आईजी रेंज लखनऊ ने थानों में बैठे मुंशियों की ली क्लास

आईजी रेंज लखनऊ ने थानों में बैठे मुंशियों की ली क्लासलखनऊ रेंज के आईजी जय नारायण सिंह।

गॉंव कनेक्शन संवाददाता

लखनऊ। थानों में बैठे हेडमोहर्रिर (मुंशी) की हनक कोतवाल से कम नहीं होती है। जिसका नतीजा आम जनता को उनके बुरे बर्ताव से दो-चार होकर उठाना पड़ता है। पीड़ितों को इस बात को ध्यान में रखते हुए लखनऊ रेंज के आईजी जय नारायण सिंह ने शुक्रवार को कोतवालों की बैठक न लेकर लखनऊ रेंज के सभी थानों के हेडमोहर्रिर की बैठक कर जनता के प्रति वर्ताव बदलने की हिदायत दी है। बैठक का आयोजन लखनऊ रिजर्व पुलिस लाइन में किया गया था।

पुलिस लाइन में आईजी ने पुलिस की मोटरसाइकिलें अव्यवस्थित खड़ी होने पर नाराजगी जताते हुए आरआई को कड़ी फटकार लगाई। साथ ही बैठक में जिले की एक महिला एसपी के ना पहुंचने पर नारजगी व्यक्त किया। वहीं कुछ थानों के हेडमोहर्रिर और मालखाना इंचार्ज के बैठक में ना पहुंचने पर आईजी नाराज हो गए और इस बाबत एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार पर भी नाराजगी व्यक्त करते हुए लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। नए आईजी के तेवर देख एसी हॉल में मीटिंग में मौजूद पुलिसकर्मियों के पसीने छुटने लगे।

आईजी लखनऊ रेंज जय नारायण सिंह ने अपना कार्यभार बीते शनिवार को ग्रहण करते ही अपनी प्राथमिकताएं गिनाते हुए कानून-व्यवस्था को और चुस्त-दुरुस्त करने की बात कही थी। जिसमें उन्होंने रेंज के सभी थानों के हेडमोहर्रिरों के साथ एक बैठक करने की बात कही थी। शुक्रवार को हुई इस बैठक में उन्होंने पुलिस लाइन पहुंचे सभी हेडमोहर्रिर के पेंच कसे। साथ ही थाना स्तर पर पुलिसकर्मियों को अपनी आदतों में सुधार लाने की हिदायत दी।

आईजी ने सख्त लहजे में निर्देश दिया कि, अगर कोई भी पुलिसकर्मी पीड़ित से रिश्वत लेते पकड़ा गया तो, उस पर सख्त कार्रवाई करने के साथ-साथ जेल भेजा जायेगा। साथ ही क्षेत्र में घटना होने पर अगर कोई संबंधित चौकी इंचार्ज मौके पर नहीं पहुंच पा रहा हो तो, उनके स्थान पर थाने के हेडमोहर्रिर तत्काल पहुंचे। साथ ही आईजी ने इस बैठक में कई दिशा-निर्देश दिए हैं, जिसका पालन ईमानदारी से करने को अपने मातहतों को कड़े लहजे में चेतावनी दी है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top