सेल्फी को लेकर ये मुहिम सबसे अलग है , जानिए जालौन के चार दोस्तों ने कैसे शुरू किया

सेल्फी को लेकर ये मुहिम सबसे अलग है , जानिए जालौन के चार दोस्तों ने कैसे शुरू कियासेल्फी विद सैपलिंग से जुड़े बच्चे से लेकर बड़े तक

जालौन। पेड़ कम हो रहे हैं जिसकी वजह से ग्लोबल वार्मिंग भी बढ़ती जा रही है। पहाड़ों से बर्फ पिघल रही है। इस तरह की चेतावनी और खबरें पढ़ने के बाद भी हम अपनी प्रकृति को बचाने के लिए कुछ ठोस कदम नहीं उठा रहे हैं। ऐसे में यूपी के जालौन के चार दोस्तों ने पौधरोपण के लिए लोगों को जागरूक करने की ठानी है।

दुबई, नोएडा, दिल्ली में नौकरी करने वाले ये दोस्त इन दिनों सेल्फी विद सैपलिंग नाम से मुहिम चला रहे हैं। इसके जरिए जालौन के मलकपुरा गांव में लोग पौधे लगाकर सेल्फी क्लिक कर रहे हैं।

पढ़ें एक करोड़ ‘वृक्ष दूत’ करेंगे वनों का संरक्षण

इन चार दोस्तों में से एक अमित बताते हैं, ‘शुरुआत में हमने 20 पेड़ों का लक्ष्य रखा था लेकिन अब बढ़ते-बढ़ते यह 150 तक पहुंच गया है जिसमें 130 पेड़ अब तक लगाए जा चुके हैं। इसके अलावा दो प्रधान इस आइडिया पर अमल करने पर सहमत हुए हैं, वे कुल मिलाकर लगभग 50 पेड़ लगा रहे हैं।’

पढ़ें पर्यावरण को बचाने के लिए जयपुर की किरण चला रही विशेष मुहिम, लोगों के घर को कर रहीं हरा-भरा

इस तरह मिला आइडिया

अमित बताते हैं कि पेड़ जरूरी है ये हम जानते हैं लेकिन एक नागरिक के तौर पर मानते नहीं हैं। समाज में तमाम बदलाव लाने के लिए सिर्फ सरकारी मशीनरी पर्याप्त नहीं होती, इनकी सफलता तब तक सुनिश्चित नहीं होती, जब तक जन-भागीदारी न की जाए। सरकार तो 1950 से ही भारत को हरा-भरा बनाने का प्रयास कर रही है लेकिन परिणाम दूर-दूर तक नहीं दिखाई देते। ऐसे में हमने सोचा कि क्यों न मिलकर कुछ करें। लोग सोशल मीडिया, मसलन फेसबुक, ट्विटर या व्हाट्सअप पर पर्यावरण पर चिंता तो जताते हैं लेकिन जब एक्शन की बात आती है तो दिखाई नहीं देते। हम क्यों न कुछ ऐसा करें जो उन्हें इस मुहिम से सीधे जोड़ दे।

पढ़ें पुलिस के दोस्त बने बच्चे, प्राथमिक स्कूल पवोरा में पौधरोपण

फिर हमने हरियाणा के बीवीपुर के सरपंच के बारे में पढ़ा जिन्होंने साल 2015 में #सेल्फीविदडॉटर शुरू किया था। इस आधार पर हमने दस दिन पहले ही #सेल्फीविदसेपलिंग (#SelfieWithSapling) शुरू किया।

ट्री-गार्ड के साथ लोगों के नाम भी

अमित के अनुसार, इस मुहिम के जरिए लोगों को मुफ्त में पेड़ देने के साथ उन्हीं के पैसों से ट्री-गार्ड उपलब्ध कराया जाता है। जो ट्री-गार्ड लेने में सक्षम नहीं है, वे पेड़ ले कर खुद किसी न किसी तरह से पेड़ों की सुरक्षा कर रहे हैं। ट्री-गार्ड पर कैंपेन (#SelfieWithSapling) के नाम के साथ व्यक्ति का नाम और स्थान लिखा होता है।

पढ़ें पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिये लोगों के घरों तक जा कर लगाते है नि:शुल्क पौधे

प्रधानमंत्री को लगातार दो साल से लिख रहे लेटर

अमित पिछले दो वर्षों से प्रधानमंत्री मोदी को सोशलमीडिया के माध्यम से इसे जनांदोलन बनाने के लिए लिख रहे हैं लेकिन अभी कोई जवाब न मिलने पर उन्होंने खुद ही मुहिम शुरू की। अमित बताते हैं कि जिला प्रशासन को भी ये आइडिया दिया गया। जालौन के जिलाधिकारी और उरई उपजिलाधिकारी को ये आइडिया पसंद आया और इस पर अमल करने का आश्वासन दिया है।

पढ़ें पीपल के पौधे लगाकर आयशा व शकीरा ने दिए पर्यावरण बचाने का संदेश

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top