खस्ताहाल सुनवारा बाईपास सुधारने की कवायद तेज, 15 किमी दूरी होगी कम

खस्ताहाल सुनवारा बाईपास सुधारने की कवायद तेज, 15 किमी दूरी होगी कमइटावा स्थित सुनवारा बाईपास।

इटावा। मुख्यमंत्री योग आदित्यनाथ द्वारा 15 जून को प्रदेशभर की सड़कों को गड्ढामुक्त करने के ऐलान के बाद सुनवारा बाईपास की भी जिंदगी संवरने जा रही है। अखिलेश सरकार में बने इस बाईपास की खस्ताहालत के बाद इस मार्ग से वाहनों की आवाजाही लगभग ठप सी हो गई थी। इसी के मद्देनजर लोक निर्माण विभाग ने 97 करोड़ की लागत से इस मार्ग को पुन: नई शक्ल देना आरंभ कर दिया है। इसके निर्माण के बाद वाहन चालकों को 15 किमी की कम दूरी मिल सकेगी। इतना ही नहीं लोक निर्माण विभाग ने इस मार्ग पर पड़ने वाले पुल को भी नये सिरे से बनाने की कवायद आरंभ कर दी है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सुनवर्षा गांव के निवासी राम सिंह (60वर्ष) का कहना है,“ मध्य प्रदेश से कानपुर की ओर जाने वाले वाहन चालकों के लिए यमुना पुल के समीप सुनवारा से गुजरना आसान करने की कवायद शुरू कर दी है। अभी तक इन वाहनों को शहर की सीमा से होकर ही गुजरना पड़ता था, जिससे तकरीबन पंद्रह किमी की अतिरिक्त दूरी तय करनी होती थी। अब लोक निर्माण विभाग इस मार्ग का पुनर्निमाण करने के लिए सक्रिय हो गया है। इसके लिए शासन ने 97 करोड़ रुपये का बजट भी जारी कर दिया है।”

इसी गांव निवासी निवासी रामगोविन्द (45वर्ष) का कहना है,“ योगी सरकार द्वारा अवैध खनन एवं ओवरलोडिंग पर पूर्णकालिक प्रतिबंध लगाने एवं सड़कों को गड्ढामुक्त करने का जब आदेश जारी हुआ तो लोक निर्माण विभाग को इस मार्ग की भी याद आ गई। हालांकि अखिलेश सरकार ने इस मार्ग को टू लेन के स्थान पर फोरलेन में तब्दील करने के निर्देश तो जारी कर दिए थे, मगर इसी मध्य सत्ता ही चली गई। इसी के चलते लोक निर्माण विभाग ने भी इस मार्ग की जर्जर हालत से मुंह चुरा लिया था।”

फोरलेन बाईपास के लिए यमुना नदी पर एक पुल पहले से ही बना हुआ है। मगर फोरलेन बनने के लिए यमुना नदी पर एक और पुल का निर्माण कराया जा रहा है। जिसके निर्माण की जिम्मेदारी सेतु निगम को सौंपी गई है। इस पुल की लागत ही 64 लाख रुपए आंकी गई है। इसी के साथ सात किमी के इस बाईपास पर आठ बड़ी पुलियाओं का भी निर्माण किया जाएगा।

ये भी पढ़ें : इटावा में बनेगा विश्व का सबसे बड़ा सारस संरक्षण केंद्र

इस संबंध में लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता चोब सिंह राजपूत बताते हैं,“ 97 करोड़ रुपए के बजट में 455 मीटर लंब पुल यमुना नदी पर तैयार होगा। इसके अलावा बिजली के पोल शिफ्ट के लिए विद्युत विभाग तथा पेड़ों को हटाने के लिए वन विभाग को भी अतिरिक्त बजट उपलब्ध करा दिया जाएगा। सरकार द्वारा समय से पूरा बजट उपलब्ध करा दिया गया तो जनवरी, 2018 तक इस बाईपास को फोरलेन में तब्दील कर वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया जाएगा।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top