटिंग में उन्होंने कहा, इंजीनियरिंग कॉलेज बंद करना चाहते हैं। क्योंकि उन्हें चलाने में हमें दिक्कत हो रही है। मैंने उनसे पूछा- क्या करोगे उस बिल्डिंग का तो बोले, मैरिज हॉल खोल लेंगे, कुछ ने कहा मॉल खोलेंगे।'' ''मैंने कहा ये जो सरकारी जमीन शिक्षा के नाम पर सस्ते में दी गई है इसपर मॉल खोलेंगे। पूरी जमीन लेकर कॉलेज को जब्त कर लूंगा। उसमें शिक्षा के सिवाय कुछ नहीं होगा। वहां स्किल डेवलपमेंट सेंटर खोलिए, डिप्लोमा कोर्स चलाइए, सरकार सहयोग करेगी। उस दिन के बाद वो स्किल डेवलपमेन्ट सेंटर चला रहे हैं।

अधिकारी शादी ब्याह से ऊपर सोचना ही नहीं चाहते

योगी ने आगे कहा कि टेक्सटाइल डिपार्टमेंट के एक प्रमुख सचिव का अखबार में बयान छपा था कि हम अपने कैंपस को शादी ब्याह के लिए भी किराए पर देंगे। इससे खर्चे निकल सकेंगे। मैंने उनको बुलाया और कहा कि इतना अच्छा कैम्पस है, उसका इस्तेमाल विभागीय काम और रोजगार की व्यवस्था के लिए कीजिए। हर जगह शादी ब्याह को क्यों करवा देते हैं। पता नहीं अधिकारियों को क्या हुआ है। वो शादी ब्याह से ऊपर कुछ सोचना ही नहीं चाहते। मैंने उनसे कहा इसकी प्रेजेंटेशन बनाओ और मुझे एक हफ्ते में प्रेजेंटेशन दिखाओ। अब मुझे उम्मीद है कि वो कुछ अच्छा सोचकर मुझे दिखाएंगे।

ये भी पढ़े:- खेत में घुसते ही नीलगाय और छुट्टा पशुओं को लगेगा करंट, गुजरात के किसान ने बनाई ये झटका मशीन

फिजूलखर्ची बंद कर किसानों की कर्जमाफी का जुटाया पैसा

सीएम ने कहा क‌ि जब कर्ज माफी की बात आई थी सबको लग रहा था क‌ि ये नहीं हो पाएगा। रिजर्व बैंक ने भी कहा था क‌ि ये गलत है। हमने योजनाओं में लीकेज और फ‌िजूलखर्ची बंद कर दी। मंत्री और व‌िधायकों की फ‌िजूलखर्ची बंद कर दी, सब कुछ ठीक से चल रहा है। अब आत्महत्या करने वाले किसान के अंदर आत्मविश्वास आया है क‌ि हमें हमारा हक मिलेगा।

सीएम ने युवाओं को दिया नौकरी का सर्टिफिकेट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आनंद मिश्रा, उजमा निशा, कल्याणी श्रीवास्तव, अबू अहमद खान, विकास कुमार झा, कुलदीप द्विवेदी, राहुल यादव, नियाज अहमद, अजय शर्मा व अंकित पांचाल को नौकरी का सर्टिफिकेट दिया गया।

जिलों में 'वन डिस्टिक, वन प्रोडक्ट' लाई जाएगी योजना

मुख्यमुत्री ने कहा कि हम यूपी के जिलों को प्रोडक्ट के नाम पर डेवेलप करें। जैसे भदोही में कालीन उद्योग, बनारस में साड़ी उद्योग, अलीगढ़ में ताला उद्योग आदि।

ये भी पढ़ें :- गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी कानपुर में गिरफ्तार

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top