ड्रेस व किताबों के साथ शुरू स्कूल चलो अभियान  

Harinarayan ShuklaHarinarayan Shukla   1 July 2017 8:45 PM GMT

ड्रेस व किताबों के साथ शुरू स्कूल चलो अभियान  बच्चों को ड्रेस और किताबें बांटते मंडलायुक्त

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गोंडा। देवीपाटन मण्डल के सभी 44 विकासखण्डों के दस-दस प्राथमिक विद्यालयों में निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों व ड्रेस के साथ स्कूल चलो अभियान की शुरुआत की गई। इसकी शुरूआत गोंडा में मण्डलायुक्त एसवीएस रंगाराव व डीआईजी देवीपाटन परिक्षेत्र अनिल राय ने तहसील सदर अन्तर्गत ग्राम मुण्डेरवा कला के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में बच्चों को निःशुल्क पुस्तकें व यूनीफार्म वितरित करके किया।

ये भी पढ़ें : आधार से लिंक नहीं किया तो भी 1 जुलाई से अवैध नहीं होगा आपका PAN CARD, यह है लिंक करने का सबसे आसान तरीका

निःशुल्क पुस्तकें व यूनीफार्म वितरण के दौरान आयोजित समारोह को सम्बोधित करते हुए मण्डलायुक्त रंगाराव ने कहा, "सरकार बेसिक शिक्षा के प्रति अत्यन्त गम्भीर और संवेदनशील हो चुकी है। सरकार की मंशा है कि कान्वेन्ट स्कूलों की तरह ही सरकारी प्राथमिक स्कूलों में भी माहौल बनाया जाए।"

ये भी पढ़ें : आधार से लिंक नहीं किया तो भी 1 जुलाई से अवैध नहीं होगा आपका PAN CARD, यह है लिंक करने का सबसे आसान तरीका

उन्होंने आगे कहा, "विद्यालय का वातावरण बच्चों के पढ़ने के अनुकूल बनाया जाए और विद्यालयों में अध्यापकों की उपस्थिति शत-प्रतिशत और समय से सुनिश्चित हो जिससे बच्चों के साथ-साथ उनके अभिभावक भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजने से न कतराएं।"

ये भी पढ़ें : GST : कृत्रिम गर्भाधन होगा महंगा, पशुओं के इलाज के लिए भी जेब ढीली करनी होगी

उन्होंने कहा कि क्या कारण है कि यूनीफार्म, भोजन एवं पाठ्य पुस्तकें निःशुल्क देने के बाद भी लोगों का विश्वास कान्वेन्ट स्कूलों में क्यों है, जबकि ज्यादातर अभिभावक स्वयं सरकारी स्कूलों के स्टूडेन्ट रह चुके हैं। मण्डलायुक्त ने इस अवसर बच्चों से उनके सपनों के बारे में पूछा और खूब मन लगाकर पढ़ने की प्रेरणा दी।

ये भी पढ़ें : जीएसटी से छोटे व्यापारियों को घबराने की जरुरत नहीं, नई व्यवस्था में मिलेगी राहत : कर विशेषज्ञ

यह भी कहा कि स्कूलों में बच्चों को देश के महापुरूषों के बारे में जरूर बताया जाय जिससे उन्हें अपना भविष्य उज्ज्वल बनाने में प्रेरणा और ऊर्जा प्राप्त हो सके। उन्होंने ग्राम प्रधान को निर्देश दिए कि वह स्वयं विद्यालय की साफ-सफाई तथा देखरेख में सहयोग प्रदान करें। कार्यक्रम के बाद आयुक्त व डीआईजी ने स्कूल में बन रहे माध्यान्ह भोजन को स्वयं खाकर भोजन की गुणवत्ता का जायजा लिया। इसके बाद उन्होने पूरे विद्यालय परिसर, कक्ष, शौचालय, रसोई, खाद्य पदार्थों की क्वालिटी व ब्रान्ड आदि का निरीक्षण किया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top