रायबरेली में सरकारी फरमान से सैकड़ों ग्रामीण बेघर 

रायबरेली में सरकारी फरमान से सैकड़ों ग्रामीण बेघर चारागाह की जमीन पर बने मकानों को कराया जायेगा खाली।

होरीलाल, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

हरचंदपुर (रायबरेली)। जब पैंडेपुर ग्रामसभा के प्रधान ने पंचायत की ज़मीन पर गाँव के कुछ परिवारों को पट्टा दिया था, तो उन ग्रामीणों ने यह बिलकुल भी नहीं सोचा था कि एक दिन उन्हें अपने घर से बेघर कर दिया जाएगा।

जिला मुख्यालय से 20 किमी पश्चिम दिशा में हरचंदपुर ब्लॉक के पैंडेपुर ग्रामसभा में सरकार के आदेश पर चारागाह खाली करवाने के लिए आए लेखपाल, कानूनगो को देखकर यहां रह रहे 40 परिवारों में दहशत फ़ैल गई। जिले के हरचंदपुर से अघौरा लिंक मार्ग और कुंदनगंज लिंक मार्ग पर चारागाह की ज़मीन है।

ये भी पढ़ें- गोरखपुर का एक गाँव, जहाँ हर घर में इंसेफ़्लाइटिस ने जान ली है

पैंडेपुर गाँव के निवासी खिलाड़ी उम्र (60 वर्ष) बताते हैं, ‘’हमको तो मालूम नहीं था कि यह चारागाह की जमीन है। प्रधान चाचा ने हमको पट्टा दिया था। अब साहब कहते हैं कि यह ज़मीन चारागाह है। घर गिरवाना पड़ेगा।’’ ग्राम पंचायत में चारागाह की ज़मीन पर करीब 15 परिवार रह रहे हैं। ये परिवार इस ज़मीन पर करीब 40 वर्षों से जीवनयापन कर रहे हैं।

कुछ परिवारों ने इस ज़मीन पर धान भी बोया है, लेकिन प्रशासन की मनमानी के चलते इस ज़मीन पर भी ट्रैक्टर चलवा दिया गया। गाँव की इंद्रा देवी (65 वर्ष) बताती हैं, ‘’हमारा तो बहुत लम्बा परिवार है, अब हम कहां जाएं। ज़मीन चली जाने से हम तो बर्बाद हो जाएंगे।” पूर्व ब्लॉक प्रमुख राम कुमार कोरी (48 वर्ष) कहते हैं, “चारागाह की ज़मीन पर आने वाले घरों को हटवाने से करीब 300 से 350 लोग प्रभावित होंगे। सरकार को कुछ करना चाहिए, जमीन जितनी है उतने में चारागाह बनवा सकते हैं। मकान नहीं गिरने चाहिए।’’

ये भी पढ़ें- इस गाँव में रहते हैं सिर्फ 12 लोग

चारागाह खाली करने के विषय में लेखपाल कौशल किशोर ने बताया, “चारागाह की ज़मीन नापकर चिन्हित की जा रही है। लोगों ने अवैध कब्ज़ा कर लिया है। पहले से उनको यह सूचना दी जा रही है आगे जो भी शासन का आदेश होगा, उसके तहत कार्रवाई की जाएगी। ग्राम प्रधान आशा देवी (48 वर्ष) कहती हैं, ‘’गाँव के गरीब अनपढ़ लोग थे। इनको क्या मालूम, इनको जहां बताया गया वहां इन्होंने घर बनवा लिया। अब अगर इनके घर गिराए जाएंगे तो यह इनके साथ अन्नाय होगा।’’

एसडीएम सदर राजेश प्रताप तिवारी ने बताया जिले में अभियान के तहत चारागाहों पर अवैध कब्ज़ा हटाने पर कार्रवाई की जा रही है। अभी जहां-जहां लोगों द्वारा ज़मीन अधिग्रहित की गयी है, उनको चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top