उत्तर प्रदेश

योगी सरकार का निर्देश,नई तकनीक से बनेंगी सड़कें, स्कूलों में हो गीता गायन  

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश के सभी स्कूलों में ‘भगवद् गीता’ पर आधारित गायन प्रतियोगिताएं कराने के निर्देश भेजे हैं। अधिकारियों ने बताया कि इन प्रतियोगिताओं के नतीजों के आधार पर इस महीने के अंत में राजधानी लखनऊ में राज्यस्तर की एक प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा।

राज्य के माध्यमिक शिक्षा विभाग के सभी मंडलों के संयुक्त निदेशकों को सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि, सभी बोर्डों के तहत आने वाले सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त और निजी स्कूलों में जिला और मंडल स्तर पर ये प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएं। अधिकारियों ने गुरूवार को कहा कि इस महीने के अंत में राज्य स्तर की प्रतियोगिता के लिए गायकों या टोलियों के नामों के चयन का काम 11 से 15 दिसंबर तक जिला और मंडल स्तर पर होगा।

ये भी पढ़ें-इन 8 मंत्रों से यूपी में किसानों की आय बढ़ाएगी योगी सरकार

एक अधिकारी ने बताया कि संगीत, गीता, हिन्दी और संस्कृत में विशेषज्ञता रखने वालों का एक पैनल सर्वश्रेष्ठ गायक या गायिका का चयन करेगा। प्रतियोगिता के दौरान प्रतिभागियों के उच्चारण और गायन कौशल को परखा जाएगा। माध्यमिक शिक्षा महकमे ने कहा कि इस प्रतियोगिता के लिए छात्र पर आने वाले तमाम खर्चों को संबंधित स्कूल प्राधिकारी वहन करेंगे।

सड़क निर्माण में नई तकनीक से लागत में करीब 30 प्रतिशत की कमी आएगी, यही नहीं सड़कों की मियाद भी 15 साल से बढ़कर 50 साल हो जाएगी। इसके अलावा सरकार प्रदेश की हर सड़क को कम से कम दो लेन करने जा रही है।
केशव प्रसाद मौर्य,डिप्टी सीएम, यूपी 

राज्य में नई तकनीक से बनेंगी सड़कें

मौर्य ने कहा कि लखनऊ में सड़क निर्माण में नई तकनीक पर दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस 8 और 9 दिसंबर को होने जा रही है। इसमें सड़क निर्माण में नई तकनीकी पर चर्चा होगा। उन्होंने बताया कि इस कांफ्रेंस के लिए विशेष तौर पर ब्रिटेन, जर्मनी, नीदरलैंड और ऑस्ट्रेलिया के प्रतिनिधि आ रहे हैं।

मौर्य ने कहा कि सड़कों को बेहतर बनाने के लिए यूपी का लोक निर्माण विभाग लगातार प्रयास कर रहा है। प्रदेश में गड्ढामुक्ति अभियान आगे भी जारी रहेगा। सड़कों की गुणवत्ता बढ़ाई जाएगी। प्रदेश में इस समय 15 जगहों पर नई तकनीक से सड़क बनाई जा रही है।

ये भी पढ़ें-जागरुकता की कमी और असावधानी से बढ़ी दिव्यांगता : योगी आदित्यनाथ