मॉडल विलेज बनाने की होड़ में जुटे ग्राम प्रधान

Neetu SinghNeetu Singh   25 April 2017 4:19 PM GMT

मॉडल विलेज बनाने की होड़ में जुटे ग्राम प्रधानअजय सिंह यादव ग्राम प्रधान 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। “देश के 10 आदर्श गाँवों में हमारा गाँव चौथे नम्बर पर है, हमारी कोशिश है कि हम अपने गाँव को जल्द ही पहले नम्बर पर पहुंचाएं। गाँव में सोलर व्यवस्था से लेकर पंचायत भवन तक सभी जरूरत की सुविधाएं मौजूद हैं।” ये कहना है बिहार राज्य के जहानाबाद जिले के धरणई ग्राम पंचायत के प्रधान अजय सिंह यादव (35 वर्ष) का। ऐसे ही कई प्रधानों को पंचायतीराज दिवस के मौके पर सम्मानित किया गया जो अपने गाँव को आदर्श गाँव बनाने में लगे हैं।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

पंचायतीराज मंत्रालय द्वारा वर्ष 2011-12 से प्रत्येक वर्ष 24 अप्रैल को मनाए जाने वाले राष्ट्रीय पंचायतीराज दिवस के अवसर पर पुरस्कारों के माध्यम से बेहतरीन काम करने वाली पंचायतों को सरकार की तरफ से प्रोत्साहित किया जाता है। राष्ट्रीय पंचायतीराज दिवस पर आशियाना के डॉ. राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें उत्तर प्रदेश समेत 26 राज्यों और तीन केंद्र शासित प्रदेश के 3500 पंचायत प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।

दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार से सम्मानित किये गये अजय सिंह का कहना है, “जब सरकार की तरफ से इस तरह के पुस्कार दिए जाते हैं तो अच्छा लगता है कि सरकार की ओर से हमारे काम को सराहा जा रहा है। हमारे गाँव में सोलर प्लांट लगा है, जिससे आसपास के पांच-छह गाँव में बिजली मुहैया कराई जाती है।”

दिलीप त्रिपाठी ग्राम प्रधान

दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार सार्वजनिक सेवाओं और पीआरआई द्वारा किये गये अच्छे काम को मान्यता प्रदान करने के लिए 25 राज्यों के 189 सर्वोत्तम पंचायतों को पंचायतीराज दिवस पर दिया गया। इस कार्यक्रम में प्रतिभाग करने आये उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले के भनवापुर ब्लॉक के हसुड़ी औसानापुर के ग्राम प्रधान दिलीप त्रिपाठी (38 वर्ष) बताते हैं, “हमारी पूरी कोशिश है कि हमारी ग्राम पंचायत उत्तर प्रदेश की पहली वाई-फाई युक्त पंचायत बने।

गुजरात के पुंसारी गाँव की तर्ज पर हम अपने गाँव को बनाना चाहते हैं, पूरे गाँव का मैप तैयार हो गया है। एक परिवार के बारे में 36 तरह की जानकारी उपलब्ध होगी।” वो आगे बताते हैं, “प्राइमरी स्कूल मेंटेन हो चुके हैं। पूरा गाँव गुलाबी रंग से कलर करवाएंगे, हर तीसरे घर के सामने कूड़ादान होगा।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top