उत्तर प्रदेश

23 लाख रुपए में लखनऊ के एलडीए विभाग ने लिया आईएसओ प्रमाण पत्र, फिर भी लग गई आग

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के एलडीए विभाग ने 23 लाख रुपए खर्च कर आईएसओ से इस बात का प्रमाण पत्र लिया था कि उसकी इमारत फायर प्रूफ और सभी दस्तावेज सुरक्षित हैं, लेकिन शनिवार देर रात रिकार्ड रुम में लगी आग ने इस प्रमाण पत्र को लेने की प्रक्रिया पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए।

ये भी पढ़ें-यूपी में हर दिन बन रहे 20 हजार शौचालय

एलडीए (लखनऊ विकास प्राधिकरण) में आग लगने की सूचना पाकर बुझाने पहुंचे दमकल दस्ते को इमारत के भीतर से लेकर परिसर तक ढूढने पर एक फायर हाइड्रेंट नहीं मिले। दमकल कर्मियों ने आग बुझाने के लिए रोड पर खड़ी गाड़ियो से पानी की पाइप उपर पहुंचाई लेकिन तबतक कई अहम दस्तावेज जलकर राख हो चुके थे। वहीं आशंका जताई जा रही है कि, एलडीए में लोखों रुपए के घोटाले की फाइलों की इस आग के बीच में जलाने का प्रयास किया गया था, जिसे पर वक्त रहते फायर विभाग ने पानी फेर दिया है।

ये भी पढ़ें-यूपी में 72 मोस्टवांटेड मनचले, 10-10 बार लड़कियों को कर चुके हैं परेशान

एलडीए बिल्डिंग की गुणवत्ता की प्रमाणिकता के लिए इसी एक निजी एजेंसी से आईएसओ सर्टिफिकेट लिया गया था। सर्टिफिकेट देने वाली एजेंसी ने भी बिल्डिंग का कोना-कोना चेक करने के बाद सर्टिफिकेट जारी करने का दावा किया था। निरीक्षण के साथ सभी जरुरी प्रक्रिया पूरी करने के बाद दावा किया गया कि इमारत पूरी तरह से सुरक्षित और फायर प्रूफ है। इसके आधार पर एलडीए को प्रमाण पत्र जारी कर किया गया। लेकिन रात दो बजे चौथी मंजिल पर लगी आग बुझाने पहुंचे दमकल कर्मियों की जान जोखिम में पड़ गई। आग वाले कमरे के पास पहुंचे तो वहां से धुआ बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं था। इसकी वजह से उनका दम घुटने लगा।

किसी तरह दरवाजा तोड़कर आग पर काबू पाने के लिए पानी के हाइड्रेट तलाशे गए जो नहीं मिले। कोने में एक हाइड्रेंट मिला जिसमें वाल्व न लगा देख दमकल कर्मी समझ गए कि, यहां का पंपिंग स्टेशन भी काम नहीं कर रहा है। इसके बाद रोड पर खड़ी गाड़ियों से पानी का पाइप चौथी मंजिल पर पहुंचाया गया और आग पर घंटों मशक्कत के बाद ही काबू पाया जा सका। वहीं चीफ फायर ऑफिसर अभय भान पाण्डेय ने बताया कि, एलडीय परिसर में आग लगने की सूचना पर पांच फायर की गाड़ियां मौके पर तत्काल पहुंच गई और समय रहते आग पर काबू पा लिया गया है। साथ ही उन्होंने बताय कि, आग लगने के वजहों की जांच चल रही है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।