गाँव कनेक्शन फाउंडेशन व अल्प संख्यक विभाग ने मदरसे में कराई वर्कशाप

Vinod SharmaVinod Sharma   12 Aug 2017 8:14 PM GMT

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन व अल्प संख्यक  विभाग ने मदरसे में कराई वर्कशापजिला अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, वाराणसी व गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने मदरसा में कराया वर्कशॉप का अायोजन।

वाराणसी। जिला अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, वाराणसी और गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को मदरसा आधुनिक शिक्षक/शिक्षिकाओं के लिए प्रशिक्षण और वर्कशॉप का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी विजय प्रताप यादव थे। उन्होंने कहा,“ मदरसा शिक्षकों की बेहतरी के लिए तमाम योजनाओं पर काम चल रहा है और कुछ प्रस्तावित भी है। सितम्बर के पहले सप्ताह में बेसिक शिक्षा विभाग की तरह मदरसा शिक्षा का पोर्टल लांच होगा, जिसमें सारी जानकारियां विभाग द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा।”

नेशनल इंटर कालेज में आयोजित कार्यक्रम में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने कहा,“ मदरसा का पाठ्यक्रम निर्धारित नहीं है। प्रदेश के सभी जिलों में अलग-अलग पाठ्यक्रम चलता है, जो गंभीर मुद्दा है। मदरसा शिक्षा को बेहतरीन बनाने के लिए सीबीएसई की तरह इसका भी पाठ्यक्रम होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मदरसा शिक्षक काफी योग्य हैं, लेकिन शासन स्तर पर इनकी पैरवी नहीं होने से वर्तमान में ये लोग काफी परेशान हैं। शिक्षकों की कुछ परेशानियां मेरी जानकारी में आई हैं। इस संबंध में प्रमुख सचिव (अल्पसंख्यक कल्याण) मोनिका एस गर्ग से वार्ता की गयी है, जिसमें प्रमुख मुद्दा मानदेह बढ़ाने और समय पर देने की वकालत की है। उन्होंने मुझे आश्वास्त किया है कि हम जल्द ही सभी मुद्दों पर विचार-विमर्श कर निस्तारण कराती हूं।”

ये भी पढ़ें: पीडब्ल्यूडी के ट्रांसफर हुए इंजीनियर पहुंचें तैनाती स्थल पर वरना होगी छुट्टी

इस मौके पर गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के जिला कोआर्डिनेटर विनोद शर्मा ने मदरसे के शिक्षकों को गांव कनेक्शन अखबार से जुडऩे के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा, “ गाँव कनेक्शन अखबार सरकार की योजनाओं, महिला राइट्स, समाज में हो रही गतिविधियों को प्रमुख से उठाता है। साथ ही लोगों की समस्याओं को शासनस्तर तक पहुंचाने का एक माध्यम भी बन सकता है। मदरसे में होने वाली अच्छी चीजें, जो समाज के लिए प्रेरणा का काम करेगी। गलत चीजों को प्रकाशित कर उसे रोकने में मदद कर सकता है।”

कार्यक्रम के अंत में मदरसों के प्रिंसिपल और प्रबंधकों ने स्वस्तंत्रा दिवस को लेकर शासन द्वारा कार्यक्रम के संदर्भ में जारी आदेश के बारे में पूछा। राष्ट्र गीत और राष्ट्रगान गाने को लेकर बहस भी हुई। लोगों को शांत कराते हुए जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने सभी के बीच में शासनादेश पढ़कर सुनाया और कार्यक्रम की फोटो भेजने को कहा।

ये भी पढ़ें: दीनदयाल पार्क से गायब हो गए1500 प्रजाति के वृक्ष, अफसर खा गए रखरखाव का बजट

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top