धान क्रय केंद्रों पर बिचौलियों की दलाली को लेकर किसानों का हल्ला बोल

धान क्रय केंद्रों पर बिचौलियों की दलाली को लेकर किसानों का हल्ला बोलबाराबंकी में भारतीय किसान मजदूर दलित यूनियन ने बुलाई महापंचायत।

सतीश कश्यप, गाँव कनेक्शन

बाराबंकी। जिले में धान क्रय केंद्रों पर बिचौलियों द्वारा की जा रही दलाली और किसानों की जमीन पर भूमाफिया द्वारा कब्जे पर कार्रवाई न किए जाने की दो मुख्य मांगों समेत अन्य मांगों को लेकर किसानों ने महापंचायत बुलाकर सड़क जाम कर जमकर प्रदर्शन किया।

सरकार के खिलाफ हल्ला बोल

जिले के गन्ना संस्थान परिसर में भारतीय किसान मजदूर दलित यूनियन ने अपनी मांगों को लेकर बुलाई गई महापंचायत में बड़ी संख्या में किसानों ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोला। यूनियन के जिलाध्यक्ष व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राधेलाल यादव ने किसानों के साथ किये जा रहे उत्पीड़न के मुद्दे को उठाया।

किसानों का धान नहीं खरीदा जा रहा

इस मौके पर राधेलाल यादव ने कहा, “धान क्रय केंद्रों पर बिचौलियों की दलाली की वजह से किसानों का धान नहीं खरीदा जा रहा है।“ वही उन्होंने जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी को ज्ञापन सौपते हुए उनसे मांग की है कि राजस्व सम्बन्धी सभी विवादों का निस्तारण विवाद स्थल पर ही स्थलीय जांच के दौरान पुलिस अधिरक्षण में राजस्व टीम द्वारा निस्तारित करवाया जाए।

तो 2019 में करेंगे आंदोलन

जिलाध्यक्ष राधे लाल यादव ने कहा, “किसानों की समस्याओं को अगर सरकार के अधिकारी नहीं सुलझाते हैं तो हम लोग केंद्र और राज्य सरकारों का विरोध कर 2019 में सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ेंगे।“

कर्जमाफी से किसान वंचित रह गए

अपने 17 सूत्री मांगों को लेकर जिलाध्यक्ष राधे लाल यादव ने आगे कहा, “प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में चल रहे पोषाहार की गुड़वत्ता को संज्ञान में लेते हुए सुधार लाया जाए और जिले की समस्त बैंकों द्वारा किसानों के पुराने केसीसी ऋण को बिना किसानों को संज्ञान में लिए ही ऋण रिनिवल कर दिया गया, जिसके चलते किसान ऋण माफी योजना से वंचित रह जाने को लेकर अब किसान आवाज उठाएंगे।“

तब जाम किया राष्ट्रीय राजमार्ग

जिला प्रशासन की ओर से किसानों की अनदेखी करने और कोई सुनवाई न होने से यूनियन के लोगों ने महापंचायत बुलाई थी, जिसमे जिले के कोई जिम्मेदार अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे। जिसके बाद सभी लोग आक्रोशित हो गए और लखनऊ बाराबंकी राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर दिया। हालांकि पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद जाम खुलवा दिया।

यह भी पढ़ें: ‘कर्जमाफी की बजाए किसानों को कर्ज लौटाने के लिए लंबा समय देना बेहतर’

कोल्ड स्टोरेज के बिना खाली ही रहेंगे किसान के हाथ

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top