पाबंदी के साए में राहुल गांधी ने सुना सहारनपुर में दलितों का दर्द

पाबंदी के साए में राहुल गांधी ने सुना सहारनपुर में दलितों का दर्दसहारनपुर दलितों से मिलने पहुंचे राहुल गाँधी 

लखऩऊ। पश्चिम यूपी के सहारनपुर जिले में दो समुदायों के बीच हिंसक संघर्ष के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली से सहारनपुर के लिए शनिवार को रवाना हुए, जहां शहर में प्रवेश को लेकर उनकी पुलिस अधिकारियों के साथ तीखी बहस हुई। सहारनपुर प्रशासन ने उन्हें जिले में घुसने की अनुमति नहीं दी। कांग्रेस नेताओं की पुलिस से काफी देर तक कहासुनी होती रही। इसे देखते हुए प्रशासन ने राहुल गांधी को जिले में घुसने की अनुमति दे दी, लेकिन हिंसा पीड़ित इलाकों में जाने की साफ मनाही कर दी थी।

सहारनपुर हिंसा : शब्बीरपुर के लोगों ने कहा, बाहरी लोगों ने दी चिंगारी को हवा


फिलहाल इस संबंध में उत्तर प्रदेश के एडीजी (कानून-व्यवस्था) आदित्य मिश्रा ने कहा था कि अगर राहुल गांधी ने सहारनपुर में प्रवेश करने का प्रयास करेंगे तो, उन्हें जिले की सीमा पर ही रोक दिया जाएगा। जबकि जिले के सभी बॉर्डर पर कड़ी चौकसी बैठा दी गई है। वहीं काफी कहासुनी के बाद प्रशासन ने राहुल गांधी को सरसवां थाना क्षेत्र तक जाने की अनुमति दे दी। वहां उन्होंने हिंसा पीड़ित कुछ लोगों से मुलाकात कर उनका दर्द जानने का प्रयास किया। हालांकि प्रशासन ने उन्हें शब्बीरपुर गॉंव जाने की इजाजत नहीं दी, जिससे नाराज कांग्रसी नेता दोपहर बाद दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

ये भी पढ़े... पाबंदी के बावजूद राहुल गांधी का सहारनपुर जाना नकारात्मक राजनीति : भाजपा

राहुल गांधी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नेता गुलाम नबी आजाद, राज बब्‍बर समेत कई अन्य नेताओं के साथ शनिवार सुबह दिल्ली से सहारनपुर के लिए रवाना हो गए। जहां सहारनपुर जिला प्रशासन ने उन्हें शहर में घुसने की अनुमती नहीं दी थी। इसे देखते हुए राहुल गांधी ने हरियाणा होते हुए सहारनपुर जाने का मार्ग चुना। संभवता उन्‍होंने यह मार्ग इसलिए चुना है, क्‍योंकि इससे पहले शुक्रवार को उनको राज्‍य सरकार की तरफ से वहां जाने की अनुमति नहीं दी गई थी। वहीं इस संबंध में, शुक्रवार को ही सहारनपुर एसएसपी बबलू कुमार ने बताया था कि, राहुल को सहारनपुर आने की अनुमति नहीं दी गई है। अगर कांग्रेस नेता जबरन जिले में घुसने का प्रयास करेंगे तो उन पर सख्त कार्रवाई की जायेगी। वहीं शब्बीरपुर गॉंव न जाने देने से नाराज राहुल गांधी ने राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, केंद्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार है, फिर हिंसा रोक पाने में इनकी सरकार असफल साबित हुई हैं।

ये भी पढ़ें.... सहारनपुर में बेनकाब हुए कई चेहरे : शलभ मणि त्रिपाठी

सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में हुई थी आगजनी

उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि, कश्मीर जैसा माहौल भाजपा पूरे देश में कर रही है। राहुल गांधी ने प्रदेश सरकार पर सवाल उठाते हुए पूछा कि, किस कानून के तहत कांग्रेस नेताओं को शब्बीरपुर गॉंव नहीं जाने दिया गया। गौरतलब है कि, सहारनपुर में एक महीने से कई बार जातीय संघर्ष की घटना हुई है। जहां बीते दिनों अंबेडकर जयंती के अवसर पर जुलूस के दौरान दो समुदायों में हिंसा भड़क उठी थी। इस संघर्ष में एक व्यक्ति की मौत और 15 लोग बुरी तरह घायल हो गए थे। घटना के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने हिंसा पीड़ितों से शब्बीरपुर गॉंव में मुलाकात कर उन्हें पार्टी की ओर से मुआवजा दिया था।

ये भी पढ़ें- हिंसा को भड़काने के लिए बाहर से की गई फंडिंग

जहां मायावती की सभा से लौट रहे कुछ लागों पर 23 मई को अज्ञात हमलवरों ने गोली मार हत्या कर दी और अन्य लोगों को घायल कर दिया। इस मामले का संज्ञान लेकर राज्य सरकार ने एसएसपी और जिलाधिकारी को निलंबित कर दिया, जबकि मंडलायुक्त और डीआईजी के तबादले कर दिए। साथ ही मौके पर लखनऊ से बड़े अधिकारियों को सहारनपुर की स्थिति को नियंत्रण करने के लिए भेजा गया था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top