Top

यूपी में किसान कल्याण मिशन का आगाज, ब्लॉक स्तर पर लगेंगे कृषि मेले, किसानों को दी जाएगी जानकारी और पुरस्कार

CM Yogi Adityanath honoring women farmers during the inauguration of Kisan Welfare Mission in Sarojninagar area of ​​UPयूपी के सरोजनीनगर इलाके में किसान कल्याण मिशन के शुभारंभ के दौरान महिला किसान को सम्मानित करते सीएम योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। किसानों की आय बढ़ाने, किसानों तक नई तकनीकी और सरकारी योजनाओं की जानकारी पहुंचाने के लिए उत्तर प्रदेश में किसान कल्याण मिशन का आगाज किया गया है। ये कार्यक्रम उत्तर प्रदेश के सभी 824 विकास खंडों में 6 जनवरी से 21 जनवरी तीन चरणों में चलेंगे।

किसान कल्याण मिशन का आगाज करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में चलाई जा रही है किसान उपयोगी योजनाओं की जानकारी दी सरकार की इस दिशा में की गई उलब्धियां भी गिनाईं। मुख्यमंत्री ने कहा कि "2 करोड़ 35 लाख किसान यूपी में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से लाभान्विंत हो रहे हैं। पिछले तीन साढ़े तीन साल में एक लाख 15 हजार करोड़ रुपए किसानों का गन्ना मूल्य का भुगतान कराया गया है, ये रकम जितनी बड़ी है इतना तो बहुत सारे राज्यों का वार्षिक बजट नहीं होता है।"

लखनऊ जिले के सरोजनी नगर इलाके में आयोजित समारोह से किसान कल्याण मिशन Kisan kalyan Mission के पहले चरण का आगाज करते हुए मुख्यमंत्री Yogi Adityanath ने कहा, "किसान भाइयों केंद्र से लेकर प्रदेश तक सभी कार्यक्रम और योजनाएं किसानों के कल्याण के लिए हैं, पीएम मोदी के सपने को पूरा करने के लिए 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करना है। लेकिन कृषि में हो रहे अमूलचूल परिवर्तन कुछ लोगों को पसंद नहीं आ रहे हैं। कुछ लोगों को किसानों की तरक्की रास नहीं आ रही वो किसानों को बरगलाने में लगे हैं लेकिन हमें गुमराह करने वाले तत्वों को प्रगतिशील अभियान के बीच में नहीं आने देना है।"

लखऩऊ में किसान कल्याण मिशन की शुरुआत के दौरान बुजुर्ग महिला किसान से बात करते सीएम योगी आदित्यनाथ, साथ में हैं कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही और महिला एवं बाल विकास मंत्री स्वाती सिंह।

समारोह में मुख्यमंत्री ने किसानों के किसान उत्पादन संगठन (FPO) और महिलाओं को स्वयं सहायता समूह के जरिए समूह में जुड़कर सरकारी योजनाओं की लाभ लेने की सलाह भी दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में वर्तमान में 53 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद हो चुकी है। इसे हम फरवरी तक चलाएंगे तो आगे चलकर स्टोरेज की दिक्कत होगी। लेकि अगर केंद्र सरकार के एक लाख करोड़ रुपए कृषि इंफ्रास्ट्रैक्चर के तहत ब्लॉक स्तर पर गोदाम बन जाएं तो वहां का अनाज आसानी से रखा जा सकता है। इसके लिए सरकार सब्सिडी भी दे रही है। किसानों भाइयों से अपील की है कि ड्रिप इरीगेशन का भी इस्तेमाल करें इसमें सरकार काफी छूट देती है। इससे उत्पादन ज्यादा होगा और लागत कम आएगी।"

इस अवसर पर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा, "आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के किसानों को 100 कृषि कल्याण केंद्र प्रदेश को समर्पित किया है। इसके साथ ही 99 कृषि परियोजना का भी शिलान्यास गया है। किसान कल्याण मिशन के तहत आज 6 जनवरी को प्रदेश के 303 ब्लॉक में ये कार्यक्रम किए जा रहे हैं। अगले हफ्ते भी 303 ब्लॉक में कार्यक्रम होंगे, जबकि 21 तारीख को 201 विकास खंड में किसान उपयोगी प्रदर्शन, कृषि मेले, वैज्ञानिक वार्ता और प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया जाएगा।"

किसान कल्याण मिशन को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। फोटो साभार ट्वीटर

कृषि मंत्री ने कहा किसानों को प्रदेश में किसानों को कृषि यंत्रों पर 80 फीसदी तक सब्सिडी मिल रही है। फार्म मशीनरी और कस्टम हायरिंग सेंटर के जरिए किसानों को लाभ दिए जा रहे हैं। सिंचाई के संसाधनों को बढ़ाया जा रहा है। ड्रिप और माइक्रो इरीगेशन पर सब्सिडी दी जा रही है। किसान कल्याण मिशन के तहत वैज्ञानिक और अधिकारी किसानों के बीच पहुंच रहे हैं और उन्हें विभागीय योजनाएं और नई तकनीकी की जानकारी दे रहे हैं।

प्रदेश के जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह, महिला एवं बाल विकास एवं पुष्टाहार मंत्री स्वाति सिंह, मोहनलाल गंज के सांसद कौशल किशोर ने संबोधित किया। जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा, "सरकार की कोशिश है कि हर किसान के खेत तक पहुंचे, लंबे अरसे लंबित पड़ी सिंचाई योजनाओं में कुछ पूरी हो गई है जबकि बाकी तेजी से काम जारी है जो साल 2021-22 तक पूरी हो जाएंगी, जिससे प्रदेश में करीब 25 लाख हेक्टेयर में सिंचाई की सुविधा बढ़ेगी।"

किसान मेलों एवं प्रदर्शन में कृषि विभाग के साथ-साथ उद्यान, पशुपालन, मत्स्य, रेशम, सहकारिता, सिंचाई विभाग, लघु सिंचाई, नेडा, विद्युत, ग्राम्य विकास, पंचायतीराज, वन, बाल विकास एवं पुष्टाहार इत्यादि विभाग अपनी-अपनी योजनाओं से सम्बन्धित स्टाल लगाए गए हैं। इस दौरान किसान उपयोगी योजनाओं के स्वीकृति पत्र/प्रमाण-पत्र/कृषि यंत्र वितरण/पुरस्कार आदि दिए जा रहे हैं।

कृषि मेला एवं कृषि प्रदर्शनी में किसान कल्याण से सम्बन्धित विभिन्न योजनाओं के बारे में जागरूकता गोष्ठी के साथ-साथ संबंधित क्षेत्र के किसानों के कल्याण से जुड़े सभी कार्यक्रमों के बारे में न केवल जानकारी दी जाएगी, बल्कि योजना के अन्तर्गत लाभार्थियों का चयन करते हुए लाभार्थियों को विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.