तीन साल: किसान बोले, ‘प्रधानमंत्री के प्रयास बेहतर, लेकिन वादे अभी अधूरे’

तीन साल: किसान बोले, ‘प्रधानमंत्री के प्रयास बेहतर, लेकिन वादे अभी अधूरे’किसानों का एक तबका मोदी सरकार से नाखुश।

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के तीन साल शुक्रवार को पूरे हो गए हैं। उम्मीदों के सपने दिखाकर सत्ता प्रचंड बहुमत से आई सरकार से लोगों की बहुत उम्मीदें होना लाजिमी हैं। गांव कनेक्शन ने उत्तर प्रदेश के कई जिलों में किसानों और युवाओं से बात की।

मोदी सरकार के तीन साल के कामकाज के बारे में बात करने पर ज्यादातर लोगों ने कहा कि प्रधानमंत्री के प्रयास बेहतर हैं, लेकिन जनता से किए अभी कई वादे हैं, जो अधूरे हैं। नेपाल की तराई में बसे पूर्वांचल के पिछड़े जिलों में शामिल सिद्धार्थनगर से किसान रामनेवास (40 वर्ष) कहते हैं, “ मोदी सरकार ने कई अच्छे काम किये हैं, लेकिन किसानों के न्यूनतम लाभ दिलवाने का वादा नहीं निभाया गया।”

ये भी पढ़ें- बोर्ड एग्जाम में नंबर कम आए तो बच्चों को डांटे नहीं, इनकी कहानियां सुनाएं, सफलता कदम चूमेगी

वहीं, इलाहाबाद के नैनी से तीन किमी दूर टांडा गाँव के किसान मनोहर मौर्या (39 वर्ष) सरकार के समर्थन में कहते हैं, “मोदी सरकार किसानों के लिए अच्छा काम कर रही है। कर्ज माफी के अलावा कृषि आयोग बनाये जाने जैसे फैसले से मोदी सरकार किसानों के बहुत करीब आ गई है।”

ये भी पढ़ें- किसान अगले तीन महीने में इन औषधीय फसलों की कर सकते हैं बुवाई

धान के बाद आलू में घाटा खाने वाले बाराबंकी जिले के कई किसानों ने कहा सरकार किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाने में नाकाम रही है। तहसील फतेहपुर में टांडपुर तुरकौली के किसान रामसागर बताते हैं, आलू तो माटी मोल बिक गया, अगर ऐसी ही व्यवस्था रही तो किसान की आय बढ़ेगी।” बाराबंकी ही उत्तर प्रदेश से लेकर पंजाब और इंदौर तक किसानों में नाराजगी है। किसानों ने कहा अगर देश में अच्छा उत्पादन हो रहा है तो सरकार को चाहिए कि उसका अच्छा मूल्य दिलाने का भी इंतजाम करें।

सुल्तानपुर निवासी राजेंद्र शर्मा गांवों के लिए योजनाओं की धीमी रफ्तार से नाखुश दिखे, उन्होंने कहा कि सरकार को सभी किसानों का कर्जा माफ करना चाहिए। कई हाईटेक योजनाओं की बात हुई थीं लेकिन वो गांवों तक नहीं पहुंची। सरकार को चाहिए कि इन योजनाओं की लगातर निगरानी करे।‘

ये भी पढ़ें- मक्के की फसल को सूड़ी के प्रकोप से इस तरह बचा सकते हैं किसान

वहीं आसानी से खाद और बीज मिलने से कई जिलों में किसान गदगद नजर आए। कानपुर नगर के बिलहन गांव निवासी मोहन लाल (55 वर्ष) बताते हैं, किसान के लिए सरकार के द्वारा किए जा रहे वादे पूरे किए जा रहे हैं, चाहे बीज हो या खाद आसानी से मिल रही है, पहले बड़ी समस्या होती थी।‘ किसानों ने ईनाम मंडी, और गन्ने का मूल्य समेत कई मसलों पर सरकार के फैसलों की सराहना भी की।

मोदी सरकार ने नरेंद्र मोदी ऐप के जरिए मांगी तीन साल पर लोगों की राय

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार के प्रदर्शन के बारे में नरेंद्रमोदी ऐप पर एक सर्वेक्षण में शामिल होने के लिए लोगों को आमंत्रित किया था। सर्वेक्षण में जनता को शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हुए मोदी ने दो सवाल रखे,‘‘सरकार के बारे में आप क्या महसूस करते हैं? हमने कहां अच्छा किया है और कहां बेहतर कर सकते हैं?'' इस सर्वेक्षण में लोगों ने बढ़-चढ़ कर अपनी राय भी रखी। प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को टवीट के साथ कृषि, मोबाइल बैंकिंग, टेली डेंसिटी, महिला सशक्तीकरण, मेक इन इंडिया, पर्यटन, विद्युतीकरण, सौर ऊर्जा और एलईडी बल्बों के वितरण जैसे विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित ग्राफिक्स में सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए पोस्ट भी किए।

Share it
Share it
Share it
Top