पीलीभीत में धान और गन्ना क्रय केंद्रों पर सीएम योगी का औचक निरीक्षण

पीलीभीत में धान और गन्ना क्रय केंद्रों पर सीएम योगी का औचक निरीक्षणपीलीभीत में सरकारी क्रय केंद्रों के औचक निरीक्षण में पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को पीलीभीत में धान और गन्ना क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने कृषि उत्पादन मण्डी समिति के सरकारी क्रय केंद्रों का निरीक्षण कर धान खरीद की हकीकत जानी।

किसानों से बात की, धान का बोरा रख वजन देखा

सरकारी क्रय केंद्रों पर धान बेचने के लिए आए किसानों से बात की और समस्याओं के समाधान किए जाने का आश्वासन दिया। क्रय केंद्र पर इलेक्ट्रॉनिक कांटे पर धान का बोरा रखकर वजन देखा। क्रय केंद्र प्रभारियों से धान खरीद के भुगतान की स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त की।

आरएफसी प्रथम क्रय केंद्र का भी निरीक्षण किया

मुख्यमंत्री ने मण्डी समिति परिसर में आरएफसी प्रथम क्रय केंद्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान धान खरीद के अभिलेख और आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान की स्थिति के बारे में पूछा, जिस पर क्रय केंद्र प्रभारी ने संतोषकजनक जवाब दिया।

डीएम शीतल वर्मा ने दिया विवरण

आरएफसी के मरौरी एट मण्डी सेंटर पर मुख्यमंत्री योगी ने धान खरीद और भुगतान स्थिति को जाना, जिस पर डीएम शीतल वर्मा ने बताया कि धान खरीद के बाद किसानों के खातों में आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान भेज दिया जाता है। उन्होंने किसान के मोबाइल पर एसएमएस भेजने के बारे में भी बताया।

अब तक जिले में 36 प्रतिशत धान खरीद

योगी ने 15 रुपये प्रति कुंतल अतिरिक्त दिए जाने की स्थिति के बारे में पूछा तो उन्हें बताया गया कि प्रत्येक किसान के खाते में अतिरिक्त धनराशि दी जा रही है। प्रत्येक किसान को 1565 रुपये प्रति कुंतल के हिसाब से भेजा जा रहा है। डीएम की ओर से जिले में 36 प्रतिशत धान खरीद होने की जानकारी दी गई।

किसानों ने मुख्यमंत्री से बताई समस्याएं

पुरैनी दीपनगर के किसान गुरदीप सिंह ने मुख्यमंत्री से कहा कि धान नमी का मानक काफी पुराना है। इसमें बदलाव की जरूरत है। पहले हाथ से धान की कटाई होती थी, अब कंबाइन से हो रही है। ऐसे में धान में नमी होना तय है। इस पर मुख्यमंत्री ने किसान को आश्वस्त किया। वहीं, मथना जप्ती के किसान मंदीप सिंह ने जंगली जानवर के आने का खतरा पर अंकुश लगाने के लिए सोलर फैंसिंग की मांग उठाई, जिस पर कार्रवाई की बात कही गई। यूपी एग्रो सेण्टर के सामने परेवा वैश्य के किसान प्रदीप से भी मुख्यमंत्री ने बात की और उसका दुःख-दर्द जाना।

किसानों का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि धान और गन्ने का समर्थन मूल्य किसानों को दिलवाना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। किसी भी स्तर पर किसानों का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। वे किसानों का दुःख-दर्द जानने के लिए आए थे। किसानों को किसी भी स्तर पर दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। धान में नमी की मात्रा में बढ़ोत्तरी की दिक्कत में कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक किसान का धान खरीदा जाएगा। कोई भी किसान सेण्टर से लौटाया न जाए। अगर शिकायत मिलती है, तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। किसानों के लिए समर्थन मूल्य की व्यवस्था बनाई गई है। उसका लाभ दिलवाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: आदित्यनाथ 14 नवंबर से अयोध्या से करेंगे यूपी निकाय चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top