स्वच्छता के लिए औरैया जिले की महिलाओं ने उठाया बीड़ा, दुकानों पर रखवा रहीं कूड़ेदान 

स्वच्छता के लिए औरैया जिले की महिलाओं ने उठाया बीड़ा, दुकानों पर रखवा रहीं कूड़ेदान दुकानदारों को समझाती महिलाएं

एसके धुनिया (स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट)

औरैया। राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन की महिलाओं ने क्लीन औरैया, ग्रीन औरैया के लिए कमर कस ली है। संगठन की महिलाएं शहर के अंदर मिठाई, चाट, चाय, बियर, शराब के ठेकों पर कूड़ादान रखवा रही हैं। जहां कूड़ादान नहीं रखा होता है वह दूसरे दिन धरना देने की चेतावनी दे देती है, जिससे मजबूरन लोग दुकान के सामने बंद कूड़ादान रखने लगे।

ये भी पढ़ें: 17 वर्षीय मानसी स्वच्छ भारत अभियान को दे रही नई उड़ान

सफाई व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए संगठन की अनीता मिश्रा, सर्वेश कुमारी दर्जनों महिलाओं के साथ शहर को स्वच्छ रखने का मन बना लिया है। शहर की महिलाओं पर कहावत भी सटीक चरितार्थ हो रही है जिसके हौंसले बुलंद हो उसकी मंजिल दूर नहीं होती। सभी महिलाएं एक साथ मिठाई, चाट, चाय, बियर, शराब, ढावा, होटल सहित कूड़ा फैलाने वाली दुकानों पर कूड़ादान रखवाने के लिए निकली है। पहले दिन महिलाओं ने शराब और चाट पकौड़ी की दुकानों पर जाकर दुकानदारों से कूड़ादान रखने के लिए आग्रह किया। कुछ लोगों ने कूड़ादान रखने में आनाकनी की तो दूसरे दुकान बंद करा प्रदर्शन करने की चेतावनी दी।

ये भी पढ़ें: चौदह हजार महिलाओं ने स्वच्छ भारत अभियान को दी रफ्तार

अपनी-अपनी दुकानों के सामने किसी ने छोटा तो किसी ने बड़ा कूड़ादान रख लिया, जिनके पास व्यवस्था नहीं थी उन्होंने दूसरे दिन रख लेने की बात कही। तकरीबन 50 दुकानदारों से संपर्क कर दुकान के सामने महिलाओं ने कूड़ादान रखवा दिये। महिलाओं ने हिदायत देते हुए कहा कि अगर किसी दुकानदार ने रखने में आनाकनी की तो उसकी दुकान बंद करा प्रदर्शन किया जायेगा। जिला पंचायती राज कार्यालय द्वारा मुकदमा भी दर्ज कराया जायेगा।

ये भी देखिए:

खुद रहोगे स्वच्छ, तभी तो रहोगे स्वस्थ

संगठन प्रभारी अनीता मिश्रा ने बताया, ”जब तक हम खुद स्वच्छ नहीं रहेंगे, तब तक स्वस्थ नहीं रहेंगे। सबसे अधिक गंदगी ढ़ाबा, होटल और दुकानदारों के मालिकों द्वारा फैलाया जाता है। जिस पर कोई लगाम नहीं लगा पा रहा है। हम महिलाओं ने लगाम लगाने के लिए पहल शुरू की है। हम अपनों के हित के लिए कर रहे है अपने लिए नही।”

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.