फरियादियों की समस्याओं के जल्द निदान के लिए पीलीभीत के एसपी ने शुरू किया पर्ची सिस्टम

फरियादियों की समस्याओं के जल्द निदान के लिए पीलीभीत के एसपी ने शुरू किया पर्ची सिस्टमलोगों की समस्या को देखते हुए जिले के एसपी ने पर्ची सिस्टम लागू किया है।

अनिल चौधरी ,स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

पीलीभीत। अभी तक देखा जाता था कि जनपद के थानों में आने वाले पीड़ितों को पुलिस अधिकतर टरका दिया करती थी। एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी किया करती थी, जिसकी वजह से पीड़ितों को न्याय समय पर नहीं मिल पाता था। इस समस्या को देखते हुए जिले के एसपी ने पर्ची सिस्टम लागू किया है।

अक्सर देखा गया है कि पीड़ितों की शिकायतों में कार्रवाई करने में देरी हो जाती थी इसलिए यह योजना बनाई है। इससे समय से लोगों की समस्याओं का समाधान होगा।
देवरंजन, पुलिस अधीक्षक पीलीभीत

पीड़ितों को थानों में ही न्याय दिलाने की कवायद में जनपद के पुलिस अधीक्षक देवरंजन ने इस व्यवस्था को बदलने के लिये लाल-नीली पर्चियों का सिस्टम लागू करने की योजना बनाई। इसके लिये सभी थानों के लिये बाकायदा एक शिकायत अफसर भी तैनात किया जायेगा, जिसका काम थानों में आने वाले प्रत्येक फरियादी की शिकायत सुनकर पर्ची काटना होगा। नीली पर्ची पीड़ित को दी जायेगी और लाल पर्ची सम्बन्धित थानों के सीओ कार्यालय को भेजी जायेगी।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस कार्य की पुलिस अधीक्षक स्वयं मानीटरिंग करेंगे। पर्ची सिस्टम इस प्रकार से लागू होगा कि सभी थानों में लाल-नीली पर्ची छपवाई जा रही है। जिस पर थाने में आने वाले प्रत्येक फरियादी का नाम, मोबाइल नंबर, शिकायत अधिकारी के हस्ताक्षर दर्ज होंगे। नीली पर्ची शिकायतकर्ता को दे दी जायेगी और लाल पर्ची सीओ आफिस को चली जायेगी। सम्बन्धित थानों के क्षेत्राधिकारी भी अपने स्तर से इन पर्चियों पर निगाह रखेंगे।

थाने में नियुक्त शिकायत अधिकारी की यह पहचान होगी कि शिकायत अधिकारी लाल पट्टी धारण करेगा। ताकि फरियादी शिकायत अधिकारी को आसानी से पहचान सके। पुलिस अधीक्षक देवरंजन बताते हैं, “अक्सर देखा गया है कि पीड़ितों की शिकायतों में कार्रवाई करने में देरी हो जाती थी इसलिए यह योजना बनाई है। इस नयी योजना से जनपद के पीड़ितों को समय से व जल्दी समस्या का समाधान मिल पायेगा।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top