डीजीपी सुलखान सिंह ने झुग्गी-झोपड़ी के लिए दिए सख्त आदेश

डीजीपी सुलखान सिंह ने झुग्गी-झोपड़ी के लिए दिए सख्त आदेशडीजीपी सुलखान सिंह।

लखनऊ । प्रदेश में बढ़ते अपराधों पर रोकथाम के लिए यूपी के डीजीपी सुलखान सिंह ने गुरुवार को महानगरों के जिलों के कप्तानों को झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों की जांच कर उनका सत्यापन करने के आदेश दिए हैं। डीजीपी का मानना है कि, झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले कुछ लोगों का सत्यापन न होने के चलते क्षेत्र में अपराधिक घटना होने के बाद इनकी पहचान करने में मुश्किल पैदा होती है।

इसे भी पढ़ें- डीजीपी सुलखान सिंह की फिक्की के अधिकारियों से हुई मुलाकात, आधुनिकीकरण पर चर्चा

डीजीपी सुलखान सिंह ने प्रदेश में जिलों के समस्त वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया है कि, बड़े महानगरों में बड़ी संख्या में लोग अवैध रूप से झुग्गी झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं, इसमें से कई लोग अपराधों में ज्यादातर लिप्त पाये जाते हैं और बाद में इनकी कोई पहचान सत्यापित नहीं होने के चलते पुलिस के गिरफ्त से दूर रहते हैं। झुग्गी-झोपड़ी का सत्यापन होने से अपराधिक घटनाओं के खुलासे और रोकथाम में पुलिस को मदद मिलेगी।

अपराधिक घटनाओं में संलिप्ता होने पर डीजीपी ने दिया आदेश

डीजीपी ने आगे बताया कि, घनी बस्ती में सत्यापन कराकर पुलिस आश्वसत हो जाये की, वहां रहने वाले लोग किसी अपराधिक घटना में शामिल तो नहीं हैं। साथ ही कोई संदिग्ध व्यक्ति या गलत नाम पते वाला व्यक्ति पाये जाने पर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये। वहीं डीजीपी के इस आदेश के बाद से बड़े महानगरों के पुलिस कप्तान ने पालन करते हुए अवैध झुग्गी बस्ती में रहने वालों का सत्यापन करना शुरू कर दिया है। इस कार्य में बस्ती में रहने वाले लोगों से एक पहचान पत्र मांगा जा रहा है, जिसमें उनका मूल पता अंकित हो, इसे संबंधित पुलिस उनके राज्य एवं जिलों में भेजकर सत्यापित करेंगे।

इसे भी पढ़े- सच्ची निष्ठा से काम करें पुलिसकर्मी, ताकि यूपी पुलिस कामयाबियों की इबारत लिख सके : डीजीपी सुलखान

इस मामले में एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार का कहना है कि, डीजीपी के इस आदेश के अनुपालन के लिए सभी थाना प्रभारियों को आदेश जारी कर दिया गया है और जल्द सत्यापन कर कार्य पूरा कर रिपोर्ट पुलिस कार्यालय भेजने का आदेश जारी किया है।

शाम के वक्त जिलों के कप्तान करें पैदल गश्त

यूपी में लगातार बढ़ रहे क्राइम ग्राफ को देखते हुए डीजीपी सुलखान सिंह ने कड़े तेवर दिखाते हुए जिलों के कप्तानों को शाम के वक्त ऑफिस में न बैठकर सड़क पर गश्त करने का आदेश जारी किया है। डीजीपी ने बताया कि, बड़े अधिकारियों के फिल्ड पर रहने से उनके नीचे वाले मातहत भी सड़कों पर दिखेगे। सड़क पर पुलिस की गश्त देखकर आम लोगों में सुरक्षा का भाव उत्पन्न होगा, वहीं दूसरी ओर अपराधी प्रवृति के लोगों पर खास नजर रखने के निर्देश हैं, जिसे जल्द अनुपालन करने के आदेश दिए गए हैं। डीजीपी ने साथ ही संदिग्ध लोगों से सड़कों पर पूछताछ और शराब की दुकानों पर खास नजर रखने के निर्देश दिए हैं। हालांकि देखने वाली बात यह है कि, अपने मुखिया के इस आदेश का पालन जिलों के कप्तान बगैर कोताही करते हैं या नहीं?

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top