देश के विकास के लिए पंचायतों का विकास जरूरी : योगी आदित्यनाथ

देश के विकास के लिए पंचायतों का विकास जरूरी : योगी आदित्यनाथसम्मेलन को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केंद्र सरकार की मदद से आयोजित पंचायती राज दिवस का उद्घाटन किया। इस मौके पर केंद्रीय ग्रामीण विकास, पंचायती राज पेयजल और स्वच्छता मंत्री नरेंद्र तोमर भी मौजूद रहे। बुलाए गए ग्राम प्रधानों में से लगभग 900 ग्राम दूसरे प्रदेशों से आए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्राम प्रधानों के साथ ग्रामीण विकास की रणनीति पर चर्चा की।

कार्यक्रम में पुरुषोत्तम रूपाला केंद्रीय पंचायतीराज राज्य मंत्री ने कहा की पंचायतें बहुत कमजोर थीं। गाँव में एक रुपया 15 पैसे होकर पहुंचता था। नरेंद्र मोदी ने इस ओर ध्यान दिया और अब रुपया सीधे प्रधानों के अकाउंट में जाता है। जो दो लाख करोड़ रुपए है। ये पंचायतों के हक़ में है। ये काम मुखिया ही करेगा। अब जिम्मा आपका है। उस रुपए में चवन्नी गाँव की मिलाकर सवा रुपए का विकास करें। सबका विकास करें। अकेले यूपी में 60 हजार ग्राम पंचायत है। सम्मेलन के दौरान केंद्र सरकार की त्रिमासिक पत्रिका ग्रामोदय संकल्प का विमोचन किया गया। पत्रिका का मोबाइल ऐप और पंचायतीराज मंत्रालय का यू ट्यूब चैनल भी लांच किया गया। पंचायतीराज का पोर्टल भी लांच किया गया।

ये भी पढ़ें- पंचायती राज दिवस: देश के लाखों गाँवों के लिए प्रेरणा है ये गाँव

केंद्र सरकार की त्रिमासिक पत्रिका ग्रामोदय संकल्प का विमोचन किया गया।

वहीं केंद्रीय पंचायतीराज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि पिछला सम्मेलन 2016 में 24 अप्रैल को जमशेदपुर में हुआ था। तब प्रधानमन्त्री मोदी आये थे। अब यूपी में योगी जी का सानिध्य मिला है। हमारा देश पंचयती व्यवस्था में नया नहीं है। संविधान नहीं था तब पंचायत के निर्णय अहम होते थे। मगर पंचायते लंबे समय तक संविधान बनने के बाद भी मजबूत नहीं थीं। पीएम मोदी ने कहा कि स्मार्ट गाँव से नया भारत बनेगा। पंचायत प्रतिनिधि का ज्ञान बढ़ाना होगा।

ये भी पढ़ें- पंचायती राज दिवस: मध्य प्रदेश के इस गाँव में कभी नहीं हुए चुनाव

इलेक्ट्रानिक माध्यम से ज्ञान बढ़ा सकते हैं। गाँव बढ़ेगा तब देश बढ़ेगा। समुचित धन की व्यवस्था की गई है। जो कि सीधा पहुंचाया जा रहा है। 30 हजार करोड़ की जगह दो लाख करोड़ पहुंचाया जा रहा। सभी तरह की निधियों को लेकर समग्र विकास करें। गाँव की पांच समस्याओं का समाधान करें। इस तरह से पांच साल में सारी समस्या दूर होंगी। अब रस्म अदायगी नहीं होती। योजनाओं का बजट तय है। गाँव को पीएम आवास मिलेगा। इस मकान में शौचालय रसोई गैस कनेक्शन और मुफ़्त बिजली कनेशन भी होगा।

ये भी पढ़ें- बूझो तो जानें: पंचायतें अमीर हो गईं लेकिन गाँव गरीब ही रहे

मनरेगा मजदूर को भी सीधे खातै में धन मिल रहा है। देश 2264 विकासखण्डों में पानी कम है। ऐसी जगह पर मनरेगा के जरिये पेयजल योजना चलेगी। गाँव में 130 किमी प्रतिदिन सड़क बन रही है। आजीविका योजना पर भी ध्यान दिया जाए। सेल्फ हेल्प ग्रुप को 30 हजार करोड़ रुपए बैंक के जरिये देंगे। मिशन अंत्योदय पर काम कर रहे हैं। जिससे गाँव में गरीबी दूर होगी। देश में सफाई का फीसदी 40 से बढ़ाकर 64 हो गई। योगी जी 2018 तक यूपी के सभी जिलों को ओडिएफ किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश को विकास की बुलंदी तक पहुंचाना है तो यूपी का विकास करना होगा। 59000 पंचायतों का विकास करना होगा। विकास की प्रक्रिया बढ़ रही है। केंद्र सरकार की ओर से आश्वासन पूरा है। पंचायत ही विकास का आधार है। भारत को आगे ले जाना आपकी जिम्मेदारी होगी।

हम सव पर बड़ी जिम्मेदारी है। हम चाहते थे कि सभी 59000 प्रतिनिधि यहाँ नहीं बुला सके। हमारे पास इतनी जगह नहीं थी। हम समाज के अंतिम व्यक्ति तक विकास को ले जाना होगा। नाना राव देशमुख और दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर अनेक पुरस्कार दिए जाएंगे। स्मार्ट गाँव अब जरूरी है। गाँव में पेयजल बेहतर व्यवस्था होगी। भीम ऐप और व्हाट्सएप्प के जरिये गाँव बढ़ेगी। बुंदेलखंड में गाँव पेयजल समस्या बनी हुई है। ग्राउंड वाटर का उपयोग क्र के पेयजल की व्यवस्था करेंगी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top