यूपी में तीसरी बार लगेगी किसानों की पाठशाला, चलाई जा रही योजनाओं की मिलेगी जानकारी

गांव में लगेंगी किसानों की पाठशालाओं में किसानों को फसलों और लागू की गई योजनाओं के बारे में भी बताया जाएगा। यह पाठशाला 12 दिसंबर से चार-चार दिन करके दो चरणों में चलेगी।

यूपी में तीसरी बार लगेगी किसानों की पाठशाला, चलाई जा रही योजनाओं की मिलेगी जानकारी

कन्नौज। 'द मिलियन फार्मर्स स्कूल' यानि किसानों की पाठशाला उत्तर प्रदेश में तीसरी बार लगने जा रही है। यह पाठशाला बच्चों के परिषदीय स्कूलों में लगेगी जहां बच्चों के अभिभावकों और गांव के लोगों को किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारियां दी जाएंगी। इस पाठशाला में किसानों को फसलों के बारे में भी बताया जाएगा। यह पाठशाला 12 दिसंबर से चार-चार दिन करके दो चरणों में चलेगी।

किसान पाठशाला

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश : किसानों की आय दोगुनी करने के लिए मनरेगा से जोड़ी जा सकती हैं 260 योजनाएं

किसान पाठशाला के लिए जिलों में भेजे गये पत्र

कृषि उत्पादन आयुक्त और कृषि प्रमुख सचिव ने किसान पाठशाला के लिए इस बार जिलों में पत्र भी भेज दिए हैं। भेजे गये पत्रों में कहा गया है कि किसानों को कृषि और उससे संबंधित अन्य विभागों की सभी योजनाओं, उनके माध्यम से किसानों को देय सुविधाओं, किसानों की आय दोगुनी करने की रणनीति और उपाय के बारे में प्रशिक्षित किया जाए। कृषि उप निदेशक समेत अन्य अधिकारियों को न्याय पंचायत के हिसाब से गांव-गांव पाठशाला लगाने के आदेश डीएम द्वारा भी जारी कर दिये गये हैं।

3 बजे से 4:30 बजे तक चलेगी पाठशाला

उपनिदेशक कृषि डॉ. आरएन सिंह बताते हैं, ''कन्नौज जिले में आठ ब्लॉक हैं। सभी में अलग-अलग अफसरों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों में किसानों को दोपहर तीन बजे से साढे़ चार बजे तक खेती-बाड़ी के बारे में बताया जाएगा।''

''किसान पाठशाला पूरे प्रदेश में लगेगी। चार दिवसीय पहला चरण 12 दिसम्बर से और दूसरा चरण 17-20 दिसम्बर 2018 तक चलेगा। पर्यवेक्षीय अधिकारी अपने-अपने विकास खंड का कम से कम दो-दो पाठशालाओं का प्रतिदिन निरीक्षण करेंगे।'' उन्होंने आगे बताया।

किसान पाठशाला

चरणों के हिसाब से मिलेगी अलग-अलग विषयों की जानकारी

1. प्रथम दिन रबी की मुख्य फसलों, प्रजातियों एवं प्रभावी बिंदु और कृषि-वानिकी, पारदर्शी किसान सेवा योजना, मोबाइल एप एवं डीबीटी की जानकारी दी जाएगी।

2. दूसरे दिन कृषि विभाग की योजनाओं एवं देय सुविधाओं, रबी बीजों पर अनुदान, रबी फसलों के समर्थन मूल्य और प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन व कृषि निवेश प्रबंधन के बारे में बताया जाएगा।

3. तीसरे दिन किसानों की आय दो गुना करने की रणनीति व समेकित कृषि प्रणाली, प्रधानमंत्री फसल बीमा, पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना, मुख्यमंत्री किसान सर्वहित बीमा योजना, किसान क्रेडिट कार्ड व रूपे कार्ड पर प्रकाश डाला जाएगा।

4. चैथे दिन उद्यान एवं पशुपालन विभाग की योजनाएं और गन्ना, मत्स्य, रेशम उत्पादन व जैव उर्जा की जानकारी मिलेगी।

किसान पाठशाला

ये भी पढ़ें: महिलाओं को कृषि की मुख्यधारा में लाएंगे : राधा मोहन सिंह

ग्राम पंचायत सचिव व लेखपाल करेंगे व्यवस्था

किसान पाठशाला का शुभारंभ प्रधान की उपस्थिति में कराया जाएगा। संभव होने पर सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य व ब्लॉक प्रमुख को भी बुलाए जाने के आदेश दिए गए हैं। गांवों के ग्राम पंचायत सचिव व लेखपालों को स्कूलों में किसानों के बैठने की व्यवस्था करने को कहा गया है। आयोजनकर्ता को कार्यक्रम की फोटो भेजने को भी कहा गया है।

Share it
Top