दो गाँवों के विवाद में उलझा पुल का निर्माण 

दो गाँवों के विवाद में उलझा पुल का निर्माण गाँवों के विवाद में उलझा पुल निर्माण। 

अजय सिंह चौहान, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

लखनऊ। सरकार द्वारा पुल का बजट स्वीकृति होने के बाद पुल बनते समय दो गाँव में इस बात पर विवाद बढ़ गया कि पुल किस गाँव के सामने बनेगा। तबसे पुल का निर्माण रुका हुआ है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जनपद लखनऊ के विकासखण्ड के माल के कोलवा भनौरा गाँव के अंतर्गत चंद्रिका देवी मंदिर के निकट गोमती नदी के किनारे रामघाट पर सेतु निगम द्वारा पुल बनाया जा रहा था, लेकिन दो गाँवों के बीच निर्माण स्थल को लेकर उठे विवाद के चलते पुल का निर्माण कार्य रोक दिया गया था। अब आपसी विवाद सुलझ जाने के बाद भी विभाग द्वारा पुल का निर्माण कार्य शुरू न कराये जाने से ग्रामीणों में आक्रोश है।

सपा सरकार में इस विवाद को सुलझाकर पुल बनाने के स्थान पर सेतु निगम उत्तर प्रदेश ने पुल का कार्य ही रोक दिया जो पिछले तीन वर्षों से ठप पड़ा है। एक तरफ जहां प्रतिदिन क्षेत्र के कई गाँवों के हज़ारों किसानों और प्रत्येक माह अमावस्या पर चंद्रिका देवी मंदिर आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को पीपे के जर्जर पुल से अपनी जान को जोखिम में डाल कर नदी पार करनी पड़ती है।

गाँव के ही किसान विजयपाल सिंह (45 वर्ष) कहते हैं, “अगर हमारे गाँव में कोई व्यक्ति बीमार हो जाता है तो गाँव से मरीज को अस्पताल तक ले जाने के लिए एम्बुलेंस की बजाय दो पहिया साधन का ही सहारा लेना पड़ता है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top