गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के प्रोग्राम में बच्चों ने सीखा ‘गुड टच बैड टच’

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के प्रोग्राम में बच्चों ने सीखा ‘गुड टच बैड टच’पूर्व माध्यमिक विद्यालय मामपुर बाना ने गुड टच बैड टच की जानकारी लेते बच्चे।

लखनऊ। “दीदी, मेरे मामा जब मुझे छूते हैं तो मुझे अच्छा नहीं लगता। घर में क्या बताऊं और कैसे बताऊं। अगर बताऊं भी तो कोई मानेगा नहीं।” ये बातें कक्षा पांच में पढ़ने वाली एक छात्रा ने बताई।जब उसे अच्छे और बुरे स्पर्श के बीच अंतर बताया गया।

जनपद मुख्यालय से 12 किमी की दूरी पर स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय मामपुर बाना व रुदही उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन द्वारा यौन हिंसा व गुड टच ,बैड टच पर बच्चों खेल प्रोजेक्ट संस्था के सहयोग से जानकारी दी गई ।

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन और स्वास्थ्य विभाग ने शिविर लगाकर ग्रामीणों को बांटीं दवाएं

लखनऊ जिले के पूर्व माध्यमिक विद्यालय मामपुर बाना में खेल प्रोजेक्ट के ट्रेनर अमित,शीबा,और समीक्षा के अंतर्गत ग्रामीण बच्चों में लड़कों और लड़कियों के अलग अलग ग्रुप बनाकर खेल के माध्यम से बच्चों को नज़दीकी लोगो द्वारा किए जाने वाले स्पर्श के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।

स्कूल की प्रधानाचार्या डॉ. मीनाक्षी पोखरियाल ने कहा, “इस तरह के जागरूकता कार्यक्रम से एक तरफ जहां इन मुद्दों पर बच्चों का नज़रिया बदला है, वहीं इससे अच्छी जानकारियां भी मिलती हैं। इस तरह के प्रोग्राम महीने में एक दो बार हो जाएं तो और बेहतर रहेगा।”

ये भी पढ़ें:#स्वयंफेस्टिवल: बेझिझक करें गुड टच, बैड टच पर बातें

कक्षा दस की छात्राओं को जानकारी देती खेल प्रोजेक्ट संस्था।

गाँव कनेक्शन टीम ने बीकेटी के रुदही उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में बच्चों को प्रशिक्षण दिया। प्रशिक्षक सीबा और समीक्षा ने कक्षा छह से कक्षा 10 की लड़कियों को अपने नज़दीकी लोगों से होने वाले स्पर्श के बारे में बताते हुए कहा,“ वो स्पर्श जिसे से अच्छा महसूस हो उसे अच्छा स्पर्श कहते हैं।अगर कोई गलत स्पर्श करें, शरीर के निजी हिस्सो को छुए तो तुरंत विरोध करें और अपने माता पिता को जरूर बताएं। अगर वो इन बातों पर अधिक ध्यान नहीं देते हैं तो लड़कियां 1090 और किशोर 1098 पर फोन करके शिकायत दर्ज कराएं।”

वहीं रुदही उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य वीके चक्रवती ने कहा, “ आज के दौर में जब दुराचरण के चलते नज़दीकी रिश्ते भी हाशिए पर आ गए हैं। ऐसे में इन मुद्दों पर बच्चों को जागरूक करना बेहद ज़रूरी है।” वहीं विद्यालय के सह संचालक आशीष यादव ने गाँव कनेक्शन की पहल का स्वागत करते हुए भविष्य में इस तरह के कार्यक्रमों के आयोजन में रुचि ज़ाहिर की।

Share it
Top