सीएम योगी और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के क्षेत्र में जीते निर्दलीय उम्मीदवार

Kushal MishraKushal Mishra   1 Dec 2017 5:50 PM GMT

सीएम योगी और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के क्षेत्र में जीते निर्दलीय उम्मीदवारफोटो साभार: इंटरनेट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव 2017 में भले ही भाजपा बढ़त बनाए हुए है, मगर दूसरी ओर की तस्वीर यह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को अपने वार्ड में हार का सामना करना पड़ा है। दोनों ही क्षेत्रों से निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की है। ऐसे में निकाय चुनाव में उम्मीदवारों के बीच बेहद दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल रहा है।

गोरखपुर वार्ड नंबर 68: निर्दलीय मुस्लिम महिला प्रत्याशी नादरा को मिली जीत

गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का निवास स्थान वार्ड नंबर 68 पर है। इस वार्ड क्षेत्र में ही गोरखनाथ मंदिर है। इस वार्ड में निर्दलीय मुस्लिम महिला प्रत्याशी नादरा खातून ने भाजपा उम्मीदवार को हराते हुए जीत दर्ज की है। बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने इस वार्ड में अपने मताधिकार का उपयोग किया था। इस वार्ड में नादरा ने अपने प्रतिद्वंदी भाजपा की माया त्रिपाठी को 462 वोटों से हराया है। जीत के बाद नादरा ने कहा, “मैंने अपने क्षेत्र में विकास के मुद्दे पर लड़ाई लड़ी है और यहां के लोगों में मुझ पर भरोसा कर जिताया है।“

कौशाम्बी में भाजपा की करारी हार

दूसरी ओर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का निवास स्थान कौशाम्बी में है। कौशाम्बी में भाजपा को छह नगर पंचायतों में करारी हार का सामना पड़ा है। कौशाम्बी के सिराथू नगर पंचायत उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य का आवास है। इस नगर पंचायत से निर्दलीय उम्मीदवार राजेंद्र यादव उर्फ भोला यादव चेयरमैन के पद पर जीत हासिल की है। यहां से खड़े भाजपा प्रत्याशी प्रशांत केसरी को 1680 मतों से हार का सामना करना पड़ा है। बड़ी बात यह है कि कौशाम्बी के छह नगर पंचायतों में से किसी भी पंचायत में भाजपा को जीत नहीं मिली। बता दें कि उत्तर प्रदेश में इस बार 653 निकायों में 12,007 वॉर्डों में चुनाव हुआ है।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव मतगणना में मेयर पद की 13 सीटों पर भाजपा और तीन सीटों पर बसपा आगे

यह भी पढ़ें: मथुरा: दोनों उम्मीदवारों को मिले बराबर वोट, फिर हुआ लकी ड्रॉ, जीत गईं भाजपा प्रत्याशी

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top