मॉडल फार्मिंग के जरिए किसान कमा सकते हैं दोगुना

मॉडल फार्मिंग के जरिए किसान कमा सकते हैं दोगुनाडीएम ने समीक्षा बैठक में परवाहा केंद्र के कार्यों की सराहना की

रहनुमा बेगम

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

औरैया। कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा पर कृषि विज्ञान केंद्र को क्रियाशील एवं प्रभावी बनाने के लिए त्रैमासिक बैठक की समीक्षा जिलाधिकारी ने की। कृषि वैज्ञानिकों नेकिसानों को फसल करने के नये-नये तरीके बताए। इसी के साथ माडल फार्मिंग के जरिए फसल को बेहतर तरीके से उगाने के उपाय बताए।

जिला मुख्यालय से 12 किलोमीटर दूर कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा पर डीएम जय प्रकाश सगर ने त्रैमासिक समीक्षा बैठक कर किसानों की आय को दोगुनी करने के लिएतरीके बताए। उप कृषि निदेशक विजय कुमार ने बैठक में कृषकों की आय दोगुनी करने के लिए उचित फार्मिंग माडल बनाकर उपलब्ध कराए।

ये भी पढ़ें- सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, जुलाई की सैलरी में मिल सकता है बढ़ा हुआ एचआरए

केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं हेड डा. अंनत कुमार ने किसानों की समस्याओं को जिलाधिकारी के सामने रखी। इसके साथ ही किसानों को बताया,“ जिन किसानों कोसमस्या हो वह जिलाधिकारी से अवगत करा सकते है। पांच फार्मिंग माॅडल प्रस्तुत किए गए, जिसमें प्रमुखता धान, गेहूं के स्थान पर वर्ष में तीन फसल, मक्का, सरसों,मूंग, गाजर, टमाटर, मूली एवं खेती के साथ बकरी पालन, मधुमक्खी पालन प्रमुख रहे।”

मुख्य विकास अधिकारी सत्येंद्र नाथ चैधरी ने कहा,“ इस तरह के कार्यक्रम प्रगतिशील किसानों के यहां कराए जाएंगे।” डीएम ने कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा के कार्यों की सराहना करते हुए कहा,“ केंद्र का कैंपस अत्यंत शोभनीय है। जिले के किसान केंद्र पर आकर किसानी से संबंधित समस्याओंको हल करा सकते हैं। ”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top