यूपी में 2 करोड़ 15 लाख किसानों के आए अच्छे दिन, 1 लाख रुपए तक के कर्ज माफ 

यूपी में 2 करोड़ 15 लाख किसानों के आए अच्छे दिन, 1 लाख रुपए तक के कर्ज माफ सरकार के प्रवक्ता श्री कांत शर्मा।

लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के दो करोड से अधिक लघु एवं सीमांत किसानों का एक लाख रुपये तक का फसली कर्ज माफ करने का आज महत्वपूर्ण फैसला किया। इस फैसले से प्रदेश के राजकोष पर 36359 करोड रुपए का बोझ आएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई प्रदेश मंत्रिपरिषद की पहली बैठक में राज्य के किसानों के हित में ये बड़ा फैसला किया गया जो विधानसभा चुनाव से पूर्व भाजपा के लोक कल्याण संकल्प पत्र में प्रमुख मुद्दा था। कैबिनेट बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह हमारे संकल्प पत्र का हिस्सा है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी चुनाव के दौरान ऐलान किया था कि भाजपा की सरकार बनने पर पहली कैबिनेट बैठक में ही लघु एवं सीमांत किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा।'' सिंह ने कहा कि लघु एवं सीमांत किसानों के विषय में जो महत्वपूर्ण निर्णय कैबिनेट ने किया है, वह फसली रिण से संबंधित है।

गत वर्ष सूखा पड़ा, ओलावृष्टि हुई और बाढ़ आयी जिससे किसानों को काफी नुकसान हुआ। ‘‘उत्तर प्रदेश में लगभग दो करोड़ 30 लाख किसान हैं, जिनमें से 92. 5 प्रतिशत यानी 2.15 करोड़ लघु एवं सीमांत किसान हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘उनका ऋण माफ किया गया है। कुल 30, 729 करोड़ रुपए का कर्ज माफ किया गया है क्योंकि ये किसान बड़ा ऋण नहीं लेते इसी अंदाज से एक लाख रुपए तक का ऋण उनके खाते से माफ किया जाएगा।''

सिंह ने कहा कि साथ ही सात लाख किसान और हैं, जिन्होंने कर्ज लिया था और उसका भुगतान नहीं कर सके, जिससे वह ऋण गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) बन गया और उन्हें कर्ज मिलना बंद हो गया। ऐसे किसानों को भी मुख्य धारा में लाने के लिए उनके कर्ज का 5630 करोड रुपए माफ किया गया है। ‘‘इस तरह कुल मिलाकर किसानों का 36, 359 करोड़ रुपए का कर्ज माफ किया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

कैबिनेट के अहम फैसले

  • 80 लाख मीट्रिक गेंहू खरीदेगी योगी सरकार।
  • 5000 गेहूं खरीद केंद्र स्थापित किए जाएंगे, जिन्हें मुख्यमंत्रियों द्वारा मॉनिटर किया जाएगा।
  • समर्थन मूल्य का पैसा सीधा किसानों के खाते में जाएगा। बिचाैलिए खत्म होंगे।
  • एंटी रोमियो दस्ता अच्छा काम कर रहा है. अभियान की वाहवाही हुई है। थाना स्तर पर बनाया गया दस्ता। अधिकारियों से ब्रीफिंग लेकर निकलता है दस्ता. कपल को परेशान ना किया जाए। कपल को परेशान करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।
  • आलू के किसानों को राहत पहुंचाई जाएगी. आलू खरीद के लिए तीन लोगों की कमेटी बनेगी।
  • रोजगार के लिए युवाओं को बाहर ना जाना पड़े इसके लिए काम होगा। मंत्रियों का एक समूह अलग-अलग राज्यों में जाकर वहां की उद्योग नीतियों को समझेगा। यहां पर सिंगल विंडो नीति का निर्माण होगा. दिनेश शर्मा की अध्यक्षता में ये मंत्रियों का समूह बनेगा. पूंजी निवेश पर जोर रहेगा।
  • अवैध बूचड़खाने नहीं चलाए जाएंगे। 26 अवैध बूचड़खाने बंद किए गए।
  • लघु और सीमांत किसानों का फसली कर्ज माफ किया गया। 2 करोड़ 15 लाख लघु और सीमांत किसानों का 30729 करोड़ कर्जा माफ।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top