उन्नाव में पेट्रोल पंप पर खूब हो रही मनमानी, ग्राहकों की कट रही जेब, जिम्मेदार अंजान 

उन्नाव में पेट्रोल पंप पर खूब हो रही मनमानी, ग्राहकों की कट रही जेब, जिम्मेदार अंजान लखनऊ में इन दिनों पेट्रोल पंपों की जांच तेजी से चल रही है, कई पेट्रोल रीडिंग मशीनें अब तक सीज की जा चुकी हैं (फोटो: गाँव कनेक्शन) 

उन्नाव। पड़ोसी जनपद लखनऊ में पेट्रोल पंपों पर घटतौली के गोरखधंधे का खुलासा होने के बाद भी जिले में जिम्मेदारों की नींद नहीं टूट रही है। आधुनिक तरीके से पेट्रोल की चोरी के खुलासे के बाद भी जिले में संचालित पंपों की जांच के लिए अब तक किसी तरह की रणनीति नहीं बनाई जा सकी है।

जिलाधिकारी अदिति सिंह ने बताया कि अभी तक पेट्रोल पंप पर जांच के लिए उन्हें कोई आदेश नहीं मिला है। आदेश मिलने के बाद टीम गठित कर जांच कराई जाएगी। वहीं अगर किसी ग्राहक को शिकायत होती है तो वह शिकायत करे संबधित विभाग उक्त पंप के खिलाफ जांच करेंगे।पं का कहना है कि जब लखनऊ में इस तरह धांधली के मामले आए हैं तो उन्नाव में इसकी संभावना और अधिक है। इसकी सही रूप से जांच होनी चाहिए।

हाल ही में एसटीएफ ने प्रदेश की राजधानी में संचालित एक दर्जन से अधिक पेट्रोल पंप पर छापा मारा था। यहां मशीनों में लगी चिप से बड़े पैमाने पर घटतौली पकड़ी गई थी। पेट्रोल पंपों पर चिप के जरिए की जा रही घटतौली का खुलासा होते ही सब हैरत में आ गए थे। इस बीच पंपों पर मशीनों में चिप लगाने वाले व्यक्ति को भी एसटीएफ ने हिरासत में ले लिया जिसने लखनऊ के साथ ही उसके आसपास के कई जिलों में चल रहे पेट्रोल पंपों पर भी मशीनों में चिप लगाने की बात कबूल की थी जिसके बाद एसटीएफ ने कार्रवाई का दायरा बढ़ा लिया।

साथ ही शासन ने अन्य जिलों में भी विभागों को जांच के आदेश दे दिए। हालांकि जिले के अधिकारी इस ओर गंभीर नहीं है। जिले के अधिकारी अभी भी लिखित आदेश का इंतजार कर रहे हैं। पेट्रोल पंपों पर घटतौली व गुणवत्ता की जांच करने वाले बांट-माप विभाग व जिला पूर्ति विभाग ने अब तक पेट्रोल पंपों की जांच की किसी तरह की रणनीति नहीं बनाई है। यह तब है जब लगातार पेट्रोल पंपों पर मनमानी व घटतौली की शिकायतें विभागों तक पहुंच रही हैं। शिकायतकर्ताओं का आरोप रहता है कि पंप पर कर्मचारी अपने हिसाब से काम करते हैं। शिकायत दर्ज कराने के लिए उनसे जब शिकायत रजिस्टर मांगा जाता है तो वह देने से इंकार कर देते हैं। यही नहीं ग्राहकों के कहने पर लिटमस टेस्ट भी नहीं हो पाता। ग्राहक जब लिटमस टेस्ट की मांग करता है तब पंप कर्मचारी विवाद करने लगते हैं।

हाईवे के पेट्रोल पंप निशाने पर

पेट्रोल पंप की मशीनों में घटतौली के लिए विशेष तरह की चिप लगाई जाती है। चिप एक रिमोट के जरिए काम करती है। मशीनों में चिप लगाने वाले गिरोह का खुलासा करने के बाद एसटीएफ ने कई लोगों को गिरफ्तार भी किया है। बताया जा रहा है कि पकड़े गए युवकों ने लखनऊ समेत कई अन्य जिलों में पंपों पर चिप लगाने की बात कबूल की है जिसमें कुछ पंप लखनऊ कानपुर रोड पर भी संचालित हो रहे हैं। बताया जा रहा है कि जल्द ही एसटीएफ उन पंप पर भी छापा मारकर कार्रवाई करेगी।

आदेश मिलने पर होगी कार्रवाई

जिलाधिकारी अदिति सिंह ने बताया कि अभी तक पेट्रोल पंप पर जांच के लिए उन्हें कोई आदेश नहीं मिला है। आदेश मिलने के बाद टीम गठित कर जांच कराई जाएगी। वहीं अगर किसी ग्राहक को शिकायत होती है तो वह शिकायत करे संबधित विभाग उक्त पंप के खिलाफ जांच करेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top